श्री गणेशाय नम:
Devotional Thoughts
Devotional Thoughts Read Articles सर्वसामर्थ्यवान एंव सर्वशक्तिमान प्रभु के करीब ले जाने वाले आलेख, द्वै-मासिक ( हिन्दी एंव अंग्रेजी में )
Articles that will take you closer to OMNIPOTENT & ALMIGHTY GOD, bimonthly (in Hindi & English)
Precious Pearl of Life श्रीग्रंथ के श्लोको पर दो छोटे आलेख ( हिन्दी एंव अंग्रेजी में ), प्रत्येक रविवार
Two small write-ups on Holy text (in Hindi & English), every Sunday
Feelings & Expressions प्रभु के बारे में उत्कथन ( हिन्दी एंव अंग्रेजी में ), प्रत्येक बुधवार
Quotes on GOD (in Hindi & English), every Wednesday
Devotional Thoughts Read Preamble हमारे उद्देश्य एवं संकल्प - साथ ही प्रायः पूछे जाने वाले प्रश्नों के उत्तर भी
Our Objectives & Pledges - Also answers FAQ (Frequently Asked Questions)
Visualizing God's Kindness वर्तमान समय में प्रभु कृपा के दर्शन कराते, असल जीवन के प्रसंग
Real life memoirs, visualizing GOD’s kindness in present time
Words of Prayer प्रभु के लिए प्रार्थना, कविता
GOD prayers & poems
प्रभु प्रेरणा से लेखन द्वारा चन्द्रशेखर करवा
CLICK THE SERIAL NUMBER BOX TO REACH THE DESIRED POST
25 26 27 28
29 30 31 32
33 34 35 36
37 38 39 40
41 42 43 44
45 46 47 48
क्रम संख्या श्रीग्रंथ अध्याय -
श्लोक संख्या
भाव के दर्शन / प्रेरणापुंज
25 श्रीमद भागवतमहापुराण
( महात्म्य )
अ 5
श्लो 71-73
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
इस फलभेद का कारण इनके श्रवण का भेद ही है । यह ठीक है कि श्रवण तो सबने समान रूप से ही किया है, किन्‍तु इनके (धुन्धुकारी) जैसा मनन नहीं किया । ............ तथा सुने हुए विषय का स्थिरचित्‍त से यह खूब मनन-निदिध्‍यासन भी करता रहता था । जो ज्ञान दृढ नहीं होता, वह व्‍यर्थ हो जाता है । इसी प्रकार ध्‍यान न देने से श्रवण का, संदेह से मंत्र का और चित्‍त के इधर-उधर भटकते रहने से जप का भी कोई फल नहीं होता ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - श्रीगोकर्णजी ने प्रभु के पार्षदों से पूछा की कथा तो सभी ने सुनी पर मुक्ति सिर्फ धुन्धुकारी की ही हुई, कथा के फल में ऐसा भेद क्यों हुआ ? उत्तर में प्रभु के पार्षदों ने उपरोक्‍त बात कही ।

यह फल भेद जानना कलियुग में बड़ा जरूरी है, क्योंकि इस युग में ऐसा अनेकों बार होता ही रहता है । हम कथा मात्र सुनते हैं, मनन नहीं करते, चिंतन नहीं करते, उसके भाव की गहराई में नहीं उतरते, इसलिए वह दृढता से हमारे अन्‍तःकरण में स्थित नहीं होती और हमारा उपक्रम व्यर्थ चला जाता है । ठीक वैसे ही, जैसे ज्ञान जो दृढ नहीं होता, वह व्यर्थ चला जाता है । जो श्रवण ध्यान से नहीं किया गया हो, वह व्यर्थ चला जाता है । जिस मंत्र में विश्वास न हो, वह व्यर्थ चला जाता है । जिस जप में चित भटके, वह किया हुआ जप व्यर्थ चला जाता है ।

हम प्रभु की ओर ले जाने वाले अध्‍यात्‍म ज्ञान में दृढता नहीं लाते, हम प्रभु के श्रीलीलाओं की कथा में पूरा ध्यान नहीं लगाते, हम मंत्र को पूर्ण विश्वास से नहीं जपते और हम जप के समय चित को पुरी तरह प्रभु में स्थित नहीं करते - इसलिए हम विफल हो जाते हैं ।

प्रभु के मार्ग में सफल होने का कितना सुन्दर सूत्र प्रभु के पार्षदों ने श्रीगोकर्णजी एंव धुन्धुकारी की कथा को निमित बना कर हमें दिया है ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 19 अगस्‍त 2012
26 श्रीमद भागवतमहापुराण
( महात्म्य )
अ 5
श्लो 80,81 एवं 83
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
वहाँ भक्‍तों से भरे हुए विमानों के साथ भगवान प्रकट हुए । सब ओर से खूब जय-जयकार और नमस्‍कार की ध्‍वनियां होने लगीं । भगवान स्‍वयं हर्षित होकर अपने पाजाजन्‍य शंख की ध्‍वनि करने लगे और उन्‍होनें गोकर्ण को हृदय से लगाकर अपने ही समान बना लिया । ............ उस गाँव में कुत्‍ते और चाण्‍डाल पर्यन्‍त जितने भी जीव थे, वे सभी गोकर्णजी की कृपा से विमानों पर चढ़ा लिये गये ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - श्रद्धापूर्वक कथा वाचन और कथा श्रवण का अदभुत फल देखें कि प्रभु स्‍वयं उपस्थित हुये और गौकर्णजी को ह्रदय लगाकर जीव और "शिव" के भेद को मिटा दिया । उस गांव के कुत्‍ते और चाण्डाल पर्यन्‍त जितने भी जीव थे सभी मुक्ति को प्राप्त हुये ।

पहली कथा जिसमें धुन्धुकारी मुक्त हुआ था वह भी श्रीगौकर्णजी ने कही थी और सभी ने सुनी थी पर पूर्ण श्रद्धा, पूर्ण ध्यान, पुर्ण विश्वा‍स की कमी के कारण किसी की मुक्ति ( धुन्धुकारी को छोड़कर ) नहीं हुई । दुबारा कथा में सबने वह गल‍ती नहीं की जो पहले की थी । फलस्‍वरूप सबकी मुक्ति संभव हुई । गांव के समस्‍त पशु योनि और यहाँ तक की चाण्डाल तक मुक्त हुये ।

