श्री गणेशाय नम:
Devotional Thoughts
Devotional Thoughts Read Articles सर्वसामर्थ्यवान एंव सर्वशक्तिमान प्रभु के करीब ले जाने वाले आलेख, मासिक ( हिन्दी एवं अंग्रेजी में )
Articles that will take you closer to OMNIPOTENT & ALMIGHTY GOD, monthly (in Hindi & English)
Precious Pearl of Life श्रीग्रंथ के श्लोको पर छोटे आलेख ( हिन्दी एवं अंग्रेजी में ), प्रत्येक दिन
Small write-ups on Holy text (in Hindi & English), every day
Feelings & Expressions प्रभु के बारे में उत्कथन ( हिन्दी एवं अंग्रेजी में ), प्रत्येक दिन
Quotes on GOD (in Hindi & English), every day
Devotional Thoughts Read Preamble हमारे उद्देश्य एवं संकल्प - साथ ही प्रायः पूछे जाने वाले प्रश्नों के उत्तर भी
Our Objectives & Pledges - Also answers FAQ (Frequently Asked Questions)
Visualizing God's Kindness वर्तमान समय में प्रभु कृपा के दर्शन कराते, असल जीवन के प्रसंग
Real life memoirs, visualizing GOD’s kindness in present time
Words of Prayer प्रभु के लिए प्रार्थना, कविता
GOD prayers & poems
प्रभु प्रेरणा से लेखन द्वारा चन्द्रशेखर करवा
CLICK THE SERIAL NUMBER BOX TO REACH THE DESIRED POST
553 554 555 556
557 558 559 560
561 562 563 564
565 566 567 568
569 570 571 572
573 574 575 576
क्रम संख्या श्रीग्रंथ अध्याय -
श्लोक संख्या
भाव के दर्शन / प्रेरणापुंज
553 श्रीमद भागवतमहापुराण
(नवम स्‍कन्‍ध)
अ 04
श्लो 64
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
ब्राह्मण ! अपने भक्‍तों का एकमात्र आश्रय मैं ही हूँ । इसलिये अपने साधुस्‍वभाव भक्‍तों को छोड़कर मैं न तो अपने आपको चाहता हूँ और न अपनी पत्‍नी विनाशरहित लक्ष्‍मी को ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन प्रभु ने ऋषि दुर्वासाजी को कहे ।

प्रभु कहते हैं कि अपने भक्‍तों के एकमात्र आश्रय प्रभु ही हैं । भक्‍त प्रभु पर आश्रित रहते हैं एवं प्रभु को ही अपना सब कुछ मानते हैं । प्रभु पर निर्भर रहने के कारण भक्‍तों की पूरी जिम्‍मेवारी प्रभु उठाते हैं । प्रभु कहते हैं कि मैं अपने साधुस्‍वभाव भक्‍तों को छोड़कर न अपने स्‍वयं का चाहता हूँ और न ही अपनी पत्‍नी (माता) श्री लक्ष्‍मीजी को चाहता हूँ । भक्‍त प्रभु के लिए सर्वोपरि हैं । भक्‍तों से पहले प्रभु किसी को भी स्‍थान नहीं देते । सबका स्‍थान भक्‍तों के बाद है ।

भक्ति की इतनी बड़ी महिमा प्रभु यहाँ प्रकट करते हैं । भक्‍त प्रभु के प्राण हैं और प्रभु भक्‍तों के प्राण हैं । इसलिए जीव को चाहिए कि भक्ति करके प्रभु को रीझाये और प्रभु भक्‍त बनकर अपना मानव जीवन सफल करे ।

प्रकाशन तिथि : 18 दिसम्‍बर 2016
554 श्रीमद भागवतमहापुराण
(नवम स्‍कन्‍ध)
अ 04
श्लो 65
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
जो भक्‍त स्त्री, पुत्र, गृह, गुरूजन, प्राण, धन, इहलोक और परलोक - सबको छोड़कर केवल मेरी शरण में आ गये हैं, उन्‍हें छोड़ने का संकल्‍प भी मैं कैसे कर सकता हूँ ?


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन प्रभु ने ऋषि दुर्वासाजी को कहे ।

प्रभु कहते हैं कि जो भक्त स्त्री, पुत्र, गृह, गुरू, प्राण, धन, इहलोक और परलोक सब कुछ छोड़कर प्रभु की शरण में आ जाता है प्रभु उसे कभी नहीं छोड़ते । सच्‍चे भक्तों को संसार रीझाता नहीं है, वे केवल प्रभु की ही शरण में रहना चाहते हैं । ऐसे भक्तों को प्रभु अपनाते हैं और उन्हें कभी नहीं छोड़ते । जब हम भक्त चरित्र पढते हैं तो यह तथ्य देखने को मिलता है । भगवती मीरा बाई ने और भक्तराज श्री नरसी मेहताजी ने प्रभु के लिए सब कुछ छोड़ दिया । प्रभु ने भी उन्हें अपनाया और सदैव अपनी छत्रछाया में उन्हें रखा ।

जीव को चाहिए कि संसार से विरक्‍त होकर प्रभु की भक्ति कर प्रभु शरण में रहे ।

प्रकाशन तिथि : 19 दिसम्‍बर 2016
555 श्रीमद भागवतमहापुराण
(नवम स्‍कन्‍ध)
अ 04
श्लो 66
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
जैसे सती स्त्री अपने पतिव्रत्‍य से सदाचारी पति को वश में कर लेती है, वैसे ही मेरे साथ अपने हृदय को प्रेम बन्‍धन से बांध रखने वाले समदर्शी साधु भक्ति के द्वारा मुझे अपने वश में कर लेते हैं ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन प्रभु ने ऋषि दुर्वासाजी को कहे ।

