श्री गणेशाय नम:
Devotional Thoughts
Devotional Thoughts Read Articles सर्वसामर्थ्यवान एंव सर्वशक्तिमान प्रभु के करीब ले जाने वाले आलेख, मासिक ( हिन्दी एवं अंग्रेजी में )
Articles that will take you closer to OMNIPOTENT & ALMIGHTY GOD, monthly (in Hindi & English)
Precious Pearl of Life श्रीग्रंथ के श्लोको पर छोटे आलेख ( हिन्दी एवं अंग्रेजी में ), प्रत्येक दिन
Small write-ups on Holy text (in Hindi & English), every day
Feelings & Expressions प्रभु के बारे में उत्कथन ( हिन्दी एवं अंग्रेजी में ), प्रत्येक दिन
Quotes on GOD (in Hindi & English), every day
Devotional Thoughts Read Preamble हमारे उद्देश्य एवं संकल्प - साथ ही प्रायः पूछे जाने वाले प्रश्नों के उत्तर भी
Our Objectives & Pledges - Also answers FAQ (Frequently Asked Questions)
Visualizing God's Kindness वर्तमान समय में प्रभु कृपा के दर्शन कराते, असल जीवन के प्रसंग
Real life memoirs, visualizing GOD’s kindness in present time
Words of Prayer प्रभु के लिए प्रार्थना, कविता
GOD prayers & poems
प्रभु प्रेरणा से लेखन द्वारा चन्द्रशेखर करवा
CLICK THE SERIAL NUMBER BOX TO REACH THE DESIRED POST
697 698 699 700
701 702 703 704
705 706 707 708
709 710 711 712
713 714 715 716
717 718 719 720
क्रम संख्या श्रीग्रंथ अध्याय -
श्लोक संख्या
भाव के दर्शन / प्रेरणापुंज
697 श्रीमद भागवतमहापुराण
(दशम स्‍कन्‍ध)
अ 29
श्लो 16
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... अरे ! उनके संकल्‍प मात्र से - भौंहो के इशारे से सारे जगत का परम कल्‍याण हो सकता है ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन प्रभु श्रीशुकदेवजी ने राजा परीक्षित को कहे ।

प्रभु के संकल्‍प मात्र से सारे जगत का परम कल्‍याण हो जाता है । प्रभु को स्‍वयं कुछ भी करने की आवश्‍यकता नहीं क्‍योंकि प्रभु के संकल्‍प करते ही सभी का कल्‍याण स्‍वत: ही हो जाता है । प्रभु के भौंहो के इशारे मात्र से जीव और जगत का परम कल्‍याण सिद्ध हो जाता है । सारे जगत के कल्‍याण को करने की क्षमता एकमात्र प्रभु ही रखते हैं । प्रभु को अपनी उस क्षमता को उपयोग करने के लिए मात्र संकल्‍प करने की आवश्‍यकता है । प्रभु जगत के परम हितैषी हैं और जगत के कल्‍याण के लिए तत्‍पर रहते हैं ।

इसलिए जो भी अपना कल्‍याण चाहता है उसे अपने को भक्ति के द्वारा प्रभु से जोड़ कर रखने की आवश्‍यकता है ।

प्रकाशन तिथि : 12 मार्च 2017
698 श्रीमद भागवतमहापुराण
(दशम स्‍कन्‍ध)
अ 29
श्लो 17
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... तब उन्‍होंने अपनी विनोदभरी वाकचातुरी से उन्‍हें मोहित करते हुए कहा - क्‍यों न हो - भूत, भविष्‍य और वर्तमान काल के जितने वक्‍ता हैं, उनमें वे ही तो सर्वश्रेष्‍ठ हैं ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन प्रभु श्रीशुकदेवजी ने राजा परीक्षित को कहे ।

जब प्रभु ने श्रीरास में गोपियों का आव्हान करने के लिए बंसी वादन किया तो उसे सुनकर सभी गोपियां प्रभु से मिलने के लिए दौड़ कर आ गई । जब प्रभु ने देखा कि गोपियां प्रभु के एकदम समीप आ पहुँची तब प्रभु ने उन्‍हें मोहित करने के लिए अपने मधुर वचन बोलने प्रारंभ किये । प्रभु श्रीशुकदेवजी कहते हैं कि भूत, भविष्‍य और वर्तमान काल में जितने भी वक्‍ता हुये हैं उनमें प्रभु सर्वश्रेष्‍ठ हैं । प्रभु के जैसा वाकचातुर्य किसी अन्‍य के पास नहीं है । प्रभु की वाणी अपना जादु करके जीव को मोहित कर देती है ।

प्रभु अपने प्रत्‍येक व्‍यवहार से जीव को माहित कर देते हैं ।

प्रकाशन तिथि : 12 मार्च 2017
699 श्रीमद भागवतमहापुराण
(दशम स्‍कन्‍ध)
अ 29
श्लो 30
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
गोपियों ने अपने प्‍यारे श्‍यामसुन्‍दर के लिये सारी कामनाएं, सारे भोग छोड़ दिये थे । श्रीकृष्ण में उनका अनन्‍त अनुराग, परम प्रेम था । .....


