श्री गणेशाय नम:
Devotional Thoughts
Devotional Thoughts Read Articles सर्वसामर्थ्यवान एंव सर्वशक्तिमान प्रभु के करीब ले जाने वाले आलेख, द्वै-मासिक ( हिन्दी एंव अंग्रेजी में )
Articles that will take you closer to OMNIPOTENT & ALMIGHTY GOD, bimonthly (in Hindi & English)
Precious Pearl of Life श्रीग्रंथ के श्लोको पर दो छोटे आलेख ( हिन्दी एंव अंग्रेजी में ), प्रत्येक रविवार
Two small write-ups on Holy text (in Hindi & English), every Sunday
Feelings & Expressions प्रभु के बारे में उत्कथन ( हिन्दी एंव अंग्रेजी में ), प्रत्येक बुधवार
Quotes on GOD (in Hindi & English), every Wednesday
Devotional Thoughts Read Preamble हमारे उद्देश्य एवं संकल्प - साथ ही प्रायः पूछे जाने वाले प्रश्नों के उत्तर भी
Our Objectives & Pledges - Also answers FAQ (Frequently Asked Questions)
Visualizing God's Kindness वर्तमान समय में प्रभु कृपा के दर्शन कराते, असल जीवन के प्रसंग
Real life memoirs, visualizing GOD’s kindness in present time
Words of Prayer प्रभु के लिए प्रार्थना, कविता
GOD prayers & poems
प्रभु प्रेरणा से संकलन द्वारा चन्द्रशेखर करवा
CLICK THE SERIAL NUMBER BOX TO REACH THE DESIRED POST
SERIAL NO. MEMOIR INDEXING
(MUST READ FOR VISITORS FALLING IN THE CATEGORY)
MEMOIR LANGUAGE SENDER'S NAME EDITOR'S INTRODUCTION
41 PILGRIMAGE MEMOIR ENGLISH Mr Biplab Sengupta This memoir shows how PRABHU KRIPA (GOD's kindness) helps a hungry and penniless person who is robbed by pickpockets. In distress, it is GOD who sends help and comes to rescue.
42 ACCIDENT MEMOIR HINDI Mr Chandra Prakash Sharma This memoir shows how PRABHU KRIPA (GOD's kindness) saves a infant baby in a severe accident. The Saviour saves the infant who comes out unscratched from the accident.
43 MEDICAL MEMOIR HINDI Mrs Radha Bagree This memoir shows how an emergency situation in hospital is averted by keeping faith in Almighty GOD. The doctors were helpless but the merciful LORD came to the rescue.
44 BUSINESS MEMOIR HINDI Mr Madhav Bansal This memoir shows how a young man without parent and without a job surrenders to Almighty GOD and his well being is taken care by the Almighty.
45 PILGRIMAGE MEMOIR HINDI Mr Shiv Prasad Toshniwal This memoir shows how chanting of sacred texts serves us in our distress. This gentleman has revealed umpteen examples in his life of how chanting of sacred texts in his hour of distress leads the way towards resolution of the distress.
46 MEDICAL MEMOIR HINDI Mr Balkishan Soni This memoir shows how upkeep of faith in Holy Ganga Mata leads to a miracle and fully cures a disease when all hope was lost as per doctor's assessment.
47 MEDICAL MEMOIR HINDI Mr Ram Babu Vijay This memoir shows how upkeep of faith in Almighty GOD at every stage lead to a successful Cancer treatment. In the hour of need GOD was there to help and guide the way to a successful recovery.
48 BUSINESS MEMOIR HINDI Smt Sulochana Ghanshyam Jhawar This memoir shows how GOD helps someone who is in need of money. Negated by relatives, she prays to GOD for help and GOD fulfills the monetary requirement many folds.
49 FAMILY MEMOIR HINDI Smt Kalavati Kabra This memoir shows how devotion practised in young age makes life happy and comfortable. The principle of devotion imbibed in young age leads the way to a happy life.
50 FAMILY MEMOIR HINDI Smt Vijaya Manihar This memoir shows how upkeep of faith in Almighty GOD during difficult times leads the way to happiness. In distress, GOD was the only hope and He delivered.
Serial No. Post
41 Real-life memoir by Mr Biplab Sengupta titled GOD sent help
Indexed as PILGRIMAGE MEMOIR


Editor's Introduction : This memoir shows how PRABHU KRIPA (GOD's kindness) helps a hungry and penniless person who is robbed by pickpockets. In distress, it is GOD who sends help and comes to rescue.

Editor's Request : You may share this memoir directly via Email, Facebook, Twitter and various other social networks with the help of Share-Button available on the right vertical of this page.


GOD sent help

Long back in 1969, after attending an interview for service, I thought of visiting Sangam during my stay in Allahabad. While visiting Sangam alone in a country boat, I was robbed of all my money in possession by a group of pickpockets and only the journey ticket for Asansol was spared by them.

I reached Allahabad Railway Station at around 5 pm and was waiting for the Bombay Mail going to Howrah en route my home in Asansol. The train was scheduled to reach Allahabad sometime late at night. Since I had no money, I did not have any food on that day and therefore I was very hungry. It was around 9 pm that a gentleman aged about 40 years came to me and sat near me on the same bench and started conversation with me. He appeared to be a local person from the tone and style of his talking. After about 10 minutes, he got up and bought a bunch of Puri and Sabji from a nearby vendor and sat again and told me, ‘You have not taken any food since morning and are therefore hungry, so let us have dinner together.’ As if I was hypnotized, I obeyed him and shared the food.

After some time he told me that the Bombay Mail will have huge rush, so he asked a coolie to accompany me to the coach lying in the Railway yard which was to be attached from Allahabad to the Bombay Mail. The coolie took me to the coach and showed me a vacant upper berth to sleep and I still remember that the coolie commanded me to sleep in the berth as I was tired after a long day. The coolie never asked for any money for his services. Soon I was in sleep.