प्रभु कहते हैं कि जैसे एक पतिव्रता स्त्री अपने पतिव्रत धर्म के कारण अपने पति को वश में कर लेती है, वैसे ही भक्ति द्वारा अपने हृदय को प्रभु के प्रेम बंधन के बांधकर रखने वाले भक्‍त प्रभु को अपने वश में कर लेते हैं । भक्ति की महिमा है कि प्रभु भक्ति के द्वारा ही वश में होते हैं । परम स्वतन्त्र भगवान किसी भी अन्‍य साधन से किसी के वश में कभी नहीं होते । वे मात्र और मात्र भक्ति के कारण ही भक्‍त के वश में होते हैं । भक्ति की महिमा इतनी बड़ी है कि परम स्वतन्त्र प्रभु भी भक्‍त के बंधन को स्‍वीकार करते हैं ।

इसलिए जीव को चाहिए कि भक्ति करके प्रभु को रीझाये और अपना मानव जीवन सार्थक करे ।

प्रकाशन तिथि : 20 दिसम्‍बर 2016
556 श्रीमद भागवतमहापुराण
(नवम स्‍कन्‍ध)
अ 04
श्लो 67
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
मेरे अनन्‍य प्रेमी भक्‍त सेवा से ही अपने को परिपूर्ण कृतकृत्‍य मानते हैं । मेरी सेवा के फलस्‍वरूप जब उन्‍हें सालोक्‍य-सारूप्‍य आदि मुक्तियां प्राप्‍त होती हैं, तब वे उन्‍हें भी स्‍वीकार करना नहीं चाहते; फिर समय के फेर से नष्‍ट हो जाने वाली वस्‍तुओं की तो बात ही क्‍या है ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन प्रभु ने ऋषि दुर्वासाजी को कहे ।

प्रभु कहते हैं कि प्रभु के अनन्‍य प्रेमी भक्‍त अपनी प्रभु सेवा से ही अपने आपको धन्‍य मानते हैं । वे प्रभु की सेवा में ही तत्‍पर रहते हैं । प्रभु की सेवा के फलस्‍वरूप उन्‍हें जो मुक्ति के प्रस्‍ताव मिलते हैं वे उन्‍हें भी अस्‍वीकार कर देते हैं । भक्‍त के लिए प्रभु सेवा ही सर्वोपरि होती है । मुक्ति के बाद प्रभु सेवा संभव नहीं इसलिए भक्‍त मुक्ति को नहीं चाहते । ऐसे भक्‍त फिर संसार में नष्‍ट होने वाली किसी वस्‍तु की प्रभु से कोई अभिलाषा नहीं रखते । जो मुक्ति को भी त्‍याग देते हैं ऐसे भक्‍त के लिए संसार की कोई भी वस्‍तु स्वतः ही त्याज्य होती है ।

भक्‍त के लिए प्रभु सेवा ही सब कुछ है । वे उसी में रमते हैं और अपने आपको प्रभु सेवा के लिए नियुक्‍त पाकर स्‍वयं को धन्‍य मानते हैं ।

प्रकाशन तिथि : 21 दिसम्‍बर 2016
557 श्रीमद भागवतमहापुराण
(नवम स्‍कन्‍ध)
अ 04
श्लो 68
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
दुर्वासाजी ! मैं आपसे और क्‍या कहूं, मेरे प्रेमी भक्‍त तो मेरे हृदय हैं और उन प्रेमी भक्‍तों का हृदय स्‍वयं मैं हूँ । वे मेरे अतिरिक्‍त और कुछ नहीं जानते तथा मैं उनके अतिरिक्‍त और कुछ भी नहीं जानता ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन प्रभु ने ऋषि दुर्वासाजी को कहे ।

प्रभु कहते हैं कि प्रभु के प्रेमी भक्‍त तो प्रभु के हृदय हैं और उन प्रेमी भक्‍तों के हृदय प्रभु स्‍वयं हैं । प्रभु अपने भक्‍तों से और भक्‍त प्रभु से कितना प्रेम करते हैं यह तथ्‍य यहाँ देखने को मिलता है । प्रभु आगे कहते हैं कि मेरे भक्‍त मेरे (प्रभु) के अलावा कुछ नहीं जानते और प्रभु कहते हैं कि मैं (प्रभु) भी उनके अतिरिक्‍त कुछ भी नहीं जानता । प्रभु और भक्‍त के अगाढ़ प्रेम के दर्शन यहाँ पर होते हैं । भक्‍त के अतिरिक्‍त प्रभु के लिए सभी बातें गौण है और भक्‍त के लिए भी प्रभु के अतिरिक्‍त अन्‍य कोई चर्चा का विषय है ही नहीं ।

जीव को चाहिए कि प्रभु से इतना प्रेम करे कि प्रभु के अतिरिक्‍त उसके जीवन में अन्‍य कुछ बचे ही नहीं ।

प्रकाशन तिथि : 22 दिसम्‍बर 2016
558 श्रीमद भागवतमहापुराण
(नवम स्‍कन्‍ध)
अ 05
श्लो 16
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
जिनके मंगलमय नामों के श्रवणमात्र से जीव निर्मल हो जाता है - उन्‍हीं तीर्थपाद भगवान के चरणकमलों के जो दास हैं, उनके लिये कौन सा कर्तव्‍य शेष रह जाता है ?