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन प्रभु श्रीशुकदेवजी ने राजा परीक्षित को कहे ।

गोपियों का प्रभु प्रेम एक आदर्श है । उनके प्रभु प्रेम को समझना भी बहुत कठिन है । प्रभु में उनका इतना अथाह प्रेम है जिसकी कल्‍पना भी हम नहीं कर सकते तो शब्‍दों में बयां करना तो सर्वथा असंभव है । प्रभु श्रीशुकदेवजी कहते हैं कि गोपियों ने अपने प्‍यारे प्रभु के लिए अपनी सारी कामनाओं का त्‍याग कर दिया था । उन्‍होंने प्रभु के लिए सारे संसारिक भोगों को ठुकरा दिया था । प्रभु से उनका अत्‍यन्‍त अनुराग था और परम प्रेम था । गोपियों के लिए प्रभु ही उनके सब कुछ थे । वे मात्र प्रभु के लिए ही अपना जीवन धारण करती थी ।

प्रभु प्रेम की सच्‍ची उँचाईयों को गोपियों ने छुआ था इसलिए गोपियां प्रभु प्रेम की आदर्श हैं ।

प्रकाशन तिथि : 13 मार्च 2017
700 श्रीमद भागवतमहापुराण
(दशम स्‍कन्‍ध)
अ 29
श्लो 31
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... फिर भी तुम अपनी ओर से, जैसे आदिपुरूष भगवान नारायण कृपा करके अपने मुमुक्षु भक्‍तों से प्रेम करते हैं, वैसे ही हमें स्‍वीकार कर लो । हमारा त्‍याग मत करो ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन गोपियों ने प्रभु से कहे ।

जब गोपियां प्रभु का बंसी वादन सुन कर श्रीरास के लिए आई तो पहले तो प्रभु ने उनको महाभाग्‍यवती कह कर उनका स्‍वागत किया पर फिर उन्‍हें उनके परिवार और संसारिक कर्तव्य की याद दिला कर और रात्री का समय है यह कह कर वापस जाने को कहा । यह सुनते ही गोपियों का मुंह लटक गया, वे चुपचाप खड़ी रही और उनकी आँखें रोते रोते लाल हो गई । गोपियों ने फिर प्रभु से कहा कि वे सब कुछ छोड़कर केवल प्रभु के श्रीकमलचरणों में ही प्रेम करती हैं । उन्‍होंने प्रभु से कहा कि जैसे प्रभु अपने भक्‍तों पर कृपा करते हैं और अपने भक्‍तों से प्रेम करते हैं वैसे ही प्रेम से प्रभु उन्‍हें भी स्‍वीकार लेवें और उनका त्‍याग नहीं करें ।

जीव की पात्रता नहीं होती है कि वह प्रभु का प्रेम पा सके पर फिर भी करूणानिधान प्रभु भक्‍तों पर कृपा करते हैं और इसी कारण पात्रता नहीं होने पर भी जीव प्रभु के प्रेम को पा लेता है ।

प्रकाशन तिथि : 13 मार्च 2017
701 श्रीमद भागवतमहापुराण
(दशम स्‍कन्‍ध)
अ 29
श्लो 35
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... नहीं तो प्रियतम ! हम सच कहती हैं, तुम्‍हारे विरह-व्‍यथा की आग से हम अपने-अपने शरीर जला देंगी और ध्‍यान के द्वारा तुम्‍हारे चरणकमलों को प्राप्‍त करेंगी ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन गोपियों ने प्रभु से कहे ।

गोपियां कहती हैं कि अब हम अपने पति, पुत्र, भाई बंधु की जगह प्रभु की ही सेवा करना चाहती हैं क्‍योंकि प्रभु ने उनका चित्‍त चुरा लिया है । इसलिए पहले उनका चित्‍त घर के काम धंधों में लगता था पर अब वह केवल प्रभु के श्रीकमलचरणों में ही लगता है । वे अब प्रभु के श्रीकमलचरणों की सेवा छोड़कर एक पल भी हटने को तैयार नहीं हैं । उनके हृदय में अब तो केवल प्रभु प्रेम और प्रभु मिलन की आस है । अगर प्रभु ने उनके प्रेम और प्रभु मिलन की अभिलाषा को स्‍वीकार नहीं किया तो वे प्रभु के विरह की आग में अपने शरीर को जला देंगी और ध्‍यान के माध्‍यम से प्रभु के श्रीकमलचरणों के सानिध्य को प्राप्‍त करेंगी ।

गोपियों का प्रभु प्रेम विलक्षण है । उनके प्रभु प्रेम की मिसाल कहीं भी मिलना असंभव है ।

प्रकाशन तिथि : 15 मार्च 2017
702 श्रीमद भागवतमहापुराण
(दशम स्‍कन्‍ध)
अ 29
श्लो 37
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... अब तक के सभी भक्‍तों ने उस चरण रज का सेवन किया है । उन्‍हीं के समान हम भी तुम्‍हारी उसी चरण रज की शरण में आयी हैं ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन गोपियों ने प्रभु से कहे ।

