श्री गणेशाय नम:
Devotional Thoughts
Devotional Thoughts Read Articles सर्वसामर्थ्यवान एंव सर्वशक्तिमान प्रभु के करीब ले जाने वाले आलेख, मासिक ( हिन्दी एवं अंग्रेजी में )
Articles that will take you closer to OMNIPOTENT & ALMIGHTY GOD, monthly (in Hindi & English)
Precious Pearl of Life श्रीग्रंथ के श्लोको पर छोटे आलेख ( हिन्दी एवं अंग्रेजी में ), प्रत्येक दिन
Small write-ups on Holy text (in Hindi & English), every day
Feelings & Expressions प्रभु के बारे में उत्कथन ( हिन्दी एवं अंग्रेजी में ), प्रत्येक दिन
Quotes on GOD (in Hindi & English), every day
Devotional Thoughts Read Preamble हमारे उद्देश्य एवं संकल्प - साथ ही प्रायः पूछे जाने वाले प्रश्नों के उत्तर भी
Our Objectives & Pledges - Also answers FAQ (Frequently Asked Questions)
Visualizing God's Kindness वर्तमान समय में प्रभु कृपा के दर्शन कराते, असल जीवन के प्रसंग
Real life memoirs, visualizing GOD’s kindness in present time
Words of Prayer प्रभु के लिए प्रार्थना, कविता
GOD prayers & poems
प्रभु प्रेरणा से लेखन द्वारा चन्द्रशेखर करवा
CLICK THE SERIAL NUMBER BOX TO REACH THE DESIRED POST
505 506 507 508
509 510 511 512
513 514 515 516
517 518 519 520
521 522 523 524
525 526 527 528
क्रम संख्या श्रीग्रंथ अध्याय -
श्लोक संख्या
भाव के दर्शन / प्रेरणापुंज
505 श्रीमद भागवतमहापुराण
(अष्‍टम स्‍कन्‍ध)
अ 02
श्लो 32
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
.... इसलिये अब मैं सम्‍पूर्ण विश्‍व के एकमात्र आश्रय भगवान की ही शरण लेता हूँ ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - श्री गजेन्द्र नामक हाथी और ग्राह की कथा को हम श्री गजेन्द्र मोक्ष के नाम से जानते हैं । श्री गजेन्द्र को जब जल क्रीड़ा करते वक्त ग्राह ने पकड़ा तो उसने अपना पूरा बल लगाया पर छुटने में सर्वथा असमर्थ हो गया । उसके साथ के हाथी और हथिनियों ने भी उसका साथ छोड़ दिया ।

उसको अपनी मृत्यु दिखने लगी और उसको स्मरण हुआ कि जो प्रभु की शरण में चला जाता है प्रभु उसे अवश्य बचा लेते हैं । प्रभु सबको आश्रय देने वाले हैं इसलिए श्री गजेन्द्र ने प्रभु की शरण ग्रहण की ।

हमें भी विपत्ति काल में या बिना विपत्ति के भी प्रभु की शरण ग्रहण करनी चाहिए क्योंकि प्रभु ही सम्पूर्ण विश्व के एकमात्र आश्रयदाता है ।

प्रकाशन तिथि : 27 अक्‍टूबर 2016
506 श्रीमद भागवतमहापुराण
(अष्‍टम स्‍कन्‍ध)
अ 03
श्लो 15
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
आप सबके मूल कारण हैं, आपका कोई कारण नहीं है ..... जैसे समस्‍त नदी-झरने आदि का परम आश्रय समुद्र है, वैसे ही आप समस्‍त वेद और शास्त्रों के परम तात्‍पर्य हैं । आप मोक्षस्‍वरूप हैं और समस्‍त संत आपकी ही शरण ग्रहण करते हैं; अत: आपको मैं नमस्‍कार करता हूँ ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन श्री गजेन्‍द्र ने प्रभु की स्‍तुति में कहे ।

सभी जीवों के साक्षी के रूप में प्रभु हैं । सभी के सत्‍ता के रूप में भी प्रभु विराजमान हैं । प्रभु सबके मूल कारण है, प्रभु का कोई कारण नहीं है । जैसे समस्‍त नदी और झरनों का आश्रय समुद्र देव हैं वैसे समस्‍त वेदों और शास्त्रों का परम तात्‍पर्य प्रभु हैं । समस्‍त वेद और शास्त्र प्रभु की स्‍तुति और प्रभु का गुणगान करते हैं । प्रभु मोक्षस्‍वरूप है यानी मोक्ष प्रदान करने वाले प्रभु ही हैं । समस्‍त संत और भक्‍त एकमात्र प्रभु की ही शरण ग्रहण करते हैं ।

इसलिए जीव को चाहिए कि वह भी प्रभु की शरणागति ग्रहण करे । प्रभु की शरणागति के अलावा संसार सागर से तरने का अन्‍य कोई उपाय नहीं है ।