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - प्रभु ने ऋषि दुर्वासाजी को उनकी रक्षा के लिए अपने भक्‍त राजा अम्‍बरीषजी के पास भेजा । राजा अम्‍बरीषजी ने श्री सुदर्शन चक्र से प्रार्थना करी और ऋषि दुर्वासाजी श्री सुदर्शन चक्र की आग से मुक्‍त हुये और श्री सुदर्शन चक्र शान्‍त हो गये ।

यह देखकर ऋषि दुर्वासाजी ने कहा कि आज मैंने प्रभु के प्रेमी भक्‍तों के महत्‍व का जान लिया । उन्‍होंने कहा कि जिन प्रभु के मंगलमय नामों के श्रवणमात्र से जीव निर्मल हो जाता है उन प्रभु के श्री कमलचरणों का जो दास हो उनके लिए कोई भी कर्तव्‍य शेष नहीं रह जाता । प्रभु की भक्ति के कारण जीव के सभी कर्तव्‍य पूर्ण हो गये ऐसा मानना चाहिए । भक्‍त के लिए कोई भी संसारिक कर्तव्‍य शेष नहीं बचते क्‍योंकि वह उनसे ऊपर उठ चुका होता है ।

प्रभु के भक्‍तों के लिए प्रभु की भक्ति ही एकमात्र कर्तव्‍य होता है ।

प्रकाशन तिथि : 23 दिसम्‍बर 2016
559 श्रीमद भागवतमहापुराण
(नवम स्‍कन्‍ध)
अ 05
श्लो 25
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
राजा अम्‍बरीष में ऐसे ऐसे अनेकों गुण थे । अपने समस्‍त कर्मों के द्वारा वे परब्रह्म परमात्‍मा श्रीभगवान में भक्तिभाव की अभिवृद्धि करते रहते थे । उस भक्ति के प्रभाव से उन्‍होंने ब्रह्मलोक तक के समस्‍त भोगों का नरक के समान समझा ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - भक्ति भाव के कारण राजा अम्‍बरीषजी अनेकों गुणों से सम्‍पन्‍न थे । यह एक सिद्धांत है कि जिसमें सच्‍ची भक्ति होती है उनमें सात्विक गुण स्‍वत: ही आकर वास करते हैं ।

राजा अम्‍बरीषजी अपने समस्‍त कर्मों के द्वारा प्रभु में भक्तिभाव की अभिवृद्धि करते रहते थे । हमारे समस्‍त कर्म भक्ति से युक्‍त हो और प्रभु की भक्ति की अभिवृद्धि करे तभी वे कर्म सफल और सार्थक होगें । भक्ति के प्रभाव के कारण राजा अम्‍बरीषजी ने ब्रह्मलोक तक के समस्‍त भोगों को नर्क के समान समझा । जब उन्‍होंने ब्रह्मलोक के भोगों को ठुकरा दिया तो संसारिक भोगों की तो बात ही क्‍या है ।

जीव को चाहिए कि ऐसे भगवत भक्‍तों के दृष्टान्त को सुनकर जीवन में भक्ति को लाने का सच्‍चा और सफल प्रयास करना चाहिए ।

प्रकाशन तिथि : 24 दिसम्‍बर 2016
560 श्रीमद भागवतमहापुराण
(नवम स्‍कन्‍ध)
अ 06
श्लो 51
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
अत: जिसे मोक्ष की इच्‍छा है, उस पुरूष को चाहिये कि वह भोगी प्राणियों का संग सर्वथा छोड़ दे और एक क्षण के लिये भी अपनी इन्द्रियों को बहिर्मुख न होने दे । अकेला ही रहे और एकान्‍त में चित्‍त को सर्वशक्तिमान भगवान मे ही लगा दे । .....


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - ऋषि सौभरिजी एक तेजस्‍वी ऋषि थे पर एक बार जल के अंदर एक मछली की क्रीड़ा को देखकर वे आतुर हो गये । ऋषि सौभरिजी के मन में भी विवाह करने की इच्‍छा जग उठी और उन्‍होंने राजा मान्‍धाता के कन्‍याओं से विवाह करने की इच्‍छा जताई । वे अपने तप के बल से बुढे से युवा बन गये और इतने सुन्‍दर बन गये कि राजा की पचास कन्‍याओं ने मोहित होकर उनसे विवाह कर लिया ।

वे अपनी पत्‍नीयों के साथ विहार करने लगे और अपनी सारी इन्द्रियों को विषयों के सेवन में लगा दिया । फिर एक दिन उन्‍हें आत्‍मग्‍लानि हुई कि उन्‍होंने अपना ब्रह्मतेज नष्‍ट कर दिया और वे बहुत दुःखी हुये ।

जिस व्‍यक्ति को मोक्ष की या प्रभु को पाने की इच्‍छा हो उसे भोगी प्राणियों का संग छोड़ कर अपनी इन्द्रियों को अन्‍तरमुखी करना चाहिए । उसे एकान्‍त में रहकर अपना चित्‍त सर्वथा प्रभु में ही लगाना चाहिए ।