गोपियां कहती है कि अब तक के भक्‍तों ने केवल प्रभु के श्रीकमलचरणों के रज का सेवन किया है और अपने को धन्‍य किया है । गोपियां कहती हैं कि उन्‍हीं भक्‍तों की तरह अब हम भी प्रभु के उसी श्रीकमलचरणों की रज की शरण में आयी हैं । प्रभु के श्रीकमलचरणों के रज की महिमा अपरमपार है । ऋषि, संत और भक्‍त प्रभु के श्रीकमलचरणों के रज के सेवन के लिए अपने जीवन को दांव पर लगा देते हैं । गोपियां भी प्रभु के उन श्रीकमलचरणों के रज की शरण ग्रहण कर उनका सेवन करना चाहती हैं ।

अब तक जितनों ने भी प्रभु के श्रीकमलचरणों की शरण ली है और प्रभु के श्रीकमलचरणों के रज का सेवन किया है उन्‍हें परमगति प्राप्‍त हुई है ।

प्रकाशन तिथि : 15 मार्च 2017
703 श्रीमद भागवतमहापुराण
(दशम स्‍कन्‍ध)
अ 29
श्लो 38
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
भगवन ! अब तक जिसने भी तुम्‍हारे चरणों की शरण ली, उसके सारे कष्‍ट तुमने मिटा दिये । अब तुम हम पर कृपा करो । .....


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन गोपियों ने प्रभु से कहे ।

गोपियां अपने घर, कुटुम्‍ब सब कुछ छोड़कर प्रभु के श्रीकमलचरणों की शरण की अभिलाषा से आई थी । प्रभु की शरण में आकर उन्‍होंने प्रभु से उन्‍हें स्‍वीकार करने की प्रार्थना की । उन्‍होंने प्रभु से कहा कि उन्‍हें पता है कि अब तक जिसने भी प्रभु के श्रीकमलचरणों की शरण ली है उनके सारे कष्‍ट प्रभु ने मिटा दिये हैं । इसलिए प्रभु कृपा करके उन्‍हें शरण में लेवें इसी अभिलाषा से वे आई हैं । यह एक शाश्‍वत सिद्धांत है कि प्रभु की शरणागति ग्रहण करते ही उस जीव के सारे पाप, कष्‍ट और विपदा का प्रभु तत्‍काल ही अंत कर देते हैं । शरणागति होते ही उस जीव का पूरा दायित्‍व प्रभु स्‍वयं उठा लेते हैं । उस जीव की पूरी जिम्‍मेवारी प्रभु अपने ऊपर ले लेते हैं ।

इसलिए सभी जीवों को चाहिए कि मानव जीवन पाकर प्रभु की शरणागति ग्रहण करनी चाहिए तभी उनका कल्‍याण है ।

प्रकाशन तिथि : 16 मार्च 2017
704 श्रीमद भागवतमहापुराण
(दशम स्‍कन्‍ध)
अ 29
श्लो 38
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... तुम हमें अपनी दासी के रूप में स्‍वीकार कर लो । हमें अपनी सेवा का अवसर दो ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन गोपियों ने प्रभु से कहे ।

गोपियां अपने प्रभु प्रेम के बल पर और शरणागति के कारण प्रभु की सेवा करने का अवसर प्रभु से चाहती हैं । वे कहती हैं कि प्रभु उन्‍हें अपनी दासी के रूप में स्‍वीकार कर लेवें और अपनी सेवा का अवसर प्रदान करे । प्रभु की सेवा करने का भाव जिसके जीवन में जागृत होता है वह धन्‍य होता है । प्रभु के सेवक बनकर जीवन यापन करना सबसे श्रेष्‍ठ होता है । प्रभु हमारे स्‍वामी हैं और हम प्रभु के सेवक हैं यह भाव जीवन में जागृत करना चाहिए । गोपियों ने यही भाव जीवन में जागृत किया है इसलिए दासी रूप में प्रभु से सेवा का अवसर चाहती हैं ।

जीव को भी जीवन में प्रभु की सेवा का भाव अपने भीतर जागृत करना चाहिए और स्‍वयं को प्रभु का दास मानना चाहिए ।

प्रकाशन तिथि : 16 मार्च 2017
705 श्रीमद भागवतमहापुराण
(दशम स्‍कन्‍ध)
अ 29
श्लो 39
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... तुम्‍हारी ये दोनों भुजाएं, जो शरणागतों को अभयदान देने में अत्‍यन्‍त उदार हैं .....