प्रभु के प्रति श्रद्धा, प्रभु के प्रति विश्वास, प्रभु की भक्ति कितनों का उद्धार स्वतः कर देती है यह श्रीरामचरितमानस के श्रीकेवट प्रसंग में भी देखने को मिलता है । परम कृपालु और परम दयालु प्रभु ने केवट के साथ उनकी पिछली और अगली पीढ़ीयों को स्वतः तार दिया । संतो ने उस दिव्य प्रसंग की व्याख्या करते हुये और प्रभु की करूणा, दया और कृपा के अदभुत दर्शन करते हुये बताया है कि प्रभु की भक्ति के कारण प्रभु ने केवट की 21 पिछली पीढ़ीयां और 21 आने वाली पीढ़ीयों को तार दिया । केवट ने तो सिर्फ यह चाहा था कि प्रभु मेरे घाट आये तो मैंने पार उतार दिया, ऐसे ही जब मैं प्रभु के घाट ( भवसागर ) आऊ तो प्रभु भी कृपा दृष्टि डाल कर मुझे पार लगा देवें । पर प्रभु ने उसकी पीढ़ीयों दर पीढ़ीयों को पार कर दिया । सूत्र क्या है - प्रभु के लिए जितनी श्रद्धा, विश्वास और भक्ति मन में हो प्रभु की कृपा उससे कई कई कई गुणा बढ़कर जीवन में और जीवन के बाद भी शुभफल देती है ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 19 अगस्‍त 2012
27 श्रीमद भागवतमहापुराण
( महात्म्य )
अ 6
श्लो 27
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
करूणानिधान ! मैं संसार-सागर में डूबा हुआ और बड़ा दीन हूँ । कर्मों के माहरूपी ग्राह ने मुझे पकड रखा है । आप इस संसार से मेरा उद्धार कीजिये ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - कथा-सप्ताह-यज्ञ की विधि में कथा प्रारंभ से पूर्व प्रभु से यह स्तु्ति करने का प्रावधान है । स्तुति के शब्द कितने सटीक और सार्थक चुने गये हैं ।

हम संसार सागर में डुबे हुये हैं और मानव जीवन के उद्देश्य से विमुख होने के कारण दीन अवस्था में हैं । धन, संपत्ति से हम कितने भी लदे हुये हो फिर भी जीवन उद्देश्य को भुलने के कारण हम दीन हैं ।

संसार के कर्मो के मोहरूपी ग्राह ( मगरमच्छ ) ने हमें पकड रखा है । संसारी कर्मो के मोह ने हमारी लिप्‍तता धन कमाना, संपत्ति बढाना, परिवार बढाना जैसे संसारी कर्मो में बढा दी है । हमारा हाल भी श्रीगजेन्द्रजी की तरह हो गया है, जो जीवन की लडाई ग्राह (मगरमच्छ) से हार कर डूबने के कगार पर है । प्रभु ने जैसे श्रीगजेन्द्रजी का उद्धार किया, प्रभु से हमारा भी वैसा ही उद्धार करने की प्रार्थना की गई है । प्रभु की कृपा, प्रभु की दया के बिना जीव का संसार सागर और कर्ममोह से छुट पाना पूर्णतः असंभव है ।

प्रभु भक्ति के बल पर प्रभु की कृपा एंव प्रभु की दया को जीवन में अर्जित करना चाहिए, तभी हमारी मानव जीवन की सफलता और जीवन पश्चात उद्धार हो सकता है ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 26 अगस्‍त 2012
28 श्रीमद भागवतमहापुराण
( महात्म्य )
अ 6
श्लो 37
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
जो पुरूष लोक, संपत्ति, धन, घर और पुत्रादि की चिन्‍ता छोडकर शुद्धचित्त से केवल कथा में ही ध्‍यान रखता है, उसे इसके श्रवण का उत्‍तम फल मिलता है ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - कितने सार्थक तथ्य जिसकी प्रायः हम अनदेखी करते हैं ।

प्रभु कथा, भजन, र्कीतन, पूजन, मंत्र-जप के समय प्रायः हम लोक, संपत्ति, धन और पुत्रादि की चिंता भूल नहीं पाते और चित्त एकाग्र कर प्रभु को अर्पण नहीं कर पाते, इसलिए हमारा उपक्रम उतना फलदायी नहीं होता ।

आरती के शब्द - “तन मन धन सब कुछ है तेरा, तेरा तुमको अर्पण क्या लागे मेरा” - दिन में दो बार हम जरूर गुनगुनाते हैं पर लाभ तभी होगा जब वैसा करें । उपरोक्‍त श्लोक भी “तन–मन” प्रभु कथा में अर्पण करने का समर्थन करता है और शुद्धचित्त (यानी चित्त की वासनाएं, अशुद्धियां जैसे द्वेष, मद, लोभ इत्यादि त्याग कर) किया गया श्रवण को ही उत्‍तम फलदायी माना गया है ।

हम जीवन में जब-जब ऐसा कर पाते हैं तब-तब हमें प्रभु के सानिध्य के, प्रभु की कृपा के, प्रभु की दया के दर्शन जरूर होते हैं । गलती हमारी है की हम ऐसा कर नहीं पाते और इसलिए प्रभु के सानिध्य, प्रभु की कृपा के, प्रभु की दया से वंचित रह जाते हैं ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 26 अगस्‍त 2012
29 श्रीमद भागवतमहापुराण
( महात्म्य )
अ 6
श्लो 51 एवं 53
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
धनहीन, क्षयरोगी, किसी अन्‍य रोग से पीडित, भागयहीन, पापी, पुत्रहीन और मुमुक्षु भी यह कथा श्रवण करें । ये सब यदि विधिवत कथा सुनें तो इन्‍हें अक्षय फल की प्राप्ति हो सकती है । यह अत्‍युत्‍तम दिव्‍य कथा करोडों यज्ञों का फल देने वाली है ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - पतितों के उद्धार के लिए प्रभु के द्वार सदैव खुले रहते हैं, इस तथ्‍य का सर्मथन यहाँ मिलता है । पतितों के लिए संसार के सभी द्वार बंद हो सकते हैं पर प्रभु (परमपिता) के द्वार कभी बंद नहीं होते । प्रभु कभी द्वार बंद नहीं करते, हम ही राह भटक जाते हैं, गलत दिशा में चले जाते हैं और खुद को प्रभु मार्ग से एवं प्रभु से दूर करने का अपराध कर बैठते हैं ।

दुसरी बात, पतितों को अक्षय फल की प्राप्ति की बात कही गई है । संसार से हमें कुछ भी मिलता है वह कभी अक्षय नहीं हो सकता, उसका क्षय होना स्‍वभाविक है । अक्षय फल देने की सामर्थ्य तो सिर्फ और सिर्फ परमपिता परमेश्‍वर में ही है । कितने ही दृष्टान्त हरि कथाओं में मिलेंगे जब प्रभु ने अपने भक्‍तों को अक्षयदान दिया है । श्री सुदामा चरित्र इसका जीवन्‍त उद्धारण है ।