प्रकाशन तिथि : 28 अक्‍टूबर 2016
507 श्रीमद भागवतमहापुराण
(अष्‍टम स्‍कन्‍ध)
अ 03
श्लो 17
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
जैसे कोई दयालु पुरूष फंदे में पड़े हुए पशु का बन्‍धन काट दे, वैसे ही आप मेंरे जैसे शरणागतों की फांसी काट देते हैं । आप नित्‍यमुक्‍त हैं, परम करूणामय हैं और भक्‍तों का कल्‍याण करने में आप कभी आलस्‍य नहीं करते । आपके चरणों में मेरा नमस्‍कार है ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - जब श्री गजेन्द्र को ग्राह ने पकड़ा और वह अपना पूरा बल लगाने पर भी अपने आपको मुक्त नहीं करा पाया तो उसने प्रभु की स्‍तुति कर प्रभु को पुकारा और प्रभु की शरण ग्रहण की ।

जैसे एक दयालु पुरूष बंधन में पड़े पशु को बंधनमुक्त कर देता है वैसे ही परमदयालु प्रभु अपने शरणागत के समस्‍त बंधन को काट देते हैं । प्रभु परम करूणामय हैं और अपने भक्तों का कल्याण करने में कभी विलम्ब नहीं करते । प्रभु अपने शरण में आये हुए जीव का सम्‍पूर्ण दायित्‍व उठाते हैं और जिसमें उस जीव का हित हो वह कार्य करते हैं ।

प्रभु की शरणागति में रहना सबसे श्रेष्ठ उपाय है और इसलिए हमें प्रभु की अविलम्ब शरण ग्रहण करनी चाहिए ।

प्रकाशन तिथि : 29 अक्‍टूबर 2016
508 श्रीमद भागवतमहापुराण
(अष्‍टम स्‍कन्‍ध)
अ 03
श्लो 20
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
जिनके अनन्‍य प्रेमी भक्‍तजन उन्‍हीं की शरण में रहते हुए उनसे किसी भी वस्‍तु की - यहाँ तक कि मोक्ष की भी अभिलाषा नहीं करते, केवल उनकी परम दिव्‍य मंगलमयी लीलाओं का गान करते हुए आनन्‍द के समुद्र में निमग्‍न रहते हैं ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन श्री गजेन्‍द्र ने प्रभु की स्‍तुति में कहे ।

प्रभु के अनन्‍य प्रेमी भक्‍तजन प्रभु की शरण में ही रहते हैं । ऐसे भक्‍तजन किसी भी वस्‍तु की अभिलाषा प्रभु से नहीं रखते । यहाँ तक की ऐसे भक्‍तजन मोक्ष की भी अभिलाषा नहीं रखते । वे केवल प्रभु की दिव्‍य मंगलमयी लीलाओं का गान करते हुए आनंद के समुद्र में डुबे रहते हैं । सच्‍चा भक्‍त निष्‍काम होता है । निष्‍काम भक्ति का स्‍थान इतना ऊँ‍चा है कि मोक्ष भी उसके सामने तुच्‍छ हो जाता है । सच्‍चे प्रभु भक्‍त को प्रभु की लीलाओं के गान में इतना आनंद मिलता है जिसके सामने संसार के सभी सुख फिके पड़ जाते हैं । ‍

इसलिए जीव को चाहिए कि वह प्रभु की निष्‍काम होकर भक्ति करे ।

प्रकाशन तिथि : 30 अक्‍टूबर 2016
509 श्रीमद भागवतमहापुराण
(अष्‍टम स्‍कन्‍ध)
अ 03
श्लो 28
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... इसलिये जिनकी इन्द्रियां वश में नहीं हैं, वे तो आपकी प्राप्ति का मार्ग भी नहीं पा सकते । आपकी शक्ति अनन्‍त है । आप शरणागतवत्‍सल हैं । आपको मैं बार-बार नमस्‍कार करता हूँ ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन श्री गजेन्‍द्र ने प्रभु की स्‍तुति में कहे ।

जिनकी इन्द्रियां वश में नहीं है, वे जीव प्रभु को नहीं पा सकते । हम संसार में रहते हैं और हमारी इन्द्रियां संसार में फंसी रहती हैं । माया हमें जो दृश्य दिखती है हमारी इन्द्रियां उससे आकर्षित हो जाती है । इसलिए हमारी सभी इन्द्रियां संसार में रमी रहती है । जब तक हम उन्‍हें संसार से हटाकर भक्ति के द्वारा प्रभु में नहीं लगाते हैं तब तक प्रभु की प्राप्ति संभव नहीं है । जब हम अपनी समस्‍त इन्द्रियों को संसार से खींचकर प्रभु में लगायेगे तभी हमारा मानव जीवन सफल होगा ।

प्रभु की शक्ति अनन्‍त है । प्रभु सर्वशक्तिमान हैं और सब कुछ करने में समर्थ हैं । प्रभु शरणागतवत्‍सल हैं यानी शरण में आये हुये जीव से प्रभु प्रेम करते हैं और उसे स्‍वीकार करते हैं ।