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन गोपियों ने प्रभु से कहे ।

गोपियां प्रभु के श्रीअंगों के सौन्‍दर्य और गुणों का वर्णन करती हैं । इस वर्णन में उन्‍होंने प्रभु की भुजाओं को जो वर्णन किया वह हृदयस्‍पर्शी है । गोपियां कहती हैं कि प्रभु की दोनों भुजाएं शरणागतों को अभय प्रदान करने में अत्‍यन्‍त उदार हैं । बड़ी उदारता के साथ प्रभु की भुजाएं अपने शरणागतों को अभय प्रदान करती हैं । जो भी प्रभु के करकमलों की छत्रछाया में आ जाता है प्रभु उसे हर भय से अभय कर देते हैं, उसके विपदा और कष्‍टों को हर लेते हैं ।

इसलिए जीव को चाहिए कि प्रभु के करकमलों की छत्रछाया में रहकर प्रभु की शरणागति ग्रहण करनी चाहिए ।

प्रकाशन तिथि : 17 मार्च 2017
706 श्रीमद भागवतमहापुराण
(दशम स्‍कन्‍ध)
अ 29
श्लो 41
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... और यह भी स्‍पष्‍ट ही है कि दीन दुखियों पर तुम्‍हारा बड़ा प्रेम, बड़ी कृपा है । .....


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन गोपियों ने प्रभु से कहे ।

गोपियां कहती हैं कि यह एक स्‍पष्‍ट सिद्धांत है कि प्रभु दीन दुखियों से बड़ा प्रेम करते हैं और उन पर बड़ी कृपा करते हैं । जिसका कोई नहीं होता उसके प्रभु होते हैं । प्रभु का व्रत है कि जो दीन और दुःखी हो, विपदा और कष्‍ट में हो, भय से पीडित हो उन पर प्रभु कृपा करते हैं और उसकी रक्षा करते हैं । दीन दुखियों के लिए यह कितना बड़ा सबल है कि उनके साथ सदैव प्रभु होते हैं । जगत दीन और दुखियों की अवहेलना करता है पर प्रभु उन पर कृपा करते हैं और उनसे प्रेम करते हैं ।

प्रभु परम कृपालु और परम दयालु हैं और सभी दीन और दुखियों से पिता के भांति करूणा का व्‍यवहार करते हैं ।

प्रकाशन तिथि : 17 मार्च 2017
707 श्रीमद भागवतमहापुराण
(दशम स्‍कन्‍ध)
अ 30
श्लो 03
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... वे अपने को सर्वथा भूलकर श्रीकृष्णस्‍वरूप हो गयी और उन्‍हीं के लीला-विलास का अनुकरण करती हुई " मैं श्रीकृष्ण ही हूँ " - इस प्रकार कहने लगी ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन प्रभु श्री शुकदेवजी ने राजा परीक्षित को कहे ।

जब गोपियों के मन में गर्व आया और वे मान करने लगी कि हम कुछ विशेष है तभी प्रभु हमारे साथ विहार कर रहे हैं तो प्रभु उनके बीच से अन्‍तर्धान हो गये । प्रभु सब कुछ सह लेते हैं पर भक्‍त और प्रेमी का अहंकार एकदम सहन नहीं करते । प्रभु के अन्‍तर्धान होने के बाद प्रभु प्रेम में मतवाली गोपियां श्रीकृष्णमय हो गई । वे अपने को भूल कर प्रभु के लीलाओं का अनुकरण करने लगी । वे प्रभु का अभिनय करने लगी और मैं श्रीकृष्णजी हूँ, इस प्रकार कहने लगी । गोपियां प्रभु से इतना प्रेम करती थी कि प्रभु के अन्‍तर्धान होने पर वे बेहद व्‍याकुल हो गई ।

प्रभु के लिए प्रेम और भक्ति के साथ अहंकार का कोई स्‍थान नहीं होता, इस बात से हमें सदैव सर्तक रहना चाहिए ।

प्रकाशन तिथि : 18 मार्च 2017
708 श्रीमद भागवतमहापुराण
(दशम स्‍कन्‍ध)
अ 30
श्लो 04
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... परीक्षित ! भगवान श्रीकृष्ण कही दूर थोड़े ही गये थे । वे तो समस्‍त जड़-चेतन पदार्थों में तथा उनके बाहर भी आकाश के समान एकरस स्थित ही हैं । वे वहीं थे, उन्‍हीं में थे, परन्‍तु उन्‍हें न देखकर गोपियां वनस्‍पतियों से - पेड़-पौधों से उनका पता पूछने लगी ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन प्रभु श्री शुकदेवजी ने राजा परीक्षित को कहे ।

जब प्रभु गोपियों के बीच से अन्‍तर्धान हुये तो गोपियां ऊँचे स्‍वर में प्रभु के गुणों का गान करने लगी और मतवाली होकर जगह जगह प्रभु को ढूंढने लगी । प्रभु श्री शुकदेवजी कहते हैं कि प्रभु कही दूर थोड़े न गये थे, वे तो समस्‍त जड़ चेतन में एक समान ही स्थित हैं । प्रभु वही थे, उन्‍हीं के बीच थे पर गोपियों की दृष्टि में प्रकट नहीं हो रहे थे । संतजन इस प्रसंग की व्याख्या करके कहते हैं कि मानो प्रभु गोपियों के प्रेम की परीक्षा ले रहे थे कि प्रभु के अन्‍तर्धान होने पर गोपियों की व्‍याकुलता कितनी है और गोपियों का अहंकार गला की नहीं ।