When I got up, it was morning and the train was about to reach Dhanbad. Then I started pondering as to who was the gentleman who knew everything about me despite my never telling him during the 10 minutes talk that I was hungry and I had to catch the Bombay Mail. Also, I was surprised as to why the coolie did not ask for any money from me as if it was known to him that I was penniless.

I immediately realized that it was Almighty GOD who had sent the help. Editor's comment - Whenever we are in difficulty, GOD always sends help but we must be able to visualize the invisible hand of Almighty GOD behind every aid received.

Biplab Sengupta
New Delhi


नाम / Name : Mr Biplab Sengupta
प्रकाशन तिथि / Published on : 30 June 2014

संक्षिप्त प्रेषक परिचय / Brief Introduction of Sender : I am a person of ordinary prudence, born and brought up in a middle class family. During my childhood itself, knowingly or unknowingly some system of life philosophy was injected in my heart and soul by my Grand Ma which remained intact till now. These were (a) Never tell a lie, be truth full. (b) Never compromise with injustice. (c) Never disregard poor and needy. Be helpful to them as long as you can. (d) Always be respectful to elders. (e) Never neglect parents.
Though I could hardly understand the meanings fully at that age, but by regular preaching by my Grand Ma through beautiful stories, these became my treasures. From my student life to my service period in Central Government Service, knowingly I never deviated. For not compromising with injustice, I had to fight in honorable Court of Law up to the Supreme Court, the judgments of which of course came in my favor.
By following above principles, sometimes I had to face severe criticism, but ultimately I won every time. I am now leading a peaceful retired life, not having considerable bank balance which colleagues of my status have, but I am rich enough in my heart and my monthly Pension and CGHS Card are sufficient for my livelihood and medical cover.
I have seen many ups and downs in my life, but every time I was helped by GOD to get rid of any difficult situation whenever I got into one.
42 Real-life memoir by Mr Chandra Prakash Sharma titled प्रभु की रक्षा
Indexed as ACCIDENT MEMOIR


Editor's Introduction : This memoir shows how PRABHU KRIPA (GOD's kindness) saves a infant baby in a severe accident. The Saviour saves the infant who comes out unscratched from the accident.

Editor's Request : You may share this memoir directly via Email, Facebook, Twitter and various other social networks with the help of Share-Button available on the right vertical of this page.


प्रभु की रक्षा

घटना अप्रेल 2011 की है । मैं अपनी पत्‍नी और 7 महिने के मेरे बेटे को मोटरसाईकल में लेकर अपनी साली की शादी में शामिल होने के लिए अपने ससुराल जा रहा था ।

जब हम दौसा शहर में रास्‍ता पार कर रहे थे तो हमारी मोटरसाईकल को पीछे से आ रहे एक टोला ने जोरदार टक्‍कर मारी । मैं मोटरसाईकल में ही अटक गया और घसीटता हुआ चला गया जबकि मेरी पत्‍नी छिटक कर दूसरी तरफ जा गिरी ।

मेरा सात महिने का बेटा जो पत्‍नी की गोद में था वह उछला पर प्रभु की ऐसी कृपा हुई कि हमारे साथ जो बैग था वह भी उछला और बच्‍चा उस बैग के उपर पर जा गिरा जिससे उसे खरोंच तक नहीं आई । प्रभु ने फिर रक्षा की और वह किसी आते-जाते वाहन की चपेट में नहीं आया ।

भीड ने आकर हमें उठाया और हम अस्‍पताल पहुँचे तो डाक्‍टर ने बच्‍चे का पूरा मुआयना किया और कहा कि बच्‍चा पूरी तरह से स्‍वस्‍थ है और उसके शरीर पर खरोंच तक नहीं है । संपादक टिप्पणी - बचाने वाले प्रभु के हाथ कितने बड़े होते हैं इसका जीवन्‍त उदाहरण यहाँ देखने को मिलता है । जिसकी रक्षा प्रभु करते हैं उसे भयंकर दुर्घटना में भी खरोंच तक नहीं आती ।

मेरे बच्‍चे की इतने बड़े हादसे में प्रभु ने रक्षा की और प्रभु की कृपा को मैनें अपने आँखों से देखा । इस घटना के बाद प्रभु पर मेरा अटूट विश्‍वास हो गया ।

चन्‍द्र प्रकाश शर्मा
जयपुर


नाम / Name : Mr Chandra Prakash Sharma
प्रकाशन तिथि / Published on : 01 July 2014

संक्षिप्त प्रेषक परिचय / Brief Introduction of Sender : मेरी उम्र 26 वर्ष की है । मैनें बीएड और एम. ए. की पढाई की है । मेरे परिवार में माता-पिता, दो बहिने, एक भाई एवं पत्‍नी और एक बेटा है ।
फिलहाल मैं कम्प्युटर प्रिंटर की एक कम्‍पनी में इंजीनियर के पद पर कार्यरत हूँ ।
मुझे क्रिकेट देखने का एवं किताबे पढने का शौक है । मैं प्राचीन काल के भारतीय संतो के विचारो से बहुत प्रभावित हूँ और उनके दिखाये आदर्श पर चलना चाहता हूँ ।
43 Real-life memoir by Mrs Radha Bagree titled प्रभु का चमत्‍कार
Indexed as MEDICAL MEMOIR


Editor's Introduction : This memoir shows how an emergency situation in hospital is averted by keeping faith in Almighty GOD. The doctors were helpless but the merciful LORD came to the rescue.

Editor's Request : You may share this memoir directly via Email, Facebook, Twitter and various other social networks with the help of Share-Button available on the right vertical of this page.