प्रकाशन तिथि : 31 अक्‍टूबर 2016
510 श्रीमद भागवतमहापुराण
(अष्‍टम स्‍कन्‍ध)
अ 04
श्लो 04
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... वास्‍तव में अविनाशी भगवान ही सर्वश्रेष्‍ठ कीर्ति से सम्‍पन्‍न हैं । उन्‍हीं के गुण और मनोहर लीलाएं गान करने योग्‍य हैं ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - जब श्री गजेन्‍द्र ने प्रभु को पुकारा तो प्रभु बड़े वेग से आये । संतजन इस प्रसंग की व्याख्या करते हुये कहते हैं कि हरि शब्‍द से श्री गजेन्‍द्र ने प्रभु का आव्हान किया था । " ह " शब्‍द के उच्‍चारण पर प्रभु दौड़े और " रि " शब्‍द के उच्‍चारण से पहले सुदर्शन चक्र से प्रभु ने ग्राह का अन्‍त कर श्री गजेन्‍द्र को मुक्‍त करा दिया ।

ग्राह का प्रभु के हाथों अन्‍त होते ही वह शाप मुक्‍त हो गया । वह पहले गन्धर्व था और शाप के कारण ग्राह बना था । अब प्रभु की कृपा से वह मुक्‍त हो गया । वह प्रभु के सुयश का गान करने लगा । ‍

वास्‍तव में प्रभु ही एकमात्र हैं जो सर्वश्रेष्‍ठ कीर्ति से सम्‍पन्‍न हैं । इसलिए प्रभु की ही दिव्‍य गुण और मनोहर लीलायें गान करने योग्‍य हैं । भक्‍तजन प्रभु के दिव्‍य गुण और मनोहर लीलाओं का गान कर परमानंद को प्राप्‍त करते हैं ।

प्रकाशन तिथि : 01 नवम्‍बर 2016
511 श्रीमद भागवतमहापुराण
(अष्‍टम स्‍कन्‍ध)
अ 04
श्लो 12
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... परन्‍तु भगवान की आराधना का ऐसा प्रभाव है कि हाथी होने पर भी उन्‍हें भगवान की स्मृति हो ही गयी ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - भगवान श्री शुकदेवजी राजा परीक्षितजी को श्री गजेन्‍द्र का पूर्व चरित्र सुनाते हुये कहते हैं कि श्री गजेन्‍द्र पूर्व जन्‍म में द्रविड़ देश का राजा था । वह भगवान का श्रेष्‍ठ उपासक था एवं राजपाट छोड़कर तपस्‍वी वेश धारण कर सर्वशक्तिमान प्रभु की आराधना करता था । ऋषि अगस्‍त्‍य के शाप के कारण उनको अगले जन्‍म में हाथी की योनी प्राप्‍त हुई ।

पर उनके पूर्व जन्‍म में किये गये प्रभु की आराधना का ऐसा प्रभाव था कि हाथी हाने पर भी उन्‍हें प्रभु का स्‍मरण था और अन्‍त समय विपदा की घड़ी में उनके द्वारा प्रभु की दिव्‍य स्‍तुति की गयी । ‍

किसी भी जन्‍म में की गई प्रभु की आराधना कभी भी व्‍यर्थ नहीं जाती और जरूरत के समय निश्‍चित हमारे काम आती है ।

प्रकाशन तिथि : 02 नवम्‍बर 2016
512 श्रीमद भागवतमहापुराण
(अष्‍टम स्‍कन्‍ध)
अ 04
श्लो 25
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
प्‍यारे गजेन्‍द्र ! जो लोग ब्रह्ममुहूर्त में जगकर तुम्‍हारी की हुई स्‍तुति से मेरा स्‍तवन करेंगे, मृत्यु के समय उन्‍हें मैं निर्मल बुद्धि का दान करूंगा ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - श्री गजेन्‍द्र मोक्ष स्‍तुति का महत्‍व प्रभु ने इस श्‍लोक में बताया है । जीवन काल में विपत्ति के समय श्री गजेन्‍द्र मोक्ष का भक्ति भाव से मन लगाकर पाठ करने वाले की विपत्ति दूर होती है । श्री गजेन्‍द्र की स्‍तुति से प्रसन्‍न होकर सर्वव्‍यापक प्रभु ने सब लोगों के सामने यह बात कही कि जो इस गजेन्‍द्र स्‍तुति से प्रभु का स्‍तवन करेगा प्रभु उस जीव को मृत्यु के समय निर्मल बुद्धि का दान करेंगे ।

मृत्यु के समय बुद्धि निर्मल नहीं होती इसलिए अन्‍यत्र भटकती है । मृत्यु के समय अगर बुद्धि प्रभु में स्थिर हो जाये तो हम प्रभु को पा सकते हैं ।‍

इसलिए जीवन काल में श्री गजेन्‍द्र मोक्ष का पाठ करना बड़ा फलदायी है क्‍योंकि इससे जीवन काल में विपत्ति के समय हमारी रक्षा होती है एवं मृत्यु के समय बुद्धि निर्मल होती है जिससे हम मृत्यु की बेला में प्रभु का स्‍तवन कर सकते हैं ।