प्रभु सदैव अप्रकट रूप से हमारे बीच है और प्रेम भाव और भक्ति से प्रकट होते हैं ।

प्रकाशन तिथि : 18 मार्च 2017
709 श्रीमद भागवतमहापुराण
(दशम स्‍कन्‍ध)
अ 30
श्लो 29
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
प्‍यारी सखियो ! भगवान श्रीकृष्ण अपने चरणकमल से जिस रज का स्‍पर्श कर देते हें, वह धन्‍य हो जाती है, उसके अहोभाग्‍य हैं, क्‍योंकि ब्रह्मा, शंकर और लक्ष्‍मी आदि भी अपने अशुभ नष्‍ट करने के लिये उस रज को अपने सिर पर धारण करते हैं ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन गोपियों ने आपस में बातचीत करते हुये कहे ।

जब प्रभु अन्‍तर्धान हुये तो गोपियां प्रभु को ढूंढने के लिए वन में भटकने लगी । उसी समय उन्‍हें एक स्‍थान पर प्रभु के श्रीकमलचरणों के श्रीचिन्‍ह दिखे । तब गोपियों ने कहा कि प्रभु के श्रीकमलचरण जिन भी रज को स्‍पर्श कर देती है, वे धन्‍य हो जाती हैं । उन रज कणों का अहोभाग्‍य हो जाता है क्‍योंकि उन्‍हें देवता, ऋषि, संत और भक्‍त अपने अशुभ को नष्‍ट करने के लिए अपने सिर पर धारण करते हैं । प्रभु के श्रीकमलचरणों के रज की महिमा अपरम्पार है । उसे मस्‍तक पर धारण करने के लिए सभी लालायित रहते हैं । प्रभु के श्रीकमलचरणों की रज पुण्‍य के उदय होने पर प्राप्‍त होती है और जीव के मंगल का सूचक है ।

प्रभु के श्रीकमलचरणों के रज की महिमा का गान सभी ऋषि, संत और भक्‍त करते हैं ।

प्रकाशन तिथि : 19 मार्च 2017
710 श्रीमद भागवतमहापुराण
(दशम स्‍कन्‍ध)
अ 30
श्लो 44
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... परीक्षित ! गोपियों का मन श्रीकृष्णमय हो गया था । उनकी वाणी से कृष्ण चर्चा के अतिरिक्‍त और कोई बात नहीं निकलती थी । .....


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन प्रभु श्री शुकदेवजी ने राजा परीक्षित को कहे ।

प्रभु के अन्‍तर्धान होने के बाद प्रभु को लगातार वन में ढूंढती गोपियों का मन श्रीकृष्णमय हो गया । उनकी वाणी से प्रभु चर्चा के अलावा अन्‍य कोई बात नहीं निकलती थी । अपने शरीर से वे प्रभु को पाने के लिए चेष्‍टाएं कर रही थी । उनका रोम रोम और उनकी आत्मा प्रभुमय हो गई थी । वे प्रभु के गुण और लीलाओं का निरंतर गान करती जा रही थी । वे तन्‍मय होकर प्रभु की लीलाओं का अनुकरण कर रही थी जिससे उन्‍हें अपने शरीर की सुध भी नहीं रही थी । गोपियों को न तो अपने परिवार, घर या बच्‍चों की याद आ रही थी और न ही उन्‍हें रात्री का डर सता रहा था । वे बस एक बात की प्रतीक्षा कर रही थी कि प्रभु जल्‍द से जल्‍द वापस आवे ।

गोपियों जैसा प्रभु प्रेम कही भी देखने को नहीं मिलता इसलिए ही प्रभु प्रेम के आदर्श के रूप में गोपियों का नाम आज भी लिया जाता है ।

प्रकाशन तिथि : 19 मार्च 2017
711 श्रीमद भागवतमहापुराण
(दशम स्‍कन्‍ध)
अ 31
श्लो 04
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
तुम केवल यशोदानन्‍दन ही नहीं हो; समस्‍त शरीरधारियों के हृदय में रहने वाले उनके साक्षी हो, अन्‍तर्यामी हो । .....


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त भाव गोपियों ने प्रभु के विरह में गाये गोपी गीत में प्रकट किये ।

जब प्रभु अन्‍तर्धान हुये तो विरह की वेदना को गोपियां सह नहीं पाई और विरह गीत के माध्‍यम से यह वेदना प्रकट हुई । गोपियां प्रभु से कहती हैं कि प्रभु सबके हृदय में रहने वाले साक्षी हैं । प्रभु सबके अन्तर्यामी हैं । दोनों बातें सिद्धांत के रूप में सत्‍य हैं । प्रभु सभी चराचर जीवों के हृदय में निवास करते हैं और साक्षी भाव से सब कुछ देखते हैं । प्रभु से कुछ भी छिपा नहीं है । हम जो भी सोचते हैं, करते हैं, बोलते हैं, देखते हैं उसका साक्षी भाव से प्रभु को ज्ञान होता है । प्रभु अन्तर्यामी हैं और हमारे अन्‍त:करण की सभी भावनाओं का ज्ञान प्रभु को होता है ।