संतों ने व्‍याख्‍या की है कि सुदामाजी के भाग्‍यरेखा में श्रीब्रह्माजी भगवान ने लिखा था कि इनके पास " श्री (धन) का क्षय हो " यानी धन कभी रहेगा नहीं, टिकेगा नहीं । सुदामाजी के साथ ऐसा ही होता था कि दिन में दो समय के भोजन की भी व्‍यवस्‍था नहीं होती थी , घर पर छत नहीं थी, कपडे इतने जगह से फटे रहते थे की गिनती भी भूल जायें । पर देखें मेरे श्रीहरि की कृपादृष्टी का प्रभाव की उसने भाग्‍यरेखा को ही पलट दिया । प्रभु ने ब्रह्मवाक्‍य में मात्र दो शब्‍द जोड दिये जिससे नया अर्थ बन गया " श्री (धन) का कभी क्षय नहीं हो " । फिर प्रभु की प्रेरणा से श्री विश्‍वकर्मा भगवान ने दिव्‍य सुदामापूरी का निर्माण किया और जो संपदा, ऐश्वर्य सुदामाजी को मिली उसका कभी क्षय नहीं हुआ ।

अक्षयदान का यह स्वर्णिम उद्धारण जीवन में सदैव याद रखना चाहिए और साथ में यह भी याद रखना चाहिए कि भक्‍त सुदामाजी ने इतना सब पाकर क्‍या किया - नित्‍य की तरह प्रभु का भजन, पूजन और सेवा । प्रभु की कृपा को निरंतर बनाये रखने का यही एकमात्र तरीका है

प्रकाशन तिथि : रविवार, 02 सितम्‍बर 2012
30 श्रीमद भागवतमहापुराण
( महात्म्य )
अ 6
श्लो 83
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
यह रस स्‍वर्गलोक, सत्‍यलोक, कैलास और वैकुण्‍ठ में भी नहीं है । इसलिये भाग्‍यवान श्रोताओ ! तुम इसका खूब पान करो ; इसे कभी मत छोडो, मत छोडो ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - व्‍यासनंदन योगेश्‍वर श्रीशुकदेवजी के अनमोल शब्‍द की प्रभु कथा का रस म़त्‍युलोक (पृथ्वी) को छोडकर कही भी नहीं है (इसीलिए तो देवतागण भी म़त्‍युलोक में जन्‍म पाने के लिए लालायित रहते हैं ) ।

पृथ्वी के लोगों को इसलिए "भाग्‍यवान" की संज्ञा से संबोधित करते हुये श्रीशुकदेवजी ने कहा है कि प्रभु का गुणगान करने वाली प्रभु की कथा का खूब पान करो, शरीर में जब तक चेतना रहें तब तक बार बार पान करो । विशेष ध्‍यान देवें इन शब्‍दों पर - इसे कभी मत छोडो, मत छोडो

जीव हित, जीव कल्‍याण के लिए कितना प्रबल आग्रह करके हम पर अनुग्रह किया है आत्‍मज्ञान के महासागर व्‍यासनंदन श्रीशुकदेवजी ने ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 02 सितम्‍बर 2012
31 श्रीमद भागवतमहापुराण
( महात्म्य )
अ 6
श्लो 91
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
उस समय शुकदेवजी ने भक्ति को उसके पुत्रों सहित अपने शास्त्र में स्‍थापित कर दिया । इसी से भागवत का सेवन करने से श्रीहरि वैष्‍णवों के हृदय में आ विराजते हैं ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - जब व्‍यासनंदन योगेश्‍वर श्रीशुकदेवजी श्रीमद भागवत महापुराण का महात्म्य बता रहे थे तभी श्रीहरि प्रभु अपने पार्षदों सहित प्रकट हुये थे । कथामृत के कारण ही सभी को प्रभु के दुर्लभ दर्शन हुये । सभी लोगों को बड़ा आनंद हुआ था और सभी का सारा मोह नष्‍ट हो गया था । तब व्‍यासनंदन श्रीशुकदेवजी ने सकल जगत के कल्याणार्थ देवी भक्ति को अपने पुत्रों ज्ञान और वैराग्‍य के साथ इस परम पुनीत महापुराण में सदैव के लिए स्‍थापित कर दिया । इसलिए श्रीमद भागवतजी के सेवन से हृदय में भक्ति के अंकूर फुटते हैं, आध्‍यात्‍म ज्ञान (सभी ज्ञानों में श्रेष्‍ठ) जाग्रत होता है, संसार के प्रति मोह हटकर वैराग्‍य भाव आता है । और इन सब के कारण हम सच्‍चे वैष्‍णव बन जाते हैं । प्रभु तो नित्‍य वैष्‍णवों के हृदय में ही वास करते हैं

इस तथ्‍य की पुष्टि एक अन्‍य प्रसंग में भी होती है । एक बार देवर्षि श्रीनारदजी ने प्रभु से पुछा था कि आपके मिलने का निश्‍चित स्‍थान (गोलोक, साकेत, क्षीरसागर में से) कौन सा है, तो प्रभु ने कहा था कि मैं भक्‍तों के हृदय में सदैव ही मिलता हूँ - वहाँ मेरा निश्‍चित वास है

भक्ति हमें सच्‍चा वैष्‍णव बना देती है । हमारे भीतर वैष्‍णव गुण भर देती है । यही वैष्‍णव गुण प्रभु को अत्‍यन्‍त प्रिय होते हैं । संत श्रीनरसी जी ने वैष्‍णवों का सबसे श्रेष्‍ठ चित्रण अपने अमर भजन "वैष्‍णव जन तो तेने कहिये" में किया है । महात्‍मा गांधीजी ( जिनके बारे में एक श्रद्धांजलि में कहा गया था कि आने वाली पीढी कदाचित ही यह विश्‍वास कर पायेगी की हाड-मांस का एक ऐसा महामानव कभी इस धरती पर चला होगा । ) जो एक सच्‍चे वैष्‍णव थे, उनका यह अति प्रिय भजन है । "वैष्‍णव जन तो तेने कहिये" में वर्णित वैष्‍णव गुणों पर एक नजर -