प्रकाशन तिथि : 04 नवम्‍बर 2016
513 श्रीमद भागवतमहापुराण
(अष्‍टम स्‍कन्‍ध)
अ 05
श्लो 06
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... भगवान विष्‍णु के सम्‍पूर्ण गुणों का वर्णन तो वह करे, जिसने पृथ्वी के परमाणुओं की गिनती कर ली हो ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन प्रभु श्री शुकदेवजी ने राजा परीक्षित को कहे ।

प्रभु के सम्‍पूर्ण गुणों का वर्णन तो वह करे जिसने पृथ्वी के सारे परमाणुओं की गिनती कर ली हो । इसका तात्‍पर्य यह है कि पृथ्वी के परमाणु को गिनना किसी के लिए भी संभव नहीं है क्‍योंकि पृथ्वी के परमाणु असंख्‍य होते हैं । इसी तरह प्रभु के श्रीगुणों की गिनती भी संभव नहीं क्‍योंकि वेद भी प्रभु के गुणों का बखान नहीं कर सकते और "नेती-नेती" कह कर शान्‍त हो जाते हैं । प्रभु के गुणों का वर्णन करना शास्त्र, देवता, ऋषि और संत किसी के लिए भी संभव नहीं है ।

इसलिए जीव को चाहिए कि प्रभु के गुणों का गान जीवन में करता चले । यह भक्ति का एक उत्‍तम साधन है ।

प्रकाशन तिथि : 05 नवम्‍बर 2016
514 श्रीमद भागवतमहापुराण
(अष्‍टम स्‍कन्‍ध)
अ 05
श्लो 13
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
आप भक्‍तवत्‍सल भगवान की महिमा का ज्‍यों-ज्‍यों वर्णन करते हैं, त्‍यों-ही-त्‍यों मेरा हृदय उसको और भी सुनने के लिये उत्‍सुक होता जा रहा है । .....


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन राजा परीक्षित ने प्रभु श्री शुकदेवजी को कहे ।

राजा परीक्षित को जब सात दिवस बाद मृत्यु का शाप मिला तो उनकी सदगति के लिए प्रभु श्री शुकदेवजी उन्‍हें श्रीमद भागवतजी की कथा सुनाने के लिए आये । जैसे जैसे प्रभु श्री शुकदेवजी उन्‍हें भक्‍तवत्‍सल भगवान की महिमा का वर्णन करने लगे, वैसे वैसे राजा परीक्षित का हृदय भगवान की महिमा सुनने के लिए उत्‍सुक होता चला गया । यह सच्‍चे भक्‍त के लक्ष्‍ण होते हैं कि उन्‍हें प्रभु की महिमा सुनने से कभी तृप्ति नहीं होती और वे निरंतर प्रभु का गुणगान सुनते रहना चाहते हैं । श्रीमद भागवतजी के महात्म्य में यह प्रश्‍न आया है कि प्रभु की लीला कब तक सुननी चाहिए और इसके उत्‍तर में कहा गया है कि जीवन पर्यन्त सुनते रहना चाहिए ।

क्‍योंकि प्रभु की लीलायें इतनी परमानंद प्रदान करने वाली हैं इसलिए प्रभु की कथा निरंतर सुनते रहना चाहिए ।

प्रकाशन तिथि : 06 नवम्‍बर 2016
515 श्रीमद भागवतमहापुराण
(अष्‍टम स्‍कन्‍ध)
अ 05
श्लो 29
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... वही प्रभु इस जीव के हृदय में अन्‍तर्यामी रूप से विराजमान रहते हैं । विचारशील मनुष्‍य भक्तियोग के द्वारा उन्‍हीं की आराधना करते हैं ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन प्रभु श्री ब्रह्माजी ने प्रभु की स्‍तुति में कहे ।

प्रभु हर जीव के हृदय में अन्‍तर्यामी के रूप में विराजमान हैं । सभी जीव को दृष्टा के भाव से प्रभु देखते हैं । प्रभु से हम कुछ भी छिपा नहीं सकते । जो हम करते हैं और जो हम सोचते हैं वह सब कुछ प्रभु को पता होता है । प्रभु हमारे अन्‍तरआत्‍मा की बात को भी जानते हैं । दूसरी बात जो श्‍लोक में कही गई है वह यह कि विचारशील मनुष्‍य भक्ति के द्वारा प्रभु की आराधना करते हैं । प्रभु तक पहुँचने के लिए सबसे उत्‍तम और सबसे श्रेष्‍ठ मार्ग भक्तिमार्ग ही है इसलिए जो विचारशील जीव हैं वे भक्तिमार्ग का ही आश्रय लेते हैं ।

इसलिए जीव को चाहिए कि वह भक्तिमार्ग पर आगे बढकर प्रभु तक पहुँचने का प्रयास करे ।

प्रकाशन तिथि : 07 नवम्‍बर 2016
516 श्रीमद भागवतमहापुराण
(अष्‍टम स्‍कन्‍ध)
अ 05
श्लो 30
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... जीव अपने पुरूषार्थ से नहीं, उनकी कृपा से ही उन्‍हें प्राप्‍त कर सकता है । हम उनके चरणों में नमस्‍कार करते हैं ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन प्रभु श्री ब्रह्माजी ने प्रभु की स्‍तुति में कहे ।