प्रभु का चमत्‍कार

घटना 2008 की है । मेरे पति के फेफडे में संक्रमण हुआ जिससे उन्‍हें श्‍वास लेने में तकलीफ होने लगी । उनकी जाचं हुई तो फेफडे में पानी भरा हुआ मिला । फेफडे की MRI हुई तो फेफडे की हालत बहुत ज्‍यादा खराब मिली ।

अस्‍पताल में भर्ती करवाया गया । अस्‍पताल में विशेषज्ञ डाक्‍टर देखकर गया ही था की तभी आपातकालीन स्थिति आई और साँसें तेजी से बढने लगी । एकाएक भयंकर कमजोरी भी आ गई ।

अस्‍पताल वाले स्थिति को संभाल नहीं पाये इसलिए आपात स्थिति में ही हमने उन्‍हें सबसे बड़े अस्‍पताल में स्‍थानांतरण किया । वहाँ भी ICU में रहते उनकी हालत लगातार बिगड रही थी । एकाएक एक दिन हालत ज्‍यादा बिगड गई और उनकी गर्दन लटक गई । ICU में लगे जाचं उपकरणों के सभी संकेत नकारात्‍मक आने लगें । डाक्‍टरों ने हाथ खडे कर दिये और हम लोगों को स्‍पष्‍ट कह दिया कि अब मरीज नहीं बच पायेगा । संपादक टिप्पणी - मेडिकल साईन्‍स जहाँ हाथ छोड देती है, प्रभु वहाँ से हाथ थामते हैं ।

मैं हिम्‍मत बटोर कर उनसे मिलने ICU में गई और अपने इष्‍टदेव का नाम का उच्‍चारण उनके कानो में किया ओर बहार आकर पाठ करने बैढ गई ।

अचानक अस्‍पताल के स्‍टॉफ ने मुझे बुलाया । मैं पाठ करने बैठी हुई थी ओर पाठ करते करते मैं पति से मिलने ICU में गई । मैनें देखा कि मेरे पति के आखों से अश्रुधारा बह रही थी । मैनें पुछा तो पति बोले कि मुझे प्रभु की अनुभूति हुई है । प्रभु स्‍वयं मेरी रक्षा करने आ गये हैं । अब मैं बच जाउगां ।

उसके बाद मेरे पति ठीक होते चले गये । पाँच दिन बाद हमें अस्‍पताल से छुट्टी मिली । घर पहुँचने पर मेरे पति ने सबसे पहले घर के मंदिर में प्रभु के विग्रह को अपनी छाती से लगाया । फिर कुछ दिन बाद हम दोनों अपने इष्‍टदेव के दर्शन के लिए गये । संपादक टिप्पणी - अस्‍पताल में एक विकट और आपात स्थिति से सिर्फ प्रार्थना और समर्पण के बल पर ठीक हाने का यह एक जीवन्‍त उदाहरण है ।

राधा बागडी
कोलकत्‍ता


नाम / Name : Mrs Radha Bagree
प्रकाशन तिथि / Published on : 05 Sept 2014

संक्षिप्त प्रेषक परिचय / Brief Introduction of Sender : मेरी उम्र 54 वर्ष की है । मैनें बीए किया है और एक गृहिणी हूँ । अब कुछ समय से मैं आफिस का कार्य भी सम्‍भालती हूँ ।
सत्‍संग एवं संतो के प्रवचन सुनने में मेरी रूची है । श्रीमद भगवत गीता जी पर प्रवचन सुनना मुझे अच्‍छा लगता है ।
प्रभु कृपा का जीवन में मैनें साक्षात अनुभव किया है और हर पल करती हूँ ।
44 Real-life memoir by Mr Madhav Bansal titled प्रभु ने सम्‍भाला
Indexed as BUSINESS MEMOIR


Editor's Introduction : This memoir shows how a young man without parent and without a job surrenders to Almighty GOD and his well being is taken care by the Almighty.

Editor's Request : You may share this memoir directly via Email, Facebook, Twitter and various other social networks with the help of Share-Button available on the right vertical of this page.


प्रभु ने सम्‍भाला

मैं बचपन से काफी पूजा पाठ करता था । प्रभु कृपा से मेरे में भक्ति भाव बचपन से था ।

बात सन 2009 की है । उस समय मेरे पास कुछ भी नहीं था । मेरे माता-पिता का स्‍वर्गवास हो चुका था और मैं अपने नानाजी के पास रहता था । कोई कारण से उनसे भी अनबन हो गई और मैंने उनके गृह का भी त्‍याग कर दिया ।

विपदा के समय मैंने प्रभु को और अपनी कुलदेवी को पुकारा क्‍योंकि मेरे पास कुछ भी नहीं था । कोई नौकरी नहीं थी यहाँ तक की खाने की भी सुचारू व्‍यवस्‍था नहीं थी । पर मैनें प्रभु को नहीं छोडा और प्रभु ने मुझे अनुभूति दी । साक्षात तुलसी माता के पौधे में मुझे प्रभु की अनुभूति हूई और प्रतीत हुआ जैसे प्रभु आर्शीवाद देकर कह रहें हैं कि अगर तुम सच्‍चे मार्ग में चलते रहोगे तो मैं (प्रभु) तुम्‍हारे साथ हूँ ।

कुछ ही दिनों में प्रभु कृपा के दर्शन हुये और लक्ष्‍मण झुला की एक कम्‍पनी से नौकरी के लिए बुलावा आया । कुछ वर्ष नौकरी करके कुछ रूपये जमा करके कुछ वर्षो बाद मैनें अपना व्‍यवसाय शुरू किया । आज मेरा बड़ा शोरूम है और आज मैं जिस मुकाम पर हूँ उसके बारे में मैं कभी सोच भी नहीं सकता था । आज मेरे पास घर, शोरूम, गाड़ी इत्‍यादी सब कुछ है ।

मैनें पाया कि हम प्रभु की तरफ एक कदम बढाते हैं तो प्रभु हमारे पीछे आकर खडे हो जाते हैं । मेरे पास दुकान खोलने हेतु कोई पैसा नहीं था पर कैसे नौकरी लगी और फिर कैसे सुचारू व्‍यवस्‍था हुई इसका मुझे पता भी नहीं चला । मेरा दृढ विश्‍वास हो गया कि प्रभु सच्‍ची इच्‍छा अवश्‍य पूरी करते हैं ।