वैष्णव वह है -
(1) जो अभिमान रहित होकर परोपकार करे - (क) दुसरो के दुःख को जाने (ख) दुःखी का उपकार करे (ग) ऐसा करने पर भी मन में अभिमान का भाव नहीं लाये ,
(2) जो सकल लोक में किसी की भी निन्दा न करे ,
(3) जो अपने वचन और कर्म को निश्‍छल (छल रहित) रखे ,
(4) जो हर जीव और प्राणी को समदृष्टि भाव से देखे ,
(5) जो मन से तृष्णा (कामना) का त्याग करे ,
(6) जो माता के भाव से परस्त्री को देखे ,
(7) जो थकी जिह्‌वा से भी असत्य नहीं बोले ,
(8) जो पराये धन पर हाथ जाते ही, जिसके हाथ जलने एंव छाले पडने का भाव आये और हाथ छिटक जाये ,
(9) जो मोह और माया में अपने मन को नहीं व्यापने (फसने) दे ,
(10) जो दृढ वैराग्य अपने मन में रखे ,
(11) जो सिर्फ और सिर्फ राम नाम की ताली बजाये ( किसी सांसारिक नाम की ताली नहीं ) ,
(12) जो मन को लोभ और कपट से रहित रखे ,
(13) जो मन को काम और क्रोध से निवृत्‍त रखे ,

उपरोक्त आचरण रखने वाला -
(क) ऐसा पवित्र हो जाता है जैसे सकल तीर्थ उसके तन में आ बसे हो ,
(ख) कुटुम्ब में ऐसा एक भी प्राणी उस कुटुम्ब का पीढियों सहित उद्धार कर देता है ,
(ग) ऐसे आचरण युक्त वैष्णव अपने जन्म देने वाली जननी (माता) के कोख को धन्य धन्य कर देता है ।

भक्ति में ही इतनी प्रबल और प्रगाढ शक्ति होती है कि हमारे भीतर ऐसे स्वर्णिम वैष्‍णव गुण विकसित कर देती है जो प्रभु को अति प्रिय होते हैं ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 09 सितम्‍बर 2012
32 श्रीमद भागवतमहापुराण
( महात्म्य )
अ 6
श्लो 92
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
जो लोग दरिद्रता के दुःखज्‍वर की ज्‍वाला से दग्‍ध हो रहे हैं, जिन्‍हें माया-पिशाची ने रौंद डाला है तथा जो संसार-समुद्र में डूब रहे हैं, उनका कल्‍याण करने के लिये श्रीमदभागवत सिंहनाद कर रहा है ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - दरिद्र, दुःखीजन, माया में फसे, संसार सागर में डूब रहे लोगों को कितना बल प्रदान करता यह श्‍लोक । ऐसे लोगों का कल्‍याण करने का सामर्थ्‍य रखने वाला यह श्रीग्रंथ, एक सिंह की तरह सिंहनाद कर रहा है । शेर के सिंहनाद से (दहाडने से) भेड, बकरी एवं अन्‍य जीव जैसे भाग खडे होते हैं, ठीक वैसे ही श्रीमद भागवतजी के सिंहनाद से दरिद्रता, दुःख, माया भाग जाते हैं

हमें जरूरत है मात्र श्रीमद भागवतजी के शरण में जाने की - इस श्रीग्रंथ में वह भव्‍यता और सामर्थ्‍य है की हमारे भीतर की भक्ति को प्रबल कर प्रभु से मिलना का द्वार खोल देती है ।

यहाँ एक शब्‍द "पिशाची" पर विशेष ध्‍यान देना चाहिए । माया को पिशाची की संज्ञा दी गई है । पर हमारा दुर्भाग्य देखें की हम इस "पिशाची" के चक्‍क्‍र में पड कर अपने मानव जीवन का उद्देश्य ही भूल जाते हैं जो की प्रभु को (भक्ति द्वारा) प्राप्‍त करना है

प्रकाशन तिथि : रविवार, 09 सितम्‍बर 2012
33 श्रीमद भागवतमहापुराण
( महात्म्य )
अ 6
श्लो 97
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
............... इस कलियुग में भागवत की कथा भवरोग की रामबाण औषध है ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - यहाँ दो शब्‍दों का विशेष महत्‍व है । पहला शब्‍द "भवरोग" - यानी भवसागर, संसार सागर के सभी रोग । एक- दो रोग, कुछ रोग नहीं, सभी रोग । श्रीमद भागवतजी भवरोग की रामबाण औषधी है ।

दुसरा शब्‍द "रामबाण" - यानी वह बाण जो कभी विफल हो ही नहीं सकता । जो चला तो लक्ष्‍य को भेद कर ही आयेगा, चाहे लक्ष्‍य कुछ भी हो ।

कितना सुन्‍दर मर्म हे कि कलिकाल में संसार सागर के समस्‍त रोग को नष्‍ट करने वाला रामबाण औषधी । सभी संसार रोग पर कभी विफल नहीं होने वाली एक रामबाण औषधी - श्रीमद भागवतमहापुराण

प्रकाशन तिथि : रविवार, 16 सितम्‍बर 2012
34 श्रीमद भागवतमहापुराण
( महात्म्य )
अ 6
श्लो 99
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
अपने दूत को हाथ में पाश लिये देखकर यमराज उसके कान में कहते हैं - ' देखो, जो भगवान की कथावार्ता में मत्‍त हो रहे हों, उनसे दूर रहना; मैं औरों को ही दण्‍ड देने की शक्ति रखता हूँ, वैष्‍णवों को नहीं ' ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - नर्क के डर को एकदम और एकबार में खत्‍म कर देने वाला यह श्‍लोक मुझे इसलिए बेहद प्रिय है क्‍योंकि यह भक्ति के सामर्थ्‍य को प्रदर्शित करता है ।

श्री यमराज जी अपने यमदूतों को सावधान करते हैं कि मैं सबको दंड देने की शक्ति रखता हूँ पर वैष्‍णवों को नहीं । इसका मर्म क्‍या है । श्री यमराज जी हमारे अपराध के कारण ही हमें दण्‍ड देते हैं - यह प्रावधान है । अगर अपराध नहीं तो दण्‍ड नहीं दे सकते । भक्‍तों के जन्‍म-जन्‍मांतर के अपराध प्रभु क्षणभर में भस्‍म कर देते हैं । श्रीमद भागवतजी में ऐसी व्‍याख्‍या है ।

श्रीरामचरित मानस में इसी तथ्‍य का समर्थन मेरे प्रभु श्रीरामजी स्‍वमं अपने श्रीवचनों में विभीषण के समक्ष, सुन्‍दकाण्‍ड की मंगलमय एवं अमर चौपाई "सनमुख होइ जीव मोहि जबहीं, जन्‍म कोटि अघ नासहिं तबहीं " में करते हैं ।