इस श्‍लोक में एक शाश्‍वत सिद्धांत का प्रतिपादन प्रभु श्री ब्रह्माजी ने किया है । प्रभु को कोई भी जीव अपने पुरूषार्थ से प्राप्‍त नहीं कर सकता अपितु प्रभु की कृपा से ही प्रभु को प्राप्‍त कर सकता है । हम कितने भी साधन क्‍यों न कर ले पर उन साधनों से तब तक प्रभु को नहीं पाया जा सकता जब तक प्रभु कृपा नहीं करते । प्रभु को पाने के लिए प्रभु की कृपा होना अनिवार्य है । प्रभु इतने कृपालु हैं कि जो जीव प्रभु तक पहुँचने के लिए अपने कदम प्रभु की तरफ बढाता है प्रभु उस जीव पर अवश्‍य कृपा करते हैं ।

जब कोई जीव भक्ति करके प्रभु को पाने का प्रयास करता है तो प्रभु उस जीव पर अवश्‍य कृपा करते हैं जिससे वह जीव प्रभु को पा लेता है ।

प्रकाशन तिथि : 08 नवम्‍बर 2016
517 श्रीमद भागवतमहापुराण
(अष्‍टम स्‍कन्‍ध)
अ 05
श्लो 46
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
प्रभो ! आप समय-समय पर स्‍वयं ही अपनी इच्‍छा से अनेकों रूप धारण करते हैं और जो काम हमारे लिये अत्‍यन्‍त कठिन होता है, उसे आप सहज में ही कर देते हैं । आप सर्वशक्तिमान हैं, आपके लिये इसमें कौन-सी कठिनाई है ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन प्रभु श्री ब्रह्माजी ने प्रभु की स्‍तुति में कहे ।

प्रभु समय समय पर जरूरत अनुसार स्‍वयं अपनी इच्‍छा से अनेक रूप धारण करके अवतार लेते हैं और जो काम अत्‍यन्‍त कठिन होते हैं उसे सहज में कर देते हैं । क्‍योंकि प्रभु सर्वशक्तिमान हैं इसलिए कठिन से कठिन कार्य करने में भी प्रभु को कोई कठिनाई नहीं होती । जब जब धर्म की हानि होती है और त्रिलोक विजयी असुर सत्‍ता में आते हैं तब तब प्रभु उनके संहार के लिए अवतार ग्रहण करके सरलता से उनका नाश करके धर्म की पुन: स्‍थापना करते हैं ।

प्रभु सर्वशक्तिमान एवं सर्वसामर्थ्‍यवान हैं इसलिए प्रभु के लिए कुछ भी कठिन नहीं है और प्रभु हर कार्य बड़ी सहजता से करते हैं ।

प्रकाशन तिथि : 09 नवम्‍बर 2016
518 श्रीमद भागवतमहापुराण
(अष्‍टम स्‍कन्‍ध)
अ 05
श्लो 48
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
भगवान को समर्पित किया हुआ छोटे-से-छोटा कर्मभास भी कभी विफल नहीं होता । क्‍योंकि भगवन जीव के परम हितैषी, परम प्रियतम और आत्‍मा ही हैं ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन प्रभु श्री ब्रह्माजी ने प्रभु की स्‍तुति में कहे ।

जो कर्म प्रभु को समर्पित नहीं किये जाते हैं उनको करने में परिश्रम और क्‍लेश बहुत होता है और उनका फल बहुत कम निकलता है । परंतु जो कर्म प्रभु को समर्पित किये जाते हैं उनको करते वक्‍त भी परम सुख मिलता है और वे कर्म कभी विफल नहीं होते । प्रभु जीव के परम हितैषी और परम प्रियतम हैं इसलिए हर कर्म प्रभु को समर्पित करना चाहिए जिससे हमारा परम हित सुनिश्‍चित हो जाये । यह एक शाश्‍वत सिद्धांत है कि प्रभु का समर्पित किया छोटा से छोटा कर्म भी कभी विफल नहीं होता ।

इसलिए जीव को चाहिए कि वह अपने प्रत्‍येक कर्म को प्रभु को समर्पित करते हुये चले ।

प्रकाशन तिथि : 10 नवम्‍बर 2016
519 श्रीमद भागवतमहापुराण
(अष्‍टम स्‍कन्‍ध)
अ 07
श्लो 13
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
इस प्रकार भगवान ने पर्वत के उपर उसको दबा रखने वाले के रूप में, नीचे उसके आधार कच्‍छप के रूप में, देवता और असुरों के शरीर में उनकी शक्ति के रूप में, पर्वत में दृढता के रूप में और नेती बने हुए वासुकि नाग में निद्रा के रूप में - जिससे उसे कष्‍ट न हो - प्रवेश करके सब ओर से सबको शक्ति सम्‍पन्‍न कर दिया । .....