प्रकाशन तिथि : 25 दिसम्‍बर 2016
561 श्रीमद भागवतमहापुराण
(नवम स्‍कन्‍ध)
अ 09
श्लो 13
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
परीक्षित ! जब गंगाजल से शरीर की राख का स्‍पर्श हो जाने से सगर के पुत्रों को स्‍वर्ग की प्राप्ति हो गयी, तब जो लोग श्रद्धा के साथ नियम लेकर श्रीगंगाजी का सेवन करते हैं, उनके सम्‍बन्‍ध में तो कहना ही क्‍या है ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - राजा भगीरथ की तपस्या से प्रसन्न होकर भगवती माता गंगाजी पृथ्वी पर अवतरण के लिए तैयार हुई । प्रभु श्री शिवजी जो सम्‍पूर्ण विश्व के हितैषी हैं उन्होंने भगवती माता गंगाजी को अपने शिश पर धारण किया क्योंकि प्रभु के श्री कमलचरणों से सम्‍पर्क होने के कारण भगवती माता गंगाजी का जल परम पवित्र था ।

जब श्री गंगाजल का सगर के जले हुये पुत्रों के राख से स्पर्श हुआ तो उन्हें तत्काल स्वर्ग की प्राप्ति हो गई । आज भी जो श्रद्धा के साथ नियमपूर्वक भगवती माता गंगाजी का सेवन करता है उनका कल्याण निश्चित है । क्योंकि भगवती माता गंगाजी प्रभु के श्री कमलचरणों से निकली हैं इसलिए श्रद्धा से उनका चिंतन करने मात्र से बड़े बड़े ऋषि निर्मल हो जाते हैं और प्रभु के सानिध्य को प्राप्त कर लेते हैं ।

भगवती माता गंगाजी संसार के बंधन को काट देती है और जीव का उद्धार करती है ।

प्रकाशन तिथि : 26 दिसम्‍बर 2016
562 श्रीमद भागवतमहापुराण
(नवम स्‍कन्‍ध)
अ 09
श्लो 47
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... संसार के सच्‍चे रचयिता भगवान की भावना में लीन होकर मैं विषयों को छोड़ रहा हूँ और केवल उन्‍हीं की शरण ले रहा हूँ ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - राजा खटवांग चक्रवर्ती सम्राट थे और देवताओं के अनुरोध पर उन्होंने दैत्यों का वध किया था । पर जब उन पराक्रमी राजा को देवताओं के द्वारा यह पता चला कि अब उनकी आयु मात्र दो घड़ी की बची है तब उन्होंने अपने मन को भगवान में लगा दिया ।

संसार के रचयिता भगवान की भावना में राजा लीन हो गये और विषयों को छोड़कर प्रभु की शरण ग्रहण कर ली । कैसे दो घड़ी के अंतिम समय में भी प्रभु को पाया जा सकता है, यह राजा खटवांग के दृष्टान्त से सीखने वाली बात है । अंतिम समय जो जीव अपने आपको प्रभु में स्थित कर लेता है वह प्रभु को पा लेता है ।

अंतिम समय प्रभु का ध्‍यान हो सके इसका प्रयास जीवन भर करना पड़ता है तभी अंतिम समय हमारा मन कही भटकेगा नहीं और प्रभु में केंद्रित हो सकेगा ।

प्रकाशन तिथि : 27 दिसम्‍बर 2016
563 श्रीमद भागवतमहापुराण
(नवम स्‍कन्‍ध)
अ 10
श्लो 12
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
इसके बाद भगवान ने उस जटायु का दाह संस्‍कार किया, जिसके सारे कर्मबन्‍धन भगवत्‍सेवारूप कर्म से पहले ही भस्‍म हो चुके थे । .....


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - श्रीमद भागवतजी महापुराण में मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री रामजी का श्रीचरित्र बहुत ही संक्षिप्त में कहा गया है । प्रभु श्री रामचन्द्र जी का श्रीचरित्र का विस्तृत निरूपण श्री वाल्मीकिजी एवं गोस्वामी तुलसीदासजी के श्रीरामायणजी एवं श्रीरामचरितमानसजी में मिलता है ।

जगतजननी माता श्री सीताजी के वियोग के बाद प्रभु वन में माता की खोज में लीला करते हुये घुम रहे थे । तब उन्हें श्री जटायुजी मिले जिन्होंने प्रभु दर्शन हेतु अपने प्राणों को रोक रखा था । उन्होंने प्रभु का काज किया था इसलिए जाति से गीध होने के बावजुद प्रभु ने उन्हें अपनी गोद में लिटाया और अंतिम समय अपने दर्शन से कृतार्थ कर परमगति प्रदान की । एक पुत्र की भांति प्रभु ने उनका दाह संस्कार किया । श्री जटायुजी के सारे कर्म बंधन प्रभु सेवा रूपी कर्म के कारण पहले ही नष्ट हो चुके थे ।

प्रभु इतने दीनदयाल हैं कि पक्षी में अधम माने जाने वाले श्री जटायुजी पर इतनी कृपा और इतना उपकार किया जिसकी मिसाल अन्यत्र मिलना असंभव है ।

प्रकाशन तिथि : 28 दिसम्‍बर 2016
564 श्रीमद भागवतमहापुराण
(नवम स्‍कन्‍ध)
अ 10
श्लो 23
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... जैसे पुण्‍यात्‍मा लोग भोग समाप्‍त होने पर स्‍वर्ग से गिर पड़ते हैं । .....