मैं सदैव प्रभु से यही प्रार्थना करता था कि मेरे लिए जो सही हो वह करें एवं जो सही नहीं हो वह नहीं करें । सभी चीजों में मैं प्रभु का अनुग्रह देखता हूँ । कोई चीज मुझे नहीं मिलती तो मैं ऐसा सोचता हूँ की प्रभु ने उसे मेरे लायक नहीं माना इसलिए वह मुझे प्रदान नहीं की । संपादक टिप्पणी - सभी चीजों में प्रभु का अनुग्रह देखना जीवन जीने की एक श्रेष्‍ठत्‍तम कला है ।

माधव बंसल
स्‍वर्गोश्रम


नाम / Name : Mr Madhav Bansal
प्रकाशन तिथि / Published on : 10 Oct 2014

संक्षिप्त प्रेषक परिचय / Brief Introduction of Sender : मेरी उम्र 26 वर्ष की है । मैंने एम. कॉम. तक पढाई की है । मेरा घर मथुरा-वृंदावन में है पर 20 वर्षो से मैं स्‍वर्गोश्रम में रहता हूँ ।
मेरे से कोई दुःखी न हो और मेरे कर्म किसी को कष्‍ट नहीं पहुँचाये - यह मेरे जीवन का उद्देश्य है ।
श्रीमद भगवत गीता जी का एक श्‍लोक भावार्थ के साथ रोज पढने का निवेदन मैं सबसे करता हूँ ।
45 Real-life memoir by Mr Shiv Prasad Toshniwal titled प्रभु मंत्र की शक्ति
Indexed as BUSINESS MEMOIR


Editor's Introduction : This memoir shows how chanting of sacred texts serves us in our distress. This gentleman has revealed umpteen examples in his life of how chanting of sacred texts in his hour of distress leads the way towards resolution of the distress.

Editor's Request : You may share this memoir directly via Email, Facebook, Twitter and various other social networks with the help of Share-Button available on the right vertical of this page.


प्रभु मंत्र की शक्ति

घटना उस समय की है जब हम नेमीशारण तीर्थ से सीतापुर जा रहे थे । वहाँ से हमें आगे के लिए ट्रैन पकडनी थी । हम कुल 6 व्‍यक्ति थे और नेमीशारण तीर्थ से सीतापुर तक 30 किलोमीटर की दूरी तय करने के लिए हमने किराये की गाडी कर ली थी ।

हमारी गाडी रवाना होकर थोडी दूर पहुँची और गाडी का टायर पंचर हो गया । ट्रैन छुटने में मात्र आधा घंटा का समय बचा था । मैं बहुत परेशान हो उठा की ट्रैन निश्‍चित छुट जायेगी और सारा प्रोग्राम बिगड जायेगा । किसी कारणवश मेरा तत्‍काल घर पहुँचना बेहद जरूरी था ।

विपत्ति में मैनें श्री हनुमान चालिसा का मन में पाठ करना प्रारम्‍भ किया और आधे घंटे में 10-12 पाठ कर लिये ।

तब तक गाडी का टायर बदला जा चुका था और गाडी फिर से रवाना हुई । तब तक हमें काफी विलम्‍ब हो चुका था और हम सीतापुर के रेलवे स्‍टेशन ट्रैन छुटने के निधारित समय के प्रश्‍चात पहुँचे । पर मेरे आर्श्‍चय का ठिकाना नहीं रहा जब हमें पता चला की ट्रैन अभी आई ही नहीं है और 1-1‍/2 घंटे विलम्‍ब से चल रही है ।

यह तो एक छोटा उदाहरण है पर मेरे जीवन में न जाने कितने छोटे बड़े प्रसंग हैं जिसमें विपत्ति के समय जब भी मैं श्री हनुमान चालिसा का पाठ करता हूँ तो उस विपत्ति का निवारण हो जाता है । संपादक टिप्पणी - श्री हनुमान चालिसा जी एक अदभूत पाठ है जो तत्‍काल संकट को हरता है । यह संकटमोचन श्री हनुमान जी प्रभु का महा्नतम स्त्रोत्र है और युगो से असंख्‍य लोगों ने असंख्‍य बार छोटी से छोटी और बड़ी से बड़ी विपत्ति में इसका पाठ करके इसके चमत्‍कार को साकार होते देखा है ।

शिव प्रसाद तोषनीवाल
जिन्‍टुर


नाम / Name : Mr Shiv Prasad Toshniwal
प्रकाशन तिथि / Published on : 18 Nov 2014

संक्षिप्त प्रेषक परिचय / Brief Introduction of Sender : मेरी उम्र 78 वर्ष की है । मैंने अनाज का व्‍यापार किया और फिर कपडे का व्‍यवसाय किया ।
मेरे परिवार में चार लडके हैं जो मेरे साथ रहते हैं और अब व्‍यापार सम्‍भलते हैं । मैं सेवानिवृत हो चुका हूँ ।
मैनें सभी तीर्थों के दर्शन कर लिये हैं और पिछले 18 वर्षो से पूरे वर्ष में एक माहिने ऋषिकेश आकर रहता हूँ ।
सत्‍संग मुझे प्रिय है और जहाँ भी सत्‍संग का मौका मिलता है मैं उसका लाभ लेता हूँ ।
46 Real-life memoir by Mr Balkishan Soni titled गंगा जल का चमत्‍कार
Indexed as MEDICAL MEMOIR


Editor's Introduction : This memoir shows how upkeep of faith in Holy Ganga Mata leads to a miracle and fully cures a disease when all hope was lost as per doctor's assessment.

Editor's Request : You may share this memoir directly via Email, Facebook, Twitter and various other social networks with the help of Share-Button available on the right vertical of this page.