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - जब समुद्र मंथन प्रारंभ हुआ तो सभी तरफ प्रभु की शक्तियां ही काम कर रही थी । मन्‍दराचल पर्वत को प्रभु ने उपर से दबा कर रखा था और नीचे से श्री कच्‍छप अवतार लेकर उस मन्‍दराचल पर्वत को आधार दे रखा था । असुरों में उनकी शक्ति और बल को बढाने के लिए प्रभु ने प्रवेश किया । वैसे ही देवताओं की शक्ति और बल बढाने के लिए प्रभु ने देवरूप में उनमें प्रवेश किया । वासुकि नाग की नेती बनी थी इसलिए प्रभु ने निद्रा रूप में उसमें प्रवेश किया जिससे वह निद्रा में रहे और मथने से उसे कष्‍ट न होवे ।

यह दृष्टान्त यह बताता है कि सभी कार्य प्रभु अपनी शक्ति से सम्‍पन्‍न करते हैं । निमित कोई भी बने पर हर कार्य को सम्‍पादित करने के पीछे शक्ति प्रभु की ही होती है ।

इसलिए हमें अपने कर्म और बल का कभी घमंड नहीं करना चाहिए क्‍योंकि हमारे हर कर्म और बल में शक्ति प्रभु की ही होती है ।

प्रकाशन तिथि : 11 नवम्‍बर 2016
520 श्रीमद भागवतमहापुराण
(अष्‍टम स्‍कन्‍ध)
अ 07
श्लो 22
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
सारे जगत को बांधने और मुक्‍त करने में एकमात्र आप ही समर्थ हैं । इसलिए विवेकी पुरूष आपकी ही आराधना करते हैं । क्‍योंकि आप शरणागत की पीडा नष्‍ट करने वाले एवं जगदगुरू हैं ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन प्रजापतियों ने प्रभु श्री शिवजी की स्‍तुति में कहे ।

जब समुद्र मंथन में सबसे पहले हालाहल नाम का उग्र विष निकला तो देवता और असुर दोनों अत्‍यन्‍त व्‍याकुल हो उठे । वह उग्र विष सभी दिशाओं में उपर नीचे सर्वत्र फैलने लगा जिससे जलचर और थलचर सभी व्‍याकुल हो गये । तब सभी प्रभु श्री शिवजी की शरण में गये और रक्षा करने के लिए प्रार्थना करने लगे । सारे जगत को विपदा से मुक्‍त करने वाले एकमात्र प्रभु ही हैं । प्रभु शरणागत की पीड़ा को तत्‍काल नष्‍ट करने वाले हैं । प्रभु श्री शिवजी आशुतोष हैं एवं अपने शरण में आये हुये पर बहुत जल्‍दी से प्रसन्‍न होकर उसके कष्‍ट को हरने वाले हैं ।

इसलिए विवेकी पुरूष विपदा में शरणागत की पीड़ा को नष्‍ट करने वाले प्रभु की ही शरण ग्रहण करते हैं ।

प्रकाशन तिथि : 12 नवम्‍बर 2016
521 श्रीमद भागवतमहापुराण
(अष्‍टम स्‍कन्‍ध)
अ 07
श्लो 42
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
भगवान शंकर बड़े कृपालु हैं । उन्‍हीं की शक्ति से समस्‍त प्राणी जीवित रहते हैं । उन्‍होंने उस तीक्ष्‍ण हालाहल विष को अपने हथेली पर उठाया और भक्षण कर गये ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - सबका कल्‍याण करने के लिए विश्‍व के जीवनदाता प्रभु श्री शिवजी विषपान करने को सहर्ष तैयार हो गये । प्रभु श्री शिवजी अत्‍यन्‍त कृपालु हैं । इस अवसर पर उन्‍होंने ही विषपान करके सभी को नया जीवनदान दिया एवं उन्‍हीं की शक्ति से समस्‍त प्राणी जीवित रहे । प्रभु श्री शिवजी ने हालाहल विष को अपनी हथेली पर उठाया और विषपान किया ।

संतजन व्याख्या करते हुए कहते हैं कि क्‍योंकि प्रभु श्री शिवजी के हृदय में प्रभु का वास है इसलिए उन्‍होंने उस विष को अपने हृदय तक नहीं पहुँचने दिया जिससे भीतर विराजे प्रभु को कष्‍ट न हो । प्रभु श्री शिवजी ने इसलिए विष को अपने कंठ में ही स्‍थान दे दिया जिससे उनका कंठ नीला हो गया और प्रभु श्री शिवजी का एक नाम नीलकंठ पड़ गया ।

प्रभु श्री शिवजी जैसा दयावान कोई नहीं है इसलिए उन्‍हें देवाधिदेव और देवताओं के आराध्यदेव श्रीमहादेव कहते हैं ।

प्रकाशन तिथि : 13 नवम्‍बर 2016
522 श्रीमद भागवतमहापुराण
(अष्‍टम स्‍कन्‍ध)
अ 08
श्लो 23
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... वास्‍तव में लक्ष्‍मीजी के एकमात्र आश्रय भगवान ही हैं । इसी से उन्‍होंने उन्‍हीं को वरण किया ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - जब समुद्र मंथन में माता श्री लक्ष्‍मीजी प्रकट हुई तो उन्‍होंने प्रभु का वरण किया क्‍योंकि प्रभु में सभी मंगलमय गुण नित्‍य निवास करते हैं । इसलिए माता श्री लक्ष्‍मीजी के एकमात्र आश्रय प्रभु ही हैं ।