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - यह श्लो‍क हमें यह बताता है कि जीवन में पूण्यों से भक्ति का स्थान कितना ऊँ‍चा है । जीव जीवन में अनेक पूण्‍य करता है जिसके कारण उसे स्‍वर्ग की प्राप्ति होती है । फिर उसे अपने पूण्यों के बदले स्वर्ग का भोग प्राप्त होते हैं । पर जैसे ही उसके पूण्‍य के भोग को भोगने के बाद उसका पूण्‍य समाप्‍त हो जाता है उसे स्‍वर्ग से गिरा दिया जाता है । फिर उसे संसार में आना पड़ता है ।

पर दूसरी तरफ प्रभु की भक्ति करने वाले को प्रभु की प्राप्ति होती है । अगर उसके भक्ति में कोई कमी भी रह जाती है तो उसे अगले जन्‍म में भक्ति मार्ग पर प्रभु वही से आगे बढने का लाभ देते हैं । यानी पूर्व जन्‍म में की गई भक्ति कभी व्‍यर्थ नहीं जाती है । वह अगले जन्म में युवा अवस्था से ही भक्ति पथ पर चलकर उस जन्म में प्रभु को प्राप्त करता है । प्रभु को प्राप्त करने के बाद फिर उसे दोबारा संसार में आवागमन से सदैव के लिए मुक्ति मिल जाती है ।

स्‍वर्ग में पूण्‍य भोगने के बाद उस जीव को दोबारा संसार में जन्म लेना पड़ता है पर भक्ति करने वाला संसार के जन्‍म मृत्यु के चक्कर से सदैव के लिए मुक्त हो जाता है ।

प्रकाशन तिथि : 29 दिसम्‍बर 2016
565 श्रीमद भागवतमहापुराण
(नवम स्‍कन्‍ध)
अ 10
श्लो 34
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... भरतजी केवल गौमूत्र में पकाया हुआ जौ का दलिया खाते हैं, वल्‍कल पहनते हैं और पृथ्वी पर डाभ बिछाकर सोते हैं एवं उन्‍होंने जटाएं बढा रक्‍खी हैं, तब वे बहुत दुखी हुए । उनकी दशा का स्‍मरण कर परम करूणाशील भगवान का हृदय भर आया । .....


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - भक्‍त और भगवान में कितना प्रेम होता है यह श्री भरतलालजी एवं प्रभु श्रीरामजी के प्रेम को देख कर पता चलता है । भाई-भाई होने के साथ साथ श्री भरतलालजी एवं प्रभु का रिश्ता भक्‍त और भगवान का भी था ।

प्रभु के वनवास के बाद श्री भरतलालजी ने श्रीअयोध्‍याजी के राजमहल का त्‍याग किया और पवित्र श्रीसरयुजी के किनारे नन्‍दीग्राम में झोपड़ी में रहने लगे । क्‍योंकि प्रभु वन में कंद मूल फल खाते थे इसलिए श्री भरतलालजी ने राजभोग का त्‍याग किया और गौमूत्र में पकाया जौ का दलिया खाने लगे । क्‍योंकि प्रभु वनवास में वल्‍कल वस्त्र पहनते थे इसलिए श्री भरतलालजी भी वल्‍कल वस्त्र पहनने लगे और राजवस्त्रों का त्‍याग कर दिया । क्‍योंकि प्रभु वनवास के दौरान पृथ्वी पर सोते थे इसलिए श्री भरतलालजी भी पृथ्वी पर सोने लगे और उन्‍होंने राजमहल के पलंग का त्‍याग कर दिया ।

चौदह वर्षो के लिए राजगद्दी मिलने के बाद भी श्री भरतलालजी का त्‍याग इतना बड़ा था कि उनकी दशा का स्‍मरण होते ही परम करूणाशील प्रभु का हृदय भर आता था ।

प्रकाशन तिथि : 30 दिसम्‍बर 2016
566 श्रीमद भागवतमहापुराण
(नवम स्‍कन्‍ध)
अ 10
श्लो 40
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... भगवान के नेत्रजल से भरतजी का स्‍नान हो गया ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - भक्‍त और भगवान का मिलना कितना अदभूत होता है यह दृश्य यहाँ देखने को मिलता है ।

जब प्रभु चौदह वर्ष के वनवास के बाद श्री अयोध्‍याजी पधारे तो प्रभु के श्रीकमलचरणों की पादुकाएं जो प्रभु ने चित्रकुट में प्रदान की थी उसे सिर पर रखकर श्री भरतलालजी प्रभु की आगवानी करने चले । श्री भरतलालजी का हृदय गदगद हो गया, नेत्रों से आंसु छलक पड़े और वे प्रभु के श्रीकमलचरणों मे गिर पड़े । प्रभु ने अपने दोनों हाथों से श्री भरतलालजी को पकड़ कर उठाया और बहुत देर तक अपने हृदय से लगाये रखा । प्रभु के श्रीनेत्रों से नीर की धार बहने लगी और प्रभु के नेत्रजल से ही श्री भरतलालजी का स्‍नान हो गया ।

प्रभु प्रेम के वश में श्रीरामावतार में श्री भरतलालजी के साथ एवं श्रीकृष्णावतार में श्री सुदामाजी के साथ इसी प्रकार का आत्मीय व्‍यवहार किया । दोनों समय प्रभु ने कुछ नहीं कहा पर प्रभु के श्रीनेत्रों ने सब कुछ कह दिया ।