गंगा जल का चमत्‍कार

मैं वल्‍लभ संप्रदाय से हूँ और प्रभु के बालरूप में श्री लड्डुगोपालजी की सेवा मैं करता हूँ । श्री गंगा माता में मेरी अटूट श्रद्धा है ।

घटना 17 वर्ष पूर्व की है । मेरे तकलीफ हुई और डाक्‍टर को दिखलाया तो डाक्‍टर ने कहा कि फिस्‍टुला नामक बिमारी हुई है । इसमें मल निकलने की जगह के आसपास घाव हो जाते हैं और उसमें पस भर जाता है ।

डाक्‍टर ने ईलाज किया पर कोई फर्क नहीं पडा तो अन्‍त में डाक्‍टर ने कहा कि ऑपरेशन करके इसे निकालना होगा ।

ऑपरेशन हुआ और 2 गांठ निकाली गई जिसकी बाईओपसी के लिए दो जगह भेजा गया । रिपोर्ट बहुत खराब आयी कि उसमें भयंकर टी बी है । डाक्‍टरों ने परिवार वालों को कहा कि 4-6 महिना का जीवन ही बचा है । मुझे भी यह बात पता चल गई की अब जीवन में कुछ ही महीने शेष बचे हैं ।

मेरी एक इच्‍छा मन में थी । मैनें 1952 से कई बार चार धाम की यात्रा की थी पर किसी भी बार श्री गंगोत्री जी के दर्शन नहीं हुये थे । मेरी गंगा माता में पूर्ण श्रद्धा थी और श्री गंगोत्री जी में गंगा माता के दर्शन करने की हार्दिक इच्‍छा थी ।

मैनें अपने परिवार वालो को अपनी इच्‍छा बताई तो मेरे परिवार में, ससुराल में इसका भयंकर विरोध हुआ । कोई मुझे इस अवस्‍था में दर्शन हेतु जाने नहीं देना चाहता था ।

पर मैं अपने निश्‍चय पर अडिग था । अन्‍त में परिवार तैयार हुआ । मेरी अवस्‍था यह थी कि मुझे दिन में 2-3 बार ड्रेसिंग करानी पडती थी क्‍योंकि घाव से पस निरंतर निकलता रहता था ।

मैं परिवार समेत श्री गंगोत्री धाम पहुँचा । गंगा माता के दर्शन किये । 30 मिनट तक माता के निर्मल जल में स्‍नान किया और माता का अभिषेक किया ।

प्रभु की ऐसी कृपा हुई और गंगाजल का ऐसा चमत्‍कार हुआ कि जब में वापस आया तो फोड़े फुट गये । डाक्‍टरो ने देखा और छोटा ओपरेशन कर उस जगह को साफ किया । फिर बाईओपसी के लिए भेजा गया ।

रिपोर्ट आई तो टी बी गायब मिला । 8-10 दिन में ऑपरेशन की जगह पूरी तरह से भर चुकी थी और मैं बिलकुल स्‍वस्‍थ था ।

अब 17 वर्ष हो गये और मैं बिलकुल ठीक हूँ । दोबारा कभी परेशानी नहीं हुई ।

जिस बिमारी का कोई ईलाज नहीं था और अमेरिका तक के डाक्‍टरों ने ऐसा कहा था और मेरे जीवन के कुछ महीने ही शेष बताये थे उस तकलीफ को मेरे लालाजी (प्रभु) के श्रीकमल चरणों से निकली गंगा जल ने ठीक कर दिया । संपादक टिप्पणी - (1) 17 वर्ष पूर्व की यह घटना है जिस समय टी बी एक बड़ी भयंकर एवं लाईलाज बिमारी हुआ करती थी । (2) गंगाजल प्रभु के श्रीकमल चरणों से निकला अमृत है । अगर हम इस श्रद्धा से उसका सेवन एवं दर्शन करते हैं तो साक्षात चमत्‍कार होता है जैसा की इस प्रसंग में देखने को मिला ।

प्रभु की कृपा एवं गंगाजल के चमत्‍कार के साक्षात दर्शन मैनें किये ।

बालकिशन सोनी
इच्‍छलकरणजी


नाम / Name : Mr Balkishan Soni
प्रकाशन तिथि / Published on : 16 March 2015

संक्षिप्त प्रेषक परिचय / Brief Introduction of Sender : मैं 78 वर्ष का हूँ । मेरे कपडे का व्‍यवसाय है । परिवार में तीन लडके और दो लडकी एवं पत्‍नी है ।
मेरा काफी समय सत्‍संग में बीतता है एवं मैनें प्राय: सभी तीर्थो की यात्रा कर ली है ।
सत्‍संग में मेरी विशेष रूची है एवं वर्ष में छ: महिने मैं धार्मिक आयोजनों का लाभ लेने हेतु घर से बाहर तीर्थो में रहता हूँ ।
47 Real-life memoir by Mr Ram Babu Vijay titled प्रभु कृपा में विश्‍वास
Indexed as MEDICAL MEMOIR


Editor's Introduction : This memoir shows how upkeep of faith in Almighty GOD at every stage lead to a successful Cancer treatment. In the hour of need GOD was there to help and guide the way to a successful recovery.

Editor's Request : You may share this memoir directly via Email, Facebook, Twitter and various other social networks with the help of Share-Button available on the right vertical of this page.