प्रभु जैसे ही भक्‍त पर कृपा और दया करके उसके अपराध भस्‍म कर देते हैं, उस अपराध की दण्‍ड की प्रक्रिया भी वहाँ स्वतः ही खत्‍म हो जाती है । श्री यमराज जी का यमदण्‍ड फिर उस भक्‍त पर नहीं चल सकता ।

उपरोक्‍त श्‍लोक में श्री यमराज जी का कथन इसी तथ्‍य को सत्‍यापित करता है ।


अब हम श्रीमद भागवतमहापुराण के प्रथम स्‍कन्‍ध में प्रभु कृपा के बल पर मंगल प्रवेश करेंगे ।
श्रीमद भागवतमहापुराण के महात्म्य तक की इस यात्रा को प्रभु के पावन और पुनित श्रीकमलचरणों में सादर अर्पण करता हूँ ।
जगजननी मेरी सरस्‍वतीमाँ का सत्‍य कथन है कि अगर पूरी पृथ्वीमाता कागज बन जाये एवं समुद्रदेव का पूरा जल स्‍याही बन जायें, तो भी वे बहुत अप्रर्याप्‍त होगें मेरे प्रभु के ऐश्‍वर्य का लेशमात्र भी बखान करने के लिए - इस कथन के मद्देनजर हमारी क्‍या औकात कि हम किसी भी श्रीग्रंथ के किसी भी अध्‍याय, खण्‍ड में प्रभु की पूर्ण महिमा का बखान तो दूर, बखान करने की सोच भी पायें ।
जो भी हो पाया प्रभु के कृपा के बल पर ही हो पाया है । प्रभु के कृपा के बल पर किया यह प्रयास मेरे (एक विवेकशुन्‍य सेवक) द्वारा प्रभु को अर्पण ।
प्रभु का,
चन्‍द्रशेखर कर्वा


प्रकाशन तिथि : रविवार, 16 सितम्‍बर 2012
35 श्रीमद भागवतमहापुराण
( प्रथम स्‍कन्‍ध )
अ 1
श्लो 1
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
जिससे इस जगत की सृष्टि, स्थिति और प्रलय होते हैं - क्‍योंकि वह सभी सद्रूप पदार्थों में अनुगत है और असत पदार्थों से पृथक है; जड नहीं, चेतन है; परतंत्र नहीं, स्‍वयंप्रकाश है; जो ब्रह्मा अथवा हिरण्‍यगर्भ नहीं प्रत्‍युत उन्‍हें अपने संकल्‍प से ही जिसने उस वेदज्ञान का दान किया है; जिसके सम्‍बन्‍ध में बड़े-बड़े विद्वान भी मोहित हो जाते हैं; जैसे तेजोमय सूर्यरश्मियों में जल का, जल में स्‍थल का और स्‍थल में जल का भ्रम होता है, वैसे ही जिसमें यह त्रिगुणमयी जाग्रत-स्‍वप्‍न-सुषुप्तिरूपा सृष्टि मिथ्‍या होने पर भी अधिष्‍ठान-सत्‍ता से सत्‍यवत प्रतीत हो रही है, उस अपनी स्‍वयंप्रकाश ज्‍योति से सर्वदा और सर्वथा माया और मायाकार्य से पुर्णतः मुक्‍त रहने वाले परम सत्‍यरूप परमात्‍मा का हम ध्‍यान करते हैं ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - इस मंगलाचरण के श्‍लोक की कितनी ही बातें मुझे बहुत प्रिय हैं । एक-एक करके नीचे देखेंगें ।

जिनसे जगत की सृष्टि, स्थिति और प्रलय होते हैं - यानी अंग्रजी में GOD शब्‍द की व्याख्या G= Generator, O= Operator, D= Destroyer

जो जड नहीं, चेतन है; परतंत्र नहीं, स्‍वयंप्रकाश है - प्रभु चेतन रूप में हम सभी जीवों में हैं । पर जीव परतंत्र है, बंधा हुआ है और प्रभु स्‍वतंत्र हैं, बंधे हुये नहीं हैं । परतंत्र जीव एक-दुसरे को, यानी एक परतंत्र दुसरे परतंत्र को मुक्‍त नहीं कर सकता । स्‍वतंत्र प्रभु ही परतंत्र जीव को मुक्‍त कर सकते हैं । प्रभु स्‍वयंप्रकाश हैं, यानी उन्‍हें किसी के प्रकाश की आवश्‍यकता नहीं क्‍योंकि वे ही सभी प्रकाशों के एकमात्र स्त्रोत्र हैं

जिसके सम्‍बन्‍ध में बड़े-बड़े विद्वान भी मोहित हो जाते हैं - बड़े-बड़े विद्वानों की बात तो छोड दें जिनके बारे में वेद, माता सरस्‍वती, देवादिदेव महादेव, सनकादीऋषि भी मोहित होकर नेती-नेती कह कर शान्‍त हो जाते हैं

जिनकी माया के प्रभाव से सृष्टि मिथ्‍या होने पर भी हमें सत्‍यवत प्रतीत हो रही है, माया और मायाकार्य से सर्वदा और सर्वथा पुर्णतः मुक्‍त रहने वाले एकमात्र प्रभु ही हैं - माया से अन्‍य कोई भी बच नहीं पाया है । देवता, ऋषि, संत, भक्‍त सभी कभी न कभी माया के प्रभाव में फंसे हैं और प्रभु ने ही कृपा और दया करके उन्‍हें इससे मुक्ति दिलाई है । अगर कोई अपवाद स्‍वरूप नहीं फंसा है तो वह भी प्रभु कृपा और दया के कारण ही माया से बच पाया है ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 23 सितम्‍बर 2012
36 श्रीमद भागवतमहापुराण
( प्रथम स्‍कन्‍ध )
अ 1
श्लो 19
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
पुण्‍यकीर्ति भगवान की लीला सुनने से हमें कभी भी तृप्ति नहीं हो सकती; क्‍योंकि रसज्ञ श्रोताओं को पद-पद पर भगवान की लीलाओं में नये-नये रस का अनुभव होता है ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - प्रभु से सच्‍चा प्रेम करने वाले की व्‍याख्‍या यहाँ मिलती है । जिसे प्रभु की मंगलमयी लीलायें सुनने से कभी तृप्ति नहीं होती, वही सच्‍चा भक्‍त है । सर्वोच्च उदाहरण भक्‍त शिरोमणी श्रीहनुमानजी का है । जब प्रभु श्रीरामजी अपनी मर्यादा लीला को विश्राम दे स्‍वधाम जाने को हुये, तो प्रभु ने अपने साथ सभी अयोध्‍यावासी को प्रभुधाम ले जाने की तैयारी की पर श्रीहनुमानजी ने हाथ जोडकर स्‍वयं के लिए मृत्युलोक (पृथ्वी) में ही रूके रहना का निवेदन प्रभु से किया । प्रभु ने कारण पुछा तो भक्‍त शिरोमणी श्रीहनुमानजी ने कहा कि मृत्युलोक में आपकी कथाअमृत का रसपान मैं निरंतर करते रहना चाहता हूँ ।