संसार में लोग आज माता श्री लक्ष्‍मीजी का आव्हान करते हैं और प्रभु का साथ में आव्हान नहीं करते और प्रभु को भूल जाते हैं । संसार के लोग सिर्फ माता श्री लक्ष्‍मीजी की ही कृपा चाहते हैं । माता श्री लक्ष्‍मीजी का श्रेष्‍ठ आव्हान तब होता है जब उनका श्री लक्ष्‍मीनारायणजी के स्‍वरूप में आव्हान किया जाये । जब माता प्रभु के साथ आती है तो दोनों जीव पर पूर्ण कृपा करते हैं । इसलिए जीवन में अकेले माता श्री लक्ष्‍मीजी का आव्हान कभी नहीं करना चाहिए ।

जीव को चाहिए कि वह श्री लक्ष्‍मीनारायणजी के स्‍वरूप की ही आराधना करे ।

प्रकाशन तिथि : 14 नवम्‍बर 2016
523 श्रीमद भागवतमहापुराण
(अष्‍टम स्‍कन्‍ध)
अ 09
श्लो 28
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
परीक्षित ! देखो - देवता और दैत्‍य दोनों ने एक ही समय एक स्‍थान पर एक प्रयोजन तथा एक वस्‍तु के लिये एक विचार से एक ही कर्म किया था, परन्‍तु फल में बड़ा भेद हो गया । उनमें से देवताओं ने बड़ी सुगमता से अपने परिश्रम का फल - अमृत प्राप्‍त कर लिया, क्‍योंकि उन्‍होंने भगवान के चरणकमलों की रज का आश्रय लिया था । परन्‍तु उससे विमुख होने के कारण परिश्रम करने पर भी असुरगण अमृत से वंचित ही रहे ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन प्रभु श्री शुकदेवजी ने राजा परीक्षित को कहे ।

जब समुद्र मंथन में अमृत निकला तो प्रभु ने मोहिनी अवतार लेकर दैत्‍यों को मोहित करके देवताओं को अमृत पिला दिया । देवता और दैत्‍य दोनों ने एक ही समय पर और एक ही स्‍थान पर अमृत प्राप्‍त करने के लिए कर्म किया पर उस कर्म के फल में बड़ा भेद हो गया । देवताओं को बड़े आसानी से उनके कर्म का फल अमृतरूप में मिला क्‍योंकि उन्‍होंने प्रभु के श्रीकमलचरणों के रज का आश्रय लिया था । परंतु प्रभु से विमुख होने के कारण परिश्रम करने के बाद भी दैत्‍य अमृत से वंचित रहे ।

यह एक शाश्‍वत सिद्धांत है कि जब हम प्रभु का आश्रय लेकर और प्रभु को समर्पित करके कोई कर्म करते हैं तो उसका शुभ फल हमें निश्चित मिलता है ।

प्रकाशन तिथि : 15 नवम्‍बर 2016
524 श्रीमद भागवतमहापुराण
(अष्‍टम स्‍कन्‍ध)
अ 09
श्लो 29
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... जैसे वृक्ष की जड़ में पानी देने से उसका तना, टहनियां और पत्‍ते - सब के सब सिंच जाते हैं, वैसे ही भगवान के लिये कर्म करने से वे सबके लिये हो जाते हैं ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन प्रभु श्री शुकदेवजी ने राजा परीक्षित को कहे ।

जब हम प्रभु के लिए कोई कर्म करते हैं तो वह कर्म संसार के लिए भी स्‍वत: हो जाता है । जैसे वृक्ष की जड़ में पानी देने से उसके तना, टहनियां और पत्‍ते सबकी सिंचाई हो जाती है वैसे ही प्रभु के लिए कर्म करने से सबके लिए वह कर्म स्‍वत: ही सिद्ध हो जाता है । वृक्ष की जड़ को पानी से सिंचने के बाद उस वृक्ष के तना, टहनियां और पत्‍ते को अलग से सिंचने की जरूरत नहीं होती क्‍योंकि वृक्ष की जड़ अपने आप पानी के पोषण को अपने तना, टहनियां और पत्‍ते तक पहुँचा देती है । ऐसे ही प्रभु के लिए कर्म करने के बाद और प्रभु की तृप्ति के बाद जगत के लिए अलग से कुछ करने की कोई आवश्यकता नहीं होती ।

इसलिए जीव को चाहिए कि वह अपने कर्म प्रभु के लिए करे और प्रभु को तृप्‍त करने के लिए करे ।

प्रकाशन तिथि : 16 नवम्‍बर 2016
525 श्रीमद भागवतमहापुराण
(अष्‍टम स्‍कन्‍ध)
अ 10
श्लो 55
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... ठीक ही है, भगवान की स्मृति समस्‍त विपत्तियों से मुक्‍त कर देती है ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - जब समुद्र मंथन के बाद देवासुर संग्राम हुआ तो दैत्‍यों ने माया की सृष्टि की और देवताओं पर छिपकर प्रहार करने लगे । देवताओं ने उस आसुरी माया का प्रतिकार करने के लिए बहुत कुछ उपाय किये पर सब व्‍यर्थ गये । जब देवताओं को कुछ नहीं सुझा तो उन्‍होंने विश्‍व के जीवनदाता प्रभु का ध्‍यान किया ।