प्रभु कृपा में विश्‍वास

यह घटना तब की है जब 1989 मैं हौशंगाबाद (मध्‍य प्रदेश) में एक बैंक में मुख्‍य प्रबंधक था ।

बैंक से यात्रा सुविधा लेकर सिक्किम गये । मेरी माताजी यात्रा में साथ थी और हम एक महिने में लौटकर आये । मां की उम्र 70 वर्ष की थी और बढती उम्र के कारण उनके कुछ न कुछ स्‍वास्‍थ समस्‍या चलती रहती थी । इसलिए हमनें निर्णय लिया कि इंदौर जा कर उनका पूरा मेडिकल जांच करवाया जाये ।

हम हौशंगाबाद से इंदौर आ गये और अस्‍पताल पहुँचे । उसी समय पत्‍नी ने कहा कि मेरी छाती में एक बड़ी फुंसी हो गई है तो मैनें कहा कि लगे हाथ अस्‍पताल के आउटडोर में डाक्‍टर को दिखा देते हैं ।

मैं अपनी माता के साथ था और पत्‍नी ने जैसे ही डाक्‍टर को दिखाया तो डाक्‍टर ने गंभीर हो कर कहा कि अपने पति को बुलाकर लाओ । मैं डाक्‍टर से मिलने गया तो उन्‍होंने कहा कि यह तो गांठ है जिसकी बायोप्सी करेंगे तब पता चलेगा कि साधारण गांठ है या कैंसर की गांठ है । कैंसर का नाम सुनते ही मैं घबरा गया । पर मैनें तत्‍काल प्रभु का स्‍मरण किया की अब आप ही संम्‍भले । संपादक टिप्पणी - विपत्ति के पहले संकेत में ही सच्‍चे मन से प्रभु की शरणागति लेना तत्‍काल हमें उस प्रतिकूलता से उबारने का रास्‍ता साफ करता है ।

मैं वहाँ के लेबोरेटरी में एक व्‍यक्ति को जानता था । मैं उनसे मिला तो उन्‍होंने कहा कि पत्‍नी को भर्ती करवा दो, गांठ का हिस्‍सा काट कर बायोप्सी के लिए जब आयेगा तो मैं तुरंत जांच कर रिपोर्ट दे दूंगा ।

पत्‍नी को भर्ती कराया और ऑपरेशन थियेटर में ले जाकर 9 ग्लैन्‍ड निकाले जिसकी जांच में 7 में कैंसर आया जो की बहुत जल्‍दी बढने वाला कैंसर था ।

प्रभु की कृपा के दर्शन मुझे हुये की ऑपरेशन थियेटर में पत्‍नी के रहते ही रिपोर्ट आ गई जो की औसतन 15 दिन में आती है । डाक्‍टरों ने मुझसे पुछा कि क्‍या करना है । मैनें कहा की जो आपको उचित लगे सो निर्णय लेवें । उन्‍होंने तुरंत ऑपरेशन का निर्णय लिया और पूरी गांठ को निकाल दिया । हम 9-10 दिन अस्‍पताल में रहे ।

छुट्टी मिलने पर डाक्‍टरों ने कहा कि आगे रेडियो शेक करना पडेगा जिसके लिए हमें मुम्‍बई या अहमदाबाद में से एक जगह जाने का निर्णय लेना था । पर मैं पहले प्रभु को सफल ऑपरेशन हेतु धन्‍यवाद देने और आगे का मार्गदर्शन लेने खजराना (इंदौर) के श्री गणपतिजी के मंदिर पहुँचा । संपादक टिप्पणी - प्रभु को हर चीज के लिए धन्‍यवाद देने की आदत एवं प्रभु से हर चीज में मार्गदर्शन लेने की आदत सच्‍ची प्रभु भक्ति की निशानी है ।

प्रभु की कृपा के फिर दर्शन हुये जब दूसरे ही दिन हमें पता चला कि मुम्‍बई के एक बहुत बडे अस्‍पताल के हेड आफ डिपाटमेंन्‍ट (कैंसर विभाग) लैक्‍चर देने के लिए एक दिन के लिए इंदौर आये हैं । उन्‍होंने 2-3 रोगी को ही देखा जिसमें प्रभु कृपा से हमारा नम्‍बर आ गया । उन्‍होंने कहा कि रेडियो शेक की आवश्‍यकता नहीं है और उन्‍होंने 6 महिने का केमीयोथेरेपी का कोर्स लिख दिया ।

6 महिने केमीयोथेरेपी चली पर हर बार इन्‍जेक्‍सन से हिमोग्लोबिन कम हो जाता था और अगले इन्‍जेक्‍शन के लिए डाक्‍टर मना कर देते थे । मैनें फिर प्रभु को पूकारा और प्रभु कृपा के फिर दर्शन हुये और एक सज्‍जन मिले जिन्‍होंने कहा कि पत्‍नी को खुब अनार खिलाओ इससे हिमोग्लोबिन की समस्‍या खत्‍म हो जायेगी ।

ऐसा ही हुआ और प्रभु कृपा से पत्‍नी का इलाज सफल हुआ । पत्‍नी को मुम्‍बई के सबसे बड़े कैंसर अस्‍पताल में दिखाया तो उन्‍होंने कहा कि इतना बढिया ओपरेशन हुआ है जिससे गांठ पूरी तरह से निकल गई है और कैंसर पूरी तरह से खत्‍म हो गया है । अब पत्‍नी पूरी तरह स्‍वस्‍थ है ।

प्रभु की कृपा देखें की माता की जांच के लिए गये थे और घर से चले थे तब पत्‍नी के कोई गांठ नहीं थी । फिर कैंसर की गांठ एकाएक इतनी बढी और इतनी जल्‍दी बढने वाला कैंसर का पता तत्‍काल चला, तत्‍काल सफल ऑपरेशन हुआ और ऐसी प्रभु कृपा हुई की कैंसर जड से खत्‍म हो गया । थोडा भी विलम्‍ब होता तो वह कैंसर जानलेवा हो सकता था । संपादक टिप्पणी - प्रभु में रखा विश्‍वास हर प्रतिकूलता को अनुकूलता में परिवर्तित कर देता है । प्रभु कृपा होती है तो या हम सहायता तक सही समय पहुँच जाते हैं या फिर सहायता चल कर सही समय हमारे तक पहुँच जाती है ।