श्रीहनुमानजी को श्रीरामकथा सुनने से कभी भी तृप्ति नहीं होती जबकी वे स्‍वयं उस श्रीकथा के सबसे श्रेष्‍ठ पात्र रहें हैं, कथा में वर्णित घटनाओं को उन्‍होनें प्रत्‍यक्ष रूप में देखा है और उसमें पात्र भी रहे हैं पर फिर भी बार बार प्रभु की लीलाओं को निरंतर सुनते रहने की लालसा उनके भीतर जाग्रत है । यही सच्‍चे भक्‍त की निशानी है क्‍योंकि बार बार प्रभु लीलाओं को सुनने से नये-नये रस का अनुभव, नयी-नयी व्‍याख्‍यायें, नये-नये दर्शन भक्‍त को होते ही रहते हैं । संत पुरूष ऐसा ही किया करते हैं ।

पर साधारण जीव के मन में यह विचार आ जाता है कि कथा तो हमने एक बार - दो बार सुन चुके हैं, कथा तो हमें पता ही है, अब बार-बार समय व्‍यर्थ क्‍यों करें ।

जिस जीव के मन में ऐसी भावना हो, उसे कथा की गहराई में उतर कर, भाव के दर्शन करने का प्रयास करना चाहिए । क्‍योंकि प्रभु कथा भक्‍तों को परम रोमांचित करती है । रोम-रोम पुलकित हो जाते हैं, हृदय में आनंद के हिलोरे उठते हैं । रोमांचित करने वाला, पुलकित करने वाला, पवित्र करने वाला, आनंदित करने वाला इससे बड़ा कोई साधन है ही नहीं । न पूर्व में इससे बड़ा कोई साधन था और भविष्‍य में भी इससे बड़ा कोई साधन होना संभव भी नहीं है क्‍योंकि प्रभुकथा परमानंद की पराकाष्‍ठा है ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 23 सितम्‍बर 2012
37 श्रीमद भागवतमहापुराण
( प्रथम स्‍कन्‍ध )
अ 2
श्लो 3
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
यह श्रीमद भागवत अत्‍यन्‍त गोपनीय - रहस्‍यात्‍मक पुराण है । यह भगवत्‍स्‍वरूप का अनुभव करानेवाला और समस्‍त वेदों का सार है । संसार में फंसे हुए जो लोग इस घोर अज्ञानान्‍धकार से पार जाना चाहते हैं, उनके लिए आध्यात्मिक तत्‍वों को प्रकाशित करानेवाला यह एक अद्वितीय दीपक है । .........


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - श्रीमद भागवतजी का कितना सुन्‍दर मर्म यहाँ मिलता है ।

कुछ शब्‍दों की ओर विशेष ध्‍यान दें । यह महापुराण अत्‍यन्‍त गोपनीय और रहस्‍यात्‍मक ( रहस्‍यों को खोलने वाला ) है । प्रभु के स्‍वरूप को प्रत्‍यक्ष अनुभव कराने वाला महापुराण, समस्‍त वेदों का साररूप है अज्ञानान्‍धकार यानी अज्ञान के अंधकार से निकाल आध्‍यात्‍म ज्ञान का प्रकाश देने वाला अद्वितीय दीपक है

श्‍लोक के एक-एक शब्‍द कितने सटिक और सत्‍य हैं - यह तो सच्‍चे भाव से कथाअमृत का पान करने से हमें स्वतः ही अनुभव होता है ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 30 सितम्‍बर 2012
38 श्रीमद भागवतमहापुराण
( प्रथम स्‍कन्‍ध )
अ 2
श्लो 6
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
मनुष्‍यों के लिए सर्वश्रेष्‍ठ धर्म वही है, जिससे भगवान श्रीकृष्ण में भक्ति हो - भक्ति भी ऐसी, जिसमें किसी प्रकार की कामना न हो और जो नित्‍य-निरंतर बनी रहे; ऐसी भक्ति से हृदय आनन्‍दस्‍वरूप परमात्‍मा की उपलब्धि करके कृतकृत्‍य हो जाता है ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - भागवत धर्म का सुचक एक अद्वितीय श्‍लोक । संसार पटल पर धर्म की सबसे श्रेष्‍ठ व्‍याख्‍या यहाँ मिलती है

धर्म वह जो प्रभु की भक्ति करा दें, भक्ति भी ऐसी जो निस्‍वार्थ हो, नित्‍य निरंतर हो । ऐसी भक्ति का फल क्‍या है - आनंदस्‍वरूप प्रभु का हृदयपटल पर साक्षात अनुभव, प्रभु का साक्षात दर्शन कराकर मानव जीवन को कृतकृत्‍य कर देना । प्रभु साक्षात्‍कार द्वारा जीव और "शिव" का मिलना मानव जीवन की सच्‍ची पराकाष्‍ठा है । ( हमने मानव जीवन में कितना धन कमाया, कितनी प्रतिष्‍ठा कमाई - यह मानव जीवन को आंकने का बहुत गौण और बहुत बौना मापदण्‍ड है, जो कलियुग में प्रचलित है । इसका समर्थन कहीं भी आध्‍यात्‍म में नहीं मिलेगा । )

प्रकाशन तिथि : रविवार, 30 सितम्‍बर 2012
39 श्रीमद भागवतमहापुराण
( प्रथम स्‍कन्‍ध )
अ 2
श्लो 7
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
भगवान श्रीकृष्ण में भक्ति होते ही, अनन्‍य प्रेम से उनमें चित्‍त जोडते ही निष्‍काम ज्ञान और वैराग्‍य का आविर्भाव हो जाता है ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - प्रभु की भक्ति से युक्‍त होते ही, अनन्‍य प्रेम से अपने चित्‍त को प्रभु से जोडते ही ज्ञान और वैराग्‍य का अंकूर हमारे भीतर फूट जाता है । ऐसा होना स्‍वभाविक ही है क्‍योंकि प्रभु ने देवी भक्ति को "ज्ञान और वैराग्‍य" पुत्र रूप में दिये हैं ।