उनकी विनती पर प्रभु तत्‍काल वहाँ प्रकट हुये और प्रभु के प्रकट होते ही असुरों की माया तुरंत विलीन हो गई । जैसे जगने पर स्‍वप्‍न की वस्‍तु का पता नहीं चलता वैसे ही प्रभु के प्रकट होते ही माया का पता भी नहीं चला और माया विलीन हो गई ।

प्रभु की स्मृति मात्र ही जीव को समस्‍त विपत्तियों से मुक्‍त करवा देती है । इसलिए विपत्ति के समय सिर्फ प्रभु को ही पुकारना चाहिए और प्रभु की ही शरण ग्रहण करनी चाहिए ।

प्रकाशन तिथि : 17 नवम्‍बर 2016
526 श्रीमद भागवतमहापुराण
(अष्‍टम स्‍कन्‍ध)
अ 12
श्लो 06
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
कल्‍याणकामी महात्‍मा लोग इस लोक और परलोक दोनों की आसक्ति एवं समस्‍त कामनाओं का परित्‍याग करके आपके चरणकमलों की ही आराधना करते हैं ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - जो अपने कल्‍याण की चाह रखते हैं, ऐसे महात्‍मा लोग इहलोक और परलोक दोनों की आसक्ति और अपनी समस्‍त कामनाओं को त्‍याग कर प्रभु के श्रीकमलचरणों की आराधना करते हैं ।

महात्‍मा, ऋषि और संत इहलोक और परलोक दोनों की आसक्ति को त्‍याग देते हैं और अपनी समस्‍त कामनाओं से रहित होकर प्रभु की आराधना और भक्ति करते हैं । जब तक जीव इहलोक और परलोक की आसक्ति में फंसा हुआ है और कामनाओं से युक्‍त है तब तक वह प्रभु को नहीं पा सकता ।

इसलिए जीव को चाहिए कि अपनी आसक्ति का त्‍याग करे और कामना रहित होकर प्रभु की आराधना करे ।

प्रकाशन तिथि : 18 नवम्‍बर 2016
527 श्रीमद भागवतमहापुराण
(अष्‍टम स्‍कन्‍ध)
अ 12
श्लो 07
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... आप विश्‍व की उत्‍पत्ति, स्थिति और प्रलय के परम कारण हैं । आप समस्‍त जीवों के शुभाशुभ कर्म का फल देने वाले स्‍वामी हैं । .....


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - प्रभु विश्‍व की उत्‍पत्ति, स्थिति और प्रलय के परम कारण हैं । विश्‍व की उत्‍पत्ति प्रभु से होती है । विश्‍व प्रभु में ही स्थित है । विश्‍व में प्रलय होने पर विश्‍व प्रभु में समा जाता है । फिर विश्‍व की नवीन रूप से उत्‍पत्ति प्रभु के भीतर से ही होती है ।

दूसरी बात जो श्‍लोक में कही गई है वह यह कि समस्‍त जीवों के शुभ कर्मों का फल देने वाले स्‍वमी प्रभु हैं । प्रभु ही सभी जीवों को उनके द्वारा किये गये शुभ कर्म का फल प्रदान करते हैं । हमें कर्म करने का अधिकार है पर उसका फल प्रभु के हाथ है । हमारे सभी कर्मों का फल प्रभु ही हमें देते हैं ।

इसलिए जीव को चाहिए कि वह शुभ कर्म करता चले और अपने शुभ कर्म को प्रभु को समर्पित करता चले ।

प्रकाशन तिथि : 19 नवम्‍बर 2016
528 श्रीमद भागवतमहापुराण
(अष्‍टम स्‍कन्‍ध)
अ 12
श्लो 46
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... क्‍योंकि पवित्रकीर्ति भगवान के गुण और लीलाओं का गान संसार के समस्‍त क्‍लेश और परिश्रम को मिटा देने वाला है ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्त वचन प्रभु श्री शुकदेवजी ने राजा परीक्षित को कहे । ।

जो पुरूष प्रभु के गुण और लीला का बार बार श्रवण और कीर्तन करते हैं उनका कर्म कभी भी और कही भी निष्फल नहीं होता । प्रभु पवित्रकीर्ति हैं और प्रभु के गुण और लीला का गान संसार के समस्‍त क्लेश और परिश्रम को मिटा देने वाला है । इसलिए संतजन नित्य प्रभु की लीलाओं और गुणों का गान और कीर्तन करते हैं । प्रभु के गुण और लीलाओं के गान और कीर्तन का फल कभी निष्फल नहीं होता । जीवन के क्‍लेशों को मिटाने का यह एक बहुत सफल साधन है ।

इसलिए जीव को चाहिए कि प्रभु के गुण और लीलाओं का कथा रूप में श्रवण और कीर्तन रूप में गान करे ।

प्रकाशन तिथि : 20 नवम्‍बर 2016