प्रकाशन तिथि : 31 दिसम्‍बर 2016
567 श्रीमद भागवतमहापुराण
(नवम स्‍कन्‍ध)
अ 10
श्लो 54
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
इन्द्रियातीत भगवान श्रीराम के राज्‍य करते समय किसी को मानसिक चिन्‍ता या शारीरिक रोग नहीं होते थे । बुढापा, दुर्बलता, दुःख, शोक, भय और थकावट नाममात्र के लिए भी नहीं थे । यहाँ तक कि जो मरना नहीं चाहते थे, उनकी मृत्यु भी नहीं होती थी ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - प्रभु श्री रामजी ने जब राज्‍यसिंहासन स्वीकार किया और राजा बने तो उस समय त्रेतायुग था पर प्रतीत ऐसा होता था मानो सतयुग ही हो ।

प्रभु के राज्य में जो रामराज्य की स्थापना हुई उसकी कल्पना मात्र भी करना असंभव है । उस समय वन, नदी, पर्वत, समुद्र सब कामधेनु के समान कामना पूर्ण करने वाले बन गये । रामराज्य में किसी को मानसिक चिन्ता या शारीरिक रोग नहीं था । बुढापा, दुर्बलता, दुःख, शोक, भय और थकावट नाममात्र के लिए भी नहीं थे । प्रभु पिता की तरह अपनी प्रजा का पालन करते थे और सम्पूर्ण प्रजा प्रभु को पिता रूप में देखती थी । प्रभु ने सदैव मर्यादा और धर्म का आचरण करके अपनी प्रजा को भी मर्यादा और धर्म को पालन करने की शिक्षा दी ।

रामराज्य जैसा राज्य न कभी हुआ है और न ही कभी होने वाला है । विश्व पटल पर सबसे आदर्श राजा प्रभु श्री रामजी ही हुये हैं ।

प्रकाशन तिथि : 01 जनवरी 2017
568 श्रीमद भागवतमहापुराण
(नवम स्‍कन्‍ध)
अ 11
श्लो 21
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
भगवान श्रीराम का निर्मल यश समस्‍त पापों को नष्‍ट कर देनेवाला है । वह इतना फैल गया है कि दिग्‍गजों का श्‍यामल शरीर भी उसकी उज्‍जवलता से चमक उठता है । आज भी बड़े-बड़े ऋषि महर्षि राजाओं की सभा में उसका गान करते रहते हैं । स्‍वर्ग के देवता और पृथ्वी के नरपति अपने कमनीय किरीटों से उनके चरणकमलों की सेवा करते रहते हैं । मैं उन्‍हीं रधुवंशशिरोमणि भगवान श्री रामचन्‍द्रजी की शरण ग्रहण करता हूँ ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - प्रभु श्री रामचन्‍द्रजी के निर्मल यश का गान समस्‍त पापों का नाश करने का साधन है । प्रभु श्री रामजी का यश सर्वत्र फैला हुआ है ।

बड़े-बड़े संत, ऋषि, महर्षि राजाओं की सभा में प्रभु के यश का गान करते थे । स्‍वर्ग के देवता भी प्रभु के यश का गान करते हैं । संसार के लोग प्रभु के यश का गान करते हैं और प्रभु के श्रीकमलचरणों की सेवा करते हैं । जो भी जीव अपने कानों से प्रभु के सुयश को सुनता है उसका निश्‍चित कल्‍याण हो जाता है । प्रभु के यश को सुनने वाला अपने समस्‍त कर्म बंधनो से मुक्‍त हो जाता है ।

इसलिए प्रभु के निर्मल यश को सुनने की जीवन में आदत बनानी चाहिए तभी हमारा कल्‍याण संभव है ।

प्रकाशन तिथि : 02 जनवरी 2017
569 श्रीमद भागवतमहापुराण
(नवम स्‍कन्‍ध)
अ 11
श्लो 23
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
जो पुरूष अपने कानों से भगवान श्रीराम का चरित्र सुनता है - उसे सरलता, कोमलता आदि गुणों की प्राप्ति होती है । परीक्षित ! केवल इतना ही नहीं, वह समस्‍त कर्म-बन्‍धनों से मुक्‍त हो जाता है ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन प्रभु श्री शुकदेवजी ने राजा परीक्षित को कहे ।

जो जीव अपने कानों से प्रभु श्रीरामजी के श्रीचरित्र का भक्ति भाव से श्रवण करता है उसे सरलता, कोमलता आदि सभी सदगुणों की प्राप्ति होती है । प्रभु के श्रीचरित्र को सुनने वाला समस्‍त कर्म बंधनों से मुक्‍त हो जाता है । प्रभु की कथा का नित्‍य श्रवण करने का आदेश सभी श्रीग्रंथ देते हैं । सभी ऋषि, संत प्रभु की कथा के श्रवण का आग्रह जीव से करते हैं ।

जीव को चाहिए कि भक्ति भाव से प्रभु की कथा का श्रवण जीवन में नित्‍य करे जिससे उसका परम कल्‍याण हो सके । प्रभु की कथा जीवन में सदगुणों और भक्ति की जाग्रति करती है ।

प्रकाशन तिथि : 03 जनवरी 2017
570 श्रीमद भागवतमहापुराण
(नवम स्‍कन्‍ध)
अ 11
श्लो 30
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
परीक्षित ! उस समय जब प्रजा को मालूम होता कि बहुत दिनों के बाद भगवान श्रीरामजी इधर पधारे हैं, तब सभी स्त्री-पुरूष उनके दर्शन की लालसा से घर-द्वार छोड़कर दौड़ पड़ते । वे ऊँ‍‍ची-ऊँ‍‍ची अटारियों पर चढ जाते और अतृप्‍त नेत्रों से कमलनयन भगवान को देखते हुए उन पर पुष्‍पों की वर्षा करते ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - जब प्रभु श्रीरामजी राज्‍य करते समय कभी नगर भ्रमण के लिए निकलते थे और जब प्रजा को मालूम होता था कि बहुत समय बाद प्रभु उधर पधार रहे हैं तब सभी स्त्री पुरूष प्रभु के दर्शन के लिए घर द्वार छोड़कर दौड़ पड़ते थे ।