राम बाबु विजय
उज्‍जैन


नाम / Name : Mr Ram Babu Vijay
प्रकाशन तिथि / Published on : 27 March 2015

संक्षिप्त प्रेषक परिचय / Brief Introduction of Sender : मेरी उम्र 66 वर्ष की है । मैनें M.Com,LLB एवं CAIIB किया है । मैनें ज्‍योतिषाचार्य का अध्‍ययन भी किया है ।
मैंने बैंक की 38 वर्ष सन 1969 से 2008 तक नौकरी की और मुख्‍य प्रबंधक के पद से सेवानिवृत हुआ ।
परिवार में पत्‍नी, एक लड़का एवं दो लड़किया हैं । मैनें सारे र्तीथों के दर्शन कर लिये हैं एवं सत्‍संग मुझे प्रिय है । जहाँ भी सत्‍संग का मौका मिलता है मैं उसका लाभ लेने के लिए जाता हूँ ।
48 Real-life memoir by Smt Sulochana Ghanshyam Jhawar titled प्रभु की आर्थिक कृपा
Indexed as BUSINESS MEMOIR


Editor's Introduction : This memoir shows how GOD helps someone who is in need of money. Negated by relatives, she prays to GOD for help and GOD fulfills the monetary requirement many folds.

Editor's Request : You may share this memoir directly via Email, Facebook, Twitter and various other social networks with the help of Share-Button available on the right vertical of this page.


प्रभु की आर्थिक कृपा

बात उस समय की है जब जरूरत के समय हमें रूपयों की बड़ी आवश्‍यकता थी । मैं अपने रिश्तेदार के पास गई और दस हजार रूपये मागें पर उन्‍होंने देने से इन्‍कार कर दिया ।

मैं निराश थी कि अब जरूरत की पूर्ति कैसे होगी । पर मुझे प्रभु पर अटुट विश्‍वास था । मैंने नरसीयबाडी स्थित श्री दत्‍तात्रेय प्रभु के मंदिर में जा कर दर्शन किया और प्रभु से समाधान चाहा । संपादक टिप्पणी - हम संसार से समाधान चाहते हैं पर सच्‍चा समाधान तो प्रभु ही देते हैं ।

हम लौट रहे थे तो मौसम खराब हो गया था । एक छोटा लड़का जो लॉटरी की टिकट बेच रहा था वह लॉटरी की टिकट हमें बचने के लिए हमारे पीछे लग गया । हम कभी लॉटरी की टिकट नहीं खरीदते थे पर वह लड़का इतना पीछे पडा की आखिरकार हार कर उससे पीछा छुडाने के लिए हमें एक टिकट खरीदना पडा ।

फिर प्रभु कृपा के साक्षात दर्शन हुये जब उस लॉटरी के टिकट में एक लाख का ईनाम निकला । ऐसा साफ प्रतीत हुआ कि हमने अपनी समस्‍या प्रभु के सामने रखी और प्रभु ने राशी हमारे तक पहुँचाने के लिए लॉटरी और उस लड़के को निमित बनाया । वह लॉटरी बेचने वाला लड़का इतना पीछे पडा की बाध्‍य होकर हमें लॉटरी की टिकट लेनी पडी और हमारे ईनाम निकल गया । संपादक टिप्पणी - हर अनूकुलता में प्रभु की कृपा और सहयोग का भान होना चाहिए । संसार तो मात्र निमित बनता है उस सहयोग को पहुँचाने का, पर सहयोग भेजने वाले तो सदैव प्रभु ही होते हैं । इस तरह हमें जरूरत से बहुत ज्‍यादा मिल गया ।

मैनें प्रभु सेवा के लिए उन रूपयो में से कुछ रूपये अलग निकाले । प्रभु को धन्‍यवाद ज्ञापित करने के लिए हम श्री तिरूपति बालाजी प्रभु के दर्शन के लिए गये ।

श्रीमति सुलोचना धनश्‍याम झंवर
जयसिहपुर (कोल्‍हापुर-महाराष्‍ट्र)


नाम / Name : Smt Sulochana Ghanshyam Jhawar
प्रकाशन तिथि / Published on : 03 April 2015

संक्षिप्त प्रेषक परिचय / Brief Introduction of Sender : मेरी उम्र 70 वर्ष की है । परिवार में तीन बेटे-बहु, पोते-पोती हैं जो सभी साथ रहते हैं ।
मैंने चार धाम की यात्रा, श्री अमरनाथजी के दर्शन, श्री वैष्‍णव देवी के दर्शन और चौरासी कोस की बृज यात्रा की है । इसके अलावा भी अन्‍य प्रमुख तीर्थो के दर्शन मैंने कर लिये हैं ।
सत्‍संग का जहाँ भी मौका मिलता है मैं उसका लाभ लेने के लिए जाती हूँ ।
49 Real-life memoir by Smt Kalavati Kabra titled प्रभु की बचपन में कृपा
Indexed as FAMILY MEMOIR


Editor's Introduction : This memoir shows how devotion practised in young age makes life happy and comfortable. The principle of devotion imbibed in young age leads the way to a happy life.

Editor's Request : You may share this memoir directly via Email, Facebook, Twitter and various other social networks with the help of Share-Button available on the right vertical of this page.


प्रभु की बचपन में कृपा

मैं जब बचपन याद करती हूँ तो प्रभु कृपा के साक्षात दर्शन मुझे होते हैं ।

प्रभु ने बचपन में ऐसा घर और माता-पिता दिये जिन्‍होंने प्रभु की भक्ति के संस्‍कार बचपन में दिये ।

यह उस जीव पर प्रभु की असीम कृपा होती है जब बचपन से ही उसमें प्रभु के लिए श्रद्धा भक्ति का जागरण होता है । क्‍योंकि बचपन में मिले प्रभु भक्ति के संस्‍कार इतने दृढ बन जाते हैं कि उस जीव का जीवन भर रक्षण करते हैं ।

बचपन में माता-पिता के घर प्रभु सेवा देखी और उसका अनुसरण किया । मुझे याद है कि घर का नियम था की उठने के बाद दुध तब तक पीने को नहीं मिलता जब तक स्‍नान करके प्रभु के सामने बैठकर हरि पाठ न कर लिया हो । प्रभु की साक्षात कृपा थी की इस एक नियम के चलते सुबह उठते ही सबसे पहले प्रभु स्‍मरण की आदत बन गई ।