इसलिए माता भक्ति जब आती हैं तो अपने पुत्रों "ज्ञान और वैराग्‍य" को साथ लाती हैं

प्रकाशन तिथि : रविवार, 07 अक्‍टूबर 2012
40 श्रीमद भागवतमहापुराण
( प्रथम स्‍कन्‍ध )
अ 2
श्लो 8
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
धर्म का ठीक-ठीक अनुष्‍ठान करने पर भी यदि मनुष्‍य के हृदय में भगवान की लीला-कथाओं के प्रति अनुराग का उदय न हो तो वह निरा श्रम-ही-श्रम है ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - कितनी सटिक व्‍याख्‍या जो कलियुग में कितने प्रासंगिक हैं । हम धर्म अनुष्‍ठान जैसे यज्ञ, कथा, कीर्तन इत्‍यादि करते हैं पर अगर उससे हमारे हृदयपटल पर प्रभु के लिए सच्‍चा अनुराग, सच्‍ची प्रमाभक्ति उदित नहीं होती, उन अनुष्‍ठानों ने हमारे रोम-रोम को पुलकित नहीं किया तो वह मात्र श्रम के अलावा कुछ नहीं । ऐसे अनुष्‍ठानों का कोई विशेष लाभ नहीं होता ।

धर्म अनुष्‍ठान को सात्विक रूप से, पवित्र रूप से, प्रभु के लिए प्रेमाभक्ति भाव को प्रधान करके करना चाहिए । उसे सिर्फ एक क्रिया रूप में नहीं करना चाहिए । प्रभु के लिए प्रेमाभक्ति भाव से करने पर ही वह लाभदायक और हितकारी सिद्ध होता है

प्रकाशन तिथि : रविवार, 07 अक्‍टूबर 2012
41 श्रीमद भागवतमहापुराण
( प्रथम स्‍कन्‍ध )
अ 2
श्लो 10- 12
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
भेाग विलास का फल इन्द्रियों को तृप्‍त करना नहीं है, उसका प्रयोजन है केवल जीवन-निर्वाह । जीवन का फल भी तत्‍वजिज्ञासा है । बहुत कर्म करके स्‍वर्गादि प्राप्‍त करना भी उसका फल नहीं है । तत्‍ववेत्‍ता लोग ज्ञाता और ज्ञेय के भेद से रहित अखण्‍ड अद्वितीय सच्चिदानन्‍दस्‍वरूप ज्ञान को ही तत्‍व कहते हैं । उसी को कोई ब्रह्म, कोई परमात्‍मा और कोई भगवान के नाम से पुकारते हैं । श्रद्धालु मुनिजन भागवत-श्रवण से प्राप्‍त ज्ञान-वैराग्‍ययुक्‍त भक्ति से अपने हृदय में उस परमतत्‍वरूप परमात्‍मा का अनुभव करते हैं ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - भक्‍तजन कथाश्रवण द्वारा प्राप्‍त ज्ञान और वैराग्‍य से युक्‍त होकर भक्ति द्वारा अपने हृदयपटल पर परमतत्‍व सच्चिदानंद का अनुभव करते हैं । सच्चिदानंदस्‍वरूप जिनको हम ब्रह्म, परमात्‍मा, प्रभु, भगवान आदि अनेक नामों से पुकारते हैं, उस आलौकिक तत्‍व की जिज्ञासा करके उनका अनुभव करना ही मानव जीवन का फल है । यही मानव जीवन का प्रयोजन भी है । अर्थ द्वारा भोग विलास कर इन्द्रियों को तृप्‍त करना, बहुत कर्म करके स्‍वर्गादि प्राप्‍त करना मानव जीवन को प्रयोजन नहीं हो सकता ।

मानव जीवन उद्देश्य का कितना सटिक विश्लेषण और स्‍पष्‍ट व्‍याख्‍या यहाँ मिलती है ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 14 अक्‍टूबर 2012
42 श्रीमद भागवतमहापुराण
( प्रथम स्‍कन्‍ध )
अ 2
श्लो 15
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
कर्मो की गाँठ बड़ी कड़ी है । ‍ विचारवान पुरूष भगवान के चिन्‍तन की तलवार से उस गाँठ को काट डालते हैं । तब भला, ऐसा कौन मनुष्‍य होगा, जो भगवान की लीलाकथा में प्रेम न करे ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - पूर्व जन्‍म एंव इह जन्‍म में संचित ( विपरीत ) कर्मफल को काटने का साधन बताता मेरा यह प्रिय श्‍लोक । यहाँ पहली बात बताई गई है कि कर्मो की गाँठ बहुत कड़ी होती है । अन्‍य साधन, अन्‍य विधि से इसे काटना कतई संभव नहीं । विवेकी जन इस गाँठ को एकमात्र "प्रभु चिंतन" से काटते हैं ।

इन श्‍लोक के भाव इन पंक्तियों में मिलेंगे "( प्रभु का ) चिंतन करना मेरा काम, ( मेरी ) चिंता करना प्रभु का काम " । अगर हम प्रभु का सच्‍चे मन से चिंतन करते हैं तो हमारे वर्तमान की, हमारे भविष्‍य की एंव हमारे पूर्व संचित ( विपरीत ) कर्मफलों को काटने की चिंता का भार प्रभु ले लेते हैं ।

चिंतामुक्‍त होने का इतना सरल मार्ग श्रीमद भागवतजी हमें दिखाती है, फिर भी जो मनुष्‍य इसका अनुसरण न करें, प्रभु का चिंतन न करें, प्रभु के श्रीलीलाओं के कथाअमृत का दर्शन न करें और सबसे अहम बात प्रेमाभक्ति न करें - वह कर्मो की चिता में जलता रहेगा । ऐसा व्‍यक्ति कभी भी कर्मबंधन से मुक्‍त नहीं हो सकता, जिसके कारण उसका जन्‍म-मरण चलता रहेगा ।