प्रभु अन्तर्यामी हैं और साक्षी भाव से हमारे भीतर विराजमान हैं, इस तथ्‍य का जब हम अनुभव करेंगे तो फिर हम जीवन में कुछ भी गलत नहीं करेंगे ।

प्रकाशन तिथि : 20 मार्च 2017
712 श्रीमद भागवतमहापुराण
(दशम स्‍कन्‍ध)
अ 31
श्लो 05
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... जो लोग जन्‍म मृत्यु रूप संसार के चक्‍कर से डरकर तुम्‍हारे चरणों की शरण ग्रहण करते हैं, उन्‍हें तुम्‍हारे करकमल अपनी छत्रछाया में लेकर अभय कर देते हैं । .....


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त भाव गोपियों ने प्रभु के विरह में गाये गोपी गीत में प्रकट किये ।

गोपियां कहती हैं कि जो लोग जन्‍म मृत्यु रूपी संसार के चक्‍कर से डरकर प्रभु के श्रीकमलचरणों की शरण ग्रहण करते हैं उन्‍हें प्रभु अपने करकमलों की छत्रछाया में लेकर अभय प्रदान कर देते हैं । जन्‍म मृत्यु के चक्‍कर से छुटने का सबसे सरल उपाय प्रभु के श्रीकमलचरणों की शरण ग्रहण करना है । पूर्ण शरणागति होने पर प्रभु हमें जन्‍म मृत्यु के चक्‍कर से मुक्‍त कर देते हैं । पूर्ण शरणागति होने पर प्रभु अपने करकमलों की छत्रछाया में लेकर हमें संसार के भय से सदैव के लिए अभय कर देते हैं । प्रभु के अलावा जीव को अभयदान कोई नहीं दे सकता ।

इसलिए जीव को चाहिए कि प्रभु की पूर्ण शरणागति स्‍वीकार करे जिससे संसार के आवागमन से उसे मुक्ति मिले और संसार के डर से अभय मिले ।

प्रकाशन तिथि : 20 मार्च 2017
713 श्रीमद भागवतमहापुराण
(दशम स्‍कन्‍ध)
अ 31
श्लो 07
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
तुम्‍हारे चरणकमल शरणागत प्राणियों के सारे पापों को नष्‍ट कर देते हैं । .....


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त भाव गोपियों ने प्रभु के विरह में गाये गोपी गीत में प्रकट किये ।

गोपियां प्रभु से कहती हैं कि प्रभु के श्रीकमलचरणों के शरण में आये हुये जीव के सारे पापों को प्रभु नष्‍ट कर देते हैं । जो एक बार प्रभु की शरणागत हो जाता है उसके सारे पापों को नष्‍ट करने का दायित्‍व प्रभु ले लेते हैं । प्रभु का व्रत है कि वे शरणागत को पाप मुक्‍त करके उसे निर्मल कर देते हैं । पाप तब तक ही हमारे ऊपर अपना प्रभाव रखते हैं जब तक हम प्रभु की शरण में नहीं आ जाते । प्रभु की शरण में जाते ही प्रभु हमारे पापों को भस्म कर देते हैं एवं मूल से ही उन्‍हें समाप्‍त कर देते हैं ।

इसलिए जो जीव पापमुक्‍त होना चाहता है उसे अनिवार्य रूप से प्रभु की शरण ग्रहण करनी चाहिए ।

प्रकाशन तिथि : 21 मार्च 2017
714 श्रीमद भागवतमहापुराण
(दशम स्‍कन्‍ध)
अ 31
श्लो 08
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
कमलनयन ! तुम्‍हारी वाणी कितनी मधुर है । उसका एक-एक पद, एक-एक शब्‍द, एक-एक अक्षर मधुरातिमधुर है । बड़े-बड़े विद्वान उसमें रम जाते हैं । उस पर अपना सर्वस्‍व निछावर कर देते हैं । .....


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त भाव गोपियों ने प्रभु के विरह में गाये गोपी गीत में प्रकट किये ।

गोपियां प्रभु से कहती हैं कि प्रभु की वाणी कितनी मधुर है । अपनी वाणी से प्रभु सबका मन मोह लेते हैं । प्रभु द्वारा वाणी से कहा गया एक एक शब्‍द, एक एक अक्षर मधुरातिमधुर है । बड़े बड़े ऋषि, संत और भक्‍त प्रभु की वाणी में रम जाते हैं और प्रभु की वाणी पर अपना सर्वस्‍व न्यौछावर कर देते हैं । प्रभु अपनी वाणी से सबका हृदय जीत लेते हैं । गोपियां प्रभु की वाणी से इतनी प्रभावित है कि वे अपने तन मन की सुध भूल जाती है । प्रभु की वाणी का माधुर्य अद्वितीय है । प्रभु की वाणी में जो मिठास है वह अन्‍यत्र कही भी नहीं मिलेगी ।

इसलिए प्रभु की वाणी से प्रभावित हुये बिना आज तक कोई भी नहीं रह पाया है ।

प्रकाशन तिथि : 21 मार्च 2017
715 श्रीमद भागवतमहापुराण
(दशम स्‍कन्‍ध)
अ 31
श्लो 09
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
प्रभो ! तुम्‍हारी लीला कथा भी अमृतस्‍वरूप है । .....