शाम को भी घर का नियम था कि एक घंटा श्री राम-राम का जप करने पर एक आना (पैसा) मिलता था । एक आने से उस समय बहुत कुछ आता था और उस लालच में एक घंटा प्रभु नाम जप करने की आदत जीवन भर के लिए बन गई ।

प्रभु ने ऐसी कृपा करी कि इन दो नियमों के कारण जीवन भर के लिए संस्‍कार बन गये और प्रभु की ऐसी लगन लगी की जीवन भर प्रभु का साथ मिलता रहा । संपादक टिप्पणी - माता-पिता का दायित्‍व होता है घर का वातावरण ऐसा रखें की बच्‍चों में प्रभु भक्ति के संस्‍कार पडे । यह उन बच्‍चों के भावी जीवन की सफलता की कूंजी होती है । बच्‍चों में प्रभु भक्ति जागृत किये बिना मातृऋण और पितृऋण बनते नहीं ।

श्रीमति कलावती काबरा
गंगाखेड (परमनी-महाराष्‍ट्र)


नाम / Name : Smt Kalavati Kabra
प्रकाशन तिथि / Published on : 10 April 2015

संक्षिप्त प्रेषक परिचय / Brief Introduction of Sender : मेरी उम्र 69 वर्ष की है । मेरे पति डाक्‍टर हैं और परिवार में दो बेटे-बहु और तीन पोती एवं एक पोता है जो साथ रहते हैं ।
प्रभु के बालरूप श्री लड्डुगोपालजी की सेवा करती हूँ ।
प्राय: सभी तीर्थो के दर्शन मैंने कर लिये हैं और सत्‍संग मुझे बहुत प्रिय है । मैं सत्‍संग के बिना नहीं रह सकती इसलिए जहाँ भी सत्‍संग का मौका मिलता है मैं उसका लाभ लेने के लिए जाती हूँ ।
50 Real-life memoir by Smt Vijaya Manihar titled प्रतिकुलता से अनुकूलता
Indexed as FAMILY MEMOIR


Editor's Introduction : This memoir shows how upkeep of faith in Almighty GOD during difficult times leads the way to happiness. In distress, GOD was the only hope and He delivered.

Editor's Request : You may share this memoir directly via Email, Facebook, Twitter and various other social networks with the help of Share-Button available on the right vertical of this page.


प्रतिकुलता से अनुकूलता

बचपन से माता पिता ने पूजा पाठ के संस्‍कार दिये थे । प्रभु के सानिध्य में रहने से प्रभु की कृपा प्रतिकुल परिस्थिति में भी कैसे काम करती है और प्रतिकुलता से उबार देती है यह प्रसंग मेरे जीवन में देखने को मिला ।

शादी बहुत अच्‍छी जगह हुई । तीन बच्‍चों का जन्‍म हुआ । फिर प्रतिकुलता आई और व्‍यापार में घाटा लगा । मेरे पति का स्‍वर्गवास हुआ । मेरे पति के तीन भाई थे जो साथ रहते थे, वे अलग हो गये । मैं अपने बच्‍चो के साथ अकेली रह गई तो मेरे पीहर वाले मुझे आकर ले गये । चार वर्ष मैं उनके साथ रही ।

मेरे भाई की शादी होने वाली थी और हमारे पीहर का घर छोटा था इसलिए मैं मेरे मौसी के घर में जाकर रहने लगी ।

मैनें प्रभु की शरणगति ली और प्रभु की कृपा जीवन में होने लगी । मेरे एक बेटे को उसके मामा ने काम पर लगाया । मेरी लडकी शादी लायक हो चुकी थी तो मेरे पीहर और ससुराल वालों ने मिलकर बहुत अच्‍छे ढंग से उसका विवाह करवाया ।

मेरे छोटे बेटे पर प्रभु की कृपा हुई और वह इतने ध्‍यान से पढने लगा और सदा मेरिट मे आने लगा । उसे छात्रवृत्ति मिली और वह एक डाक्‍टर बन गया ।

प्रभु की सेवा-पूजा, सत्‍संग और प्रभु पर भरोसा रखने का फल था की देखते ही देखते प्रतिकुलता अनुकूलता में बदल गई और अब इतनी समृद्धि है की दोनों बेटे खुब कमा रहे हैं । दोनो बहुयें बहुत अच्‍छी और संस्‍कारयुक्‍त आई हैं जो मेरा खुब ध्‍यान रखती हैं ।

मेरी नैया पूरी तरह से मझधार में थी जिसे साक्षात प्रभु ने पार लगाई । प्रभु कृपा का साक्षात अनुभव मैंने किया है । संपादक टिप्पणी - प्रतिकुलता को अनुकूलता में प्रभु के अलावा कोई नहीं बदल सकता । प्रभु कृपा से ही ऐसा संभव होता है, इसके लिए अन्‍य कोई उपाय नहीं है ।

श्रीमति विजया मनियार
मंठा (झालाना-महाराष्‍ट्र)


नाम / Name : Smt Vijaya Manihar
प्रकाशन तिथि / Published on : 17 April 2015

संक्षिप्त प्रेषक परिचय / Brief Introduction of Sender : मेरी उम्र 58 वर्ष की है । मेरे परिवार में दो बेटे-बहु, एक पोती और एक पोता है । सभी मेरे साथ रहते हैं ।
प्रभु श्री लड्डुगोपालजी की सेवा में नित्‍य करती हूँ ।
सभी तीर्थो के दर्शन मैंने कर लिये हैं एवं प्रभु कृपा से सभी तीर्थो में रहकर मैंने श्रीमद भागवतजी का श्रवण किया है । सत्‍संग का जहाँ मौका मिलता है मैं जाकर उसका लाभ लेती हूँ ।