प्रभु से सबका इतना प्रेम था कि प्रभु दर्शन की चाह सबको सब समय बनी रहती थी । इसलिए प्रभु जब आते थे तो वे प्रजावासी ऊँ‍‍ची-ऊँ‍‍ची अटारियों पर चढ जाते और अतृप्‍त नेत्रों से प्रभु का दर्शन करते और प्रभु पर फुलो की वर्षा करके अपने आपको धन्‍य मानते ।

प्रभु को अपनी प्रजा अत्‍यन्‍त प्रिय थी और प्रजा को उनके प्रभु अत्‍यन्‍त प्रिय थे । प्रभु इतने प्रिय थे कि प्रभु के दर्शन पाकर भी प्रजा अतृप्‍त ही रहती थी ।

प्रकाशन तिथि : 03 जनवरी 2017
571 श्रीमद भागवतमहापुराण
(नवम स्‍कन्‍ध)
अ 13
श्लो 09
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
विचारशील मुनिजन अपनी बुद्धि को पूर्ण रूप से श्रीभगवान में ही लगा देते हैं और उन्‍हीं के चरणकमलों का भजन करते हैं । एक-न-एक दिन यह शरीर अवश्‍य ही छुटेगा - इस भय से भीत होने के कारण वे इस शरीर का कभी संयोग ही नहीं चाहते; वे तो मुक्‍त ही होना चाहते हैं ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - जो विचारशील मुनिजन हैं वे अपनी बुद्धि को पूर्ण रूप से प्रभु में लगा देते हैं क्‍योंकि उनको पता होता है कि शरीर नश्‍वर है और एक दिन शरीर छुटना ही है ।

इसलिए वे शरीर से कभी संयोग नहीं चाहते बल्कि मुक्‍त होना चाहते हैं । इसलिए मुनिजन अपने आपको प्रभु के श्रीकमलचरणों की सेवा और प्रभु के भजन में लगा देते हैं । संसारी लोग शरीर को सबसे अधिक महत्‍व देते हैं जबकि भक्‍त अपने शरीर का उपयोग अपने साधन को करने मात्र के लिए करता है ।

इसलिए जीव को चाहिए कि वह अपने शरीर के प्रत्‍येक अंग को प्रभु सेवा में लगाये ।

प्रकाशन तिथि : 04 जनवरी 2017
572 श्रीमद भागवतमहापुराण
(नवम स्‍कन्‍ध)
अ 15
श्लो 40
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... सर्वशक्तिमान भगवान श्रीहरि भी क्षमावानों पर ही शीघ्र प्रसन्‍न होते हैं ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - क्षमा करने का महत्‍व हर धर्म में बताया गया है । सनातन धर्म में भी क्षमा को बहुत बड़ा सदगुण माना गया है । श्‍लोक में यह बात कही गई है कि क्षमा करने वाले पर प्रभु सदैव प्रसन्‍न रहते हैं ।

प्रभु स्‍वयं क्षमामूर्ति हैं । जीव गलती पर गलती करता रहता है पर अगर सच्‍चा पश्चाताप कर ले तो प्रभु उसे तत्‍काल क्षमा कर देते हैं । अगर प्रभु जीव को क्षमा नहीं करे तो कोई भी जीव प्रभु तक नहीं पहुँच सकता क्‍योंकि जीव के अपराध अनेक होते हैं । ऐसे ही प्रभु की भी अपेक्षा होती है कि जीव भी क्षमा का भाव अपने भीतर रखें । जो जीव क्षमा भाव रखता है प्रभु उससे शीघ्र प्रसन्‍न होते हैं ।

इसलिए जीवन में क्षमा के सदगुण को धारण करना चाहिए जो प्रभु को अत्‍यन्‍त प्रिय है ।

प्रकाशन तिथि : 04 जनवरी 2017
573 श्रीमद भागवतमहापुराण
(नवम स्‍कन्‍ध)
अ 18
श्लो 51
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
इस प्रकार एक हजार वर्ष तक उन्‍होंने अपनी इन्द्रियों के साथ मन को जोड़कर उसके प्रिय विषयों को भोगा । परन्‍तु इतने पर भी चक्रवर्ती सम्राट ययाति की भोगों से तृप्ति न हो सकी ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - राजा ययाति ने अपने पुत्र पुरू की जवानी लेकर विषयों का सेवन किया । उनकी इन्द्रियों में पूरी शक्ति थी और वे यथावसर यथाप्राप्‍त विषयों का उपभोग करते थे ।

इस प्रकार एक हजार वर्ष तक उन्‍होंने अपनी इन्द्रियों के साथ अपने मन को जोड़कर विषयों को भोगा । परंतु इतने पर भी उनकी इन्द्रियों की भोगों से तृप्ति न हो सकी । उनकी इन्द्रियां ओर भोग चाहती थी और अतृप्‍त ही रहती थी । राजा ययाति का दृष्टान्त हमें यह बताता है कि हमारी इन्द्रियों का कितना भी पोषण करे वे कभी भी भोगों से तृप्‍त नहीं होगी । हमारी इन्द्रियां ओर भोग प्राप्‍त करने के लिए सदैव प्रयत्‍नशील बनी रहती है । विषयों को भोगने से भोगवासना कभी शान्‍त नहीं हो सकती ।