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त भाव गोपियों ने प्रभु के विरह में गाये गोपी गीत में प्रकट किये ।

गोपियां कहती हैं कि प्रभु की लीला और प्रभु की कथा अमृतस्‍वरूप हैं । बड़े बड़े ऋषि, संत, भक्‍त और कवियों ने इसका गान किया है और अपने को धन्य किया है । प्रभु की लीला कथा का गान जीव के सभी पाप और ताप को मिटाने वाला है । प्रभु की लीला कथा का श्रवण मात्र परम मंगल का सूचक होता है । प्रभु की लीला कथा का श्रवण हमारा परम कल्‍याण करता है । प्रभु की लीला कथा परम मनोहर और परम मधुर है । गोपियां कहती हैं कि जो प्रभु की लीला कथा का श्रवण और गान करते हैं वास्‍तव में भूलोक में वे सबसे बड़े भाग्‍यवान होते हैं ।

इसलिए प्रभु की लीला कथा का श्रवण और गान जीवन में नित्‍य करते रहना चाहिए ।

प्रकाशन तिथि : 22 मार्च 2017
716 श्रीमद भागवतमहापुराण
(दशम स्‍कन्‍ध)
अ 31
श्लो 13
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
प्रियतम ! एकमात्र तुम्‍हीं हमारे सारे दुःखों को मिटाने वाले हो । तुम्‍हारे चरणकमल शरणागत भक्‍तों की समस्‍त अभिलाषाओं को पूर्ण करने वाले हैं । ..... आपत्ति के समय एकमात्र उन्‍हीं का चिन्‍तन करना उचित है, जिससे सारी आपत्तियां कट जाती हैं । .....


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त भाव गोपियों ने प्रभु के विरह में गाये गोपी गीत में प्रकट किये ।

गोपियां प्रभु से कहती हैं कि एकमात्र प्रभु ही उनके सारे दुःखों को मिटाने में सक्षम हैं । यह एक शाश्‍वत सिद्धांत है कि जीव के समस्‍त दुःखों को मिटाने की क्षमता एकमात्र प्रभु ही रखते हैं । प्रभु के अलावा अन्‍य कोई नहीं जो हमारे दुःख को मिटा सकता है । दूसरी बात जो गोपियां कहती है कि प्रभु के श्रीकमलचरण शरणागत भक्‍तों की समस्‍त अभिलाषाओं को पूर्ण करने वाले हैं । प्रभु के अलावा जीव की अभिलाषा को पूर्ण करने का सामर्थ्‍य किसी में नहीं है । तीसरी बात जो गोपियां कहती है कि आपत्ति के समय एकमात्र प्रभु का चिन्‍तन करना सबसे उचित और आपत्तियों से बचने का सबसे श्रेष्‍ठ साधन है क्‍योंकि प्रभु के स्‍मरण मात्र से ही सारी आपत्तियां मिट जाती हैं ।

इसलिए जीव को चाहिए कि प्रभु के शरणागत हो जीवन में एकमात्र प्रभु का चिन्‍तन करना चाहिए ।

प्रकाशन तिथि : 22 मार्च 2017
717 श्रीमद भागवतमहापुराण
(दशम स्‍कन्‍ध)
अ 31
श्लो 15
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... उस समय पलकों का गिरना हमारे लिये भार हो जाता है और ऐसा जान पड़ता है कि इन नेत्रों की पलकों को बनाने वाला विधाता मूर्ख है ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त भाव गोपियों ने प्रभु के विरह में गाये गोपी गीत में प्रकट किये ।

गोपियां प्रभु से अपनी विरह वेदना कहती हैं । गोपियां कहती हैं कि जब प्रभु दिन में गौऊचारण के लिए वन में चले जाते हें तो प्रभु को बिना देखे उनका एक एक क्षण युग के समान प्रतीत होता है । जब प्रभु संध्‍या के समय लौटते हैं तो वे प्रभु की छवि को निरंतर देखना चाहती हैं पर उनकी आँखों की पलके बीच बीच में गिर गिर कर अदर्शन का कारण बनती हैं । वे नेत्रों के ऊपर पलकों को बनाने के लिए विधाता को उलाहना देती हैं जिस कारण क्षण मात्र के लिए प्रभु दर्शन में अवरोध हो जाता है । पलकों का गिरना क्षण मात्र के लिए होता है पर गोपियां प्रभु का उतने क्षण के लिए भी दर्शन करने से वंचित नहीं रहना चाहती हैं ।

गोपियों का प्रभु प्रेम वास्‍तव में अद्वितीय है और उसकी मिसाल अन्‍यत्र मिलना संभव नहीं है ।

प्रकाशन तिथि : 23 मार्च 2017
718 श्रीमद भागवतमहापुराण
(दशम स्‍कन्‍ध)
अ 31
श्लो 19
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... श्रीकृष्ण ! श्‍यामसुन्‍दर ! प्राणनाथ ! हमारा जीवन तुम्‍हारे लिये है, हम तुम्‍हारे लिये जी रही हैं, हम तुम्‍हारी हैं ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त भाव गोपियों ने प्रभु के विरह में गाये गोपी गीत में प्रकट किये ।

यह श्‍लोक मुझे अत्‍यन्‍त प्रिय है क्‍योंकि इसमें गोपियों ने श्रेष्‍ठ भाव प्रकट किये हैं । जो भाव गोपियां देती हैं वह यह है कि उनका जीवन प्रभु के लिए है । हम अपना जीवन संसार और परिवार के लिए जीते हैं पर गोपियां अपना जीवन प्रभु के लिए जीती हैं । इससे हमें भी प्रेरणा लेनी चाहिए और अपने जीवन को प्रभु के लिए समर्पित करना चाहिए । गोपियां कहती हैं कि वे प्रभु की हैं और प्रभु के लिए ही जीवन जी रही हैं । हमें भी प्रभु के बन कर रहना चाहिए और अपना जीवन प्रभु के लिए ही जीना चाहिए । क्‍योंकि प्रभु से हमारा सनातन रिश्‍ता है इसलिए प्रभु के लिए ही जीवन धारण करना सबसे श्रेष्‍ठ होता है ।

इसलिए जीव को चाहिए कि अपने जीवन को प्रभु को समर्पित करके जीये ।

प्रकाशन तिथि : 23 मार्च 2017
719 श्रीमद भागवतमहापुराण
(दशम स्‍कन्‍ध)
अ 32
श्लो 01
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
परीक्षित ! भगवान की प्‍यारी गोपियां विरह के आवेश में इस प्रकार भांति-भांति से गाने और प्रलाप करने लगी । अपने कृष्ण-प्‍यारे के दर्शन की लालसा से वे अपने को रोक न सकी, करूणाजनक सुमधुर स्‍वर में फुट-फुट कर रोने लगी ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन प्रभु श्रीशुकदेवजी ने राजा परीक्षित को कहे ।

प्रभु श्रीशुकदेवजी कहते हैं कि प्रभु के अन्‍तर्धान होने के बाद गोपियां निरंतर प्रभु की खोज करती रही । वे प्रभु के विरह को विरह गीत के रूप में गाने लगी । वे प्रभु मिलन के लिए प्रलाप करने लगी । अपने प्‍यारे प्रभु की दर्शन की लालसा में वे स्‍वयं को रोक न सकी और फुट फुट कर रोने लगी । गोपियों की विरह की पीड़ा को समझना असंभव है । गोपियों के लिए उनके प्रभु ही सब कुछ हैं इसलिए प्रभु को अपने बीच नहीं पाकर वे विरह वेदना से अति व्‍याकुल हो उठी ।

प्रभु व्‍याकुलता से ही मिलते हैं इसलिए गोपियों की व्‍याकुलता देखकर हमें भी अपने भीतर प्रभु प्राप्ति की व्‍याकुलता का निर्माण करना चाहिए ।

प्रकाशन तिथि : 24 मार्च 2017
720 श्रीमद भागवतमहापुराण
(दशम स्‍कन्‍ध)
अ 32
श्लो 07
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... परंतु जैसे संत पुरूष भगवान के चरणों के दर्शन से कभी तृप्‍त नहीं होते, वैसे ही वह उनकी मुख-माधुरी का निरन्‍तर पान करते रहने पर भी तृप्‍त नहीं थी ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन प्रभु श्रीशुकदेवजी ने राजा परीक्षित को कहे ।

गोपियों की विरह वेदना में रूदन से उनका अहंकार नष्‍ट होने के कारण और गोपियों की प्रभु मिलन की व्‍याकुलता के कारण प्रभु गोपियों के बीचों बीच प्रकट हुये । सभी गोपियां एक साथ उठ खड़ी हुई जैसे प्राणहीन शरीर में दिव्‍य प्राण का संचार हो उठा हो । उनके शरीर में नवीन चेतना और स्‍फुर्ति आ गई । पर जैसे संतजन प्रभु के श्रीकमलचरणों के दर्शन से कभी तृप्‍त नहीं होते वैसे ही गोपियां प्रभु के श्रीमुख के माधुर्य का पान करते हुये तृप्‍त नहीं हुई । वे नेत्रों के माध्‍यम से प्रभु की छवि को अपने हृदय में ले गई और आँखें बंद करके अपने हृदय में प्रभु के दर्शन करने लगी ।

सच्‍चा भक्‍त और प्रभु प्रेमी कभी भी प्रभु सानिध्य से तृप्‍त नहीं होता क्‍योंकि प्रभु का आकर्षण इतना होता है कि अतृप्ति बनी रहती है ।

प्रकाशन तिथि : 24 मार्च 2017