इसलिए हमें अपने समस्‍त इन्द्रियों को भोगों से हटाकर प्रभु में भक्ति द्वारा लगाना चाहिए तभी हमारी इन्द्रियों को सही दिशा मिलेगी ।

प्रकाशन तिथि : 05 जनवरी 2017
574 श्रीमद भागवतमहापुराण
(नवम स्‍कन्‍ध)
अ 20
श्लो 33
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
अन्‍त में सार्वभौम सम्राट भरत ने यही निश्‍चय किया कि लोकपालों को भी चकित कर देने वाला ऐश्‍वर्य, सार्वभौम सम्‍पत्ति, अखण्‍ड शासन और यह जीवन भी मिथ्‍या ही है । यह निश्‍चय करके वे संसार से उदासीन हो गये ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - राजा दुष्‍यन्‍त के पुत्र भरत चक्रवती सम्राट हुये । उनकी वीरता का गान पृथ्वी के लोग र्दीघकाल तक करते थे । उन्‍होंने दिग्विजय की और पूरी पृथ्वी पर अपना राज्‍य कायम किया । उन्‍होंने अश्वमेघ यज्ञ किये और यज्ञों में अपार धन का दान दिया ।

पर अन्‍त में सम्राट भरत ने यही निश्‍चय किया कि उनका अतुल्‍य ऐश्‍वर्य, अपार सम्‍पत्ति, अखण्‍ड शासन और यहाँ तक की उनका जीवन भी मिथ्‍या है । सब कुछ अर्जन करने के बाद भी उन्‍हें सब कुछ मिथ्‍या प्रतीत हुआ और वे संसार से उदासीन हो गये ।

हम संसार की चकाचौंध से मोहित हो जाते हैं और अपना मानव जीवन उसमें ही व्‍यतीत कर देते हैं । संतजन संसार से उदासीन होकर भक्ति के द्वारा प्रभु प्राप्ति के लिए अपना जीवन लगा देते हैं ।

प्रकाशन तिथि : 05 जनवरी 2017
575 श्रीमद भागवतमहापुराण
(नवम स्‍कन्‍ध)
अ 21
श्लो 17
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
परीक्षित ! उन्‍हें भगवान के सिवा और किसी भी वस्‍तु की इच्‍छा तो थी नहीं, उन्‍होंने अपने मन को पूर्णरूप से भगवान में लगा दिया । .....


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - राजा रन्तिदेव सबमें प्रभु का रूप देखते थे एवं जगत को प्रभुमय देखते थे । इसलिए उन्‍हें जो भी प्राप्‍त होता था वे दूसरों को दे देते थे ।

एक बार प्रभु ने अलग अलग रूपों में आकर उनकी परीक्षा ली और वे परीक्षा में उर्त्‍तीण हुये क्‍योंकि उनके धैर्य की कोई सीमा नहीं थी । तब प्रभु उनके समक्ष प्रकट हुये । राजा रन्तिदेव ने प्रभु के श्रीकमलचरणों में प्रणाम किया । उन्‍हें प्रभु से कुछ मांगना तो था नहीं इसलिए उन्‍होंने अपने मन को प्रभु में तन्‍मय कर दिया । उन्‍हें प्रभु की अभिलाषा थी और प्रभु के सिवा और किसी वस्‍तु की अभिलाषा नहीं थी ।

जीव को भी प्रभु से कुछ नहीं मांगना चाहिए और पूर्णरूप से अपने मन को प्रभु में लगा देना चाहिए ।

प्रकाशन तिथि : 06 जनवरी 2017
576 श्रीमद भागवतमहापुराण
(नवम स्‍कन्‍ध)
अ 22
श्लो 34
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
परीक्षित ! उस समय कुरूवंश का नाश हो चुका था । अश्‍वत्‍थामा के ब्रह्मास्त्र से तुम भी जल ही चुके थे, परन्‍तु भगवान श्रीकृष्ण ने अपने प्रभाव से तुम्‍हें उस मृत्यु से जीता-जागता बचा लिया ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - जब महाभारत का युद्ध समाप्‍त हुआ और कुरूवंश का नाश हो गया तो उत्‍तराधिकारी के रूप में भगवती उत्‍तरा के गर्भ में राजर्षि परीक्षित बचे थे । उस समय अश्‍वत्‍थामा ने ब्रह्मास्त्र चलाया और गर्भ में परीक्षित जलने लगे । तो प्रभु ने भगवती उत्‍तरा के गर्भ में प्रवेश करके अपने प्रभाव से उस गर्भ में जल चुके बालक को मृत्यु से जीता जागता बचा लिया ।

प्रभु जब बचाते हैं तो मृत्यु के मुँह से भी बचा कर ले आते हैं । जब अश्‍वत्‍थामा ने ब्रह्मास्त्र छोड़ा तो पांचो पाण्‍डव कुछ न कर पाये और भगवती उत्‍तरा ने भी बचाने के लिए उन्‍हें नहीं पुकारा । भगवती उत्‍तरा ने विपदा की घड़ी में सिर्फ और सिर्फ प्रभु पर आस्‍था रख प्रभु को पुकारा ।

जीव को भी विपदा के समय सिर्फ और सिर्फ प्रभु पर ही विश्‍वास दृढ रखना चाहिए ।

प्रकाशन तिथि : 06 जनवरी 2017