आवागमन से मुक्‍त होना हो तो कर्मो की गाँठ को "प्रभु चिंतन" से काटना ही होगा । यही एकमात्र उपाय है । इतना बडा रहस्‍य इस श्‍लोक के द्वारा जनकल्‍याण के लिए उजागर किया गया है ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 14 अक्‍टूबर 2012
43 श्रीमद भागवतमहापुराण
( प्रथम स्‍कन्‍ध )
अ 2
श्लो 17
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
भगवान श्रीकृष्ण के यश का श्रवण और कीर्तन दोनों पवित्र करने वाले हैं । वे अपनी कथा सुननेवालों के हृदय में आकर स्थित हो जाते हैं और उनकी अशुभ वासनाओं को नष्‍ट कर देते हैं .......... ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - एक अदभूत भगवत सिद्धांत के दर्शन यहाँ होते हैं । प्रभु के यश का श्रवण और र्कीतन दोनों हमें पवित्र करते हैं । हृदय पवित्र होता है तो प्रभु हृदय में स्थित हो जाते हैं ( प्रभु का वास सभी जीवों में है पर अशुद्ध और अपवित्र विचार, आचरण के कारण प्रभु हमारे भीतर होते हुये भी हमारे लिए अदृश्य होते हैं ) । प्रभु के हृदयपटल पर स्थ्‍िात होते ही अशुभ वासनायें भाग खड़ी होती हैं और शुभ और पवित्र विचार, आचरण का संचार हमारे भीतर स्वतः हो जाता है ।

एक भगवत सिद्धांत है कि हमारे हृदय में प्रभु विराजते हैं तो हमारे भीतर अच्‍छाईयां स्वतः ही जग जाती हैं और हमारे भीतर की बुराईयां स्वतः सो जाती है । इसके विपरित जब हमारे भीतर से प्रभु अदृश्य होते हैं तो अच्‍छाईयां सो जाती हैं और बुराईया जग जाती हैं । इस भाव के दर्शन संतो ने मेरे प्रभु श्रीकृष्ण के प्रागटय लीला में करवाया है । प्रभु का मथुरा के काराग्रह में जैसे ही प्रागटय हुआ श्रीवसुदेवजी और भगवती देवकी माता के बंधन खुल गये, कंस के सैनिक ( बुराईयां ) सो गये । प्रभु जैसे ही नंदभवन पहुचें और श्री वसुदेवजी माया के साथ वापस आयें तो बंधन ने पुनः जकड लिया और कंस के सैनिक ( बुराईयां ) जग उठें ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 21 अक्‍टूबर 2012
44 श्रीमद भागवतमहापुराण
( प्रथम स्‍कन्‍ध )
अ 2
श्लो 20
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
इस प्रकार भगवान की प्रेममयी भक्ति से जब संसार की समस्‍त आसक्तियां मिट जाती हैं, हृदय आनंद से भर जाता है, तब भगवान के तत्‍व का अनुभव अपने आप हो जाता है ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - श्‍लोक में कहा गया है कि प्रभु की प्रेममयी भक्ति से जब संसार की समस्‍त आसक्तियां मिट जाती है, जब हृदय आनंद से भर जाता है, तब प्रभु भक्ति से प्रभु तत्‍व का अनुभव अपने आप होता है । यहाँ विशेष ध्‍यान देवें कि सांसारिक आसक्तियां मिटाने का माध्‍यम स्‍पष्‍ट रूप से भक्ति को बताया गया है । सांसारिक आसक्तियां मिटाते ही हृदय में आनंद का संचार होना बताया गया है । पर हम सांसारिक आसक्तियों के बीच आनंद तलासते हैं । जो चीज जहाँ है ही नहीं वह वहाँ कैसे मिलेगी । आनंद और परमानंद सिर्फ और सिर्फ प्रभु तत्‍व के अनुभव में ही है ।

संतों से सुनी एक कथा का उल्‍लेख यहाँ प्रासंगिक है । प्रभु के श्रीकमलचरणों में सभी गुणों का वास है । प्रभु ने एक बार अपने श्रीकमलचरणों को उठा कर समस्‍त गुणों को मृत्युलोक ( पृथ्वी ) भेजा । जगजननी माता पास बैठी थी, उन्‍होनें देखा की प्रभु के श्रीकमलचरणों के नीचे अभी भी कुछ दबा हुआ है । उन्‍होनें ध्‍यान लगाकर देखा तो ज्ञात हुआ की आनंद, विश्राम, परमानंद आदि प्रभु के श्रीकमलचरणों से चिपके हुये हैं । यानी आनंद और विश्राम तो प्रभु के श्रीकमलचरणों की छत्रछाया में आने पर ही जीव को मिल सकता है । मृत्युलोक ( पृथ्वी ) की किसी भी चीज में "आनंद और विश्राम" है ही नहीं तो कहां से मिलेगा । पर मानव गलत जगह ( पृथ्वी पर ) इन चीजों को सदैव तलाशता रहा है और भटकता रहा है ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 21 अक्‍टूबर 2012
45 श्रीमद भागवतमहापुराण
( प्रथम स्‍कन्‍ध )
अ 2
श्लो 21
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
हृदय में आत्‍मस्‍वरूप भगवान का साक्षात्‍कार होते ही हृदय की ग्रन्थि टूट जाती है, सारे संदेह मिट जाते हैं और कर्मबंधन क्षीण हो जाता है ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - यह श्‍लोक मुझे बहुत प्रिय है । एक के बाद एक रहस्‍य खोलता यह अदभूत श्‍लोक है । हृदयपटल पर जब हम अपने आत्‍मस्‍वरूप प्रभु का साक्षात्‍कार करते हैं, तो उसी समय सभी ग्रन्थि टूट जाती है, भ्रांतियां मिट जाती है, सारे प्रश्‍नों के उत्‍तर मिल जाते हैं, सारे संदेह मिट जाते हैं । सबसे अहम बात की हमारे किये हुये कर्मो के कर्मबंधन क्षीण हो जाते हैं । हम अपने बल पर कभी अपने कर्मबंधन नहीं मिटा सकते क्‍योंकि नित्‍य नये कर्म करते ही उसका कर्मबंधन उसी समय तैयार हो जाता है ।

ऐसा समझना चाहिए कि कर्म और कर्मबंधन का जन्‍म एक साथ होता है । कर्म किया की कर्मबंधन तैयार हुआ । कर्मबंधन मे उलझ कर हम जन्‍म दर जन्‍म लेते रहते हैं । पुराने कर्मो को जन्‍म ले कर भोगते हैं, उस जन्‍म में नया कर्म करते हैं और फिर कर्मबंधन तैयार कर लेते हैं अगले जन्‍म हेतु ।

कर्म करना जीव की प्रकृति है । वह कर्म करे बिना नहीं रह सकता । कर्म करना धर्म संगत भी है । कही भी कर्म करने की मनाही नहीं है, कही भी कर्म नहीं करने का उपदेश नहीं मिलेगा । सतकर्म करना और उस सतकर्म को भी प्रभु के श्रीचरणों में समर्पित करते हुये करना - यही धर्म में बताया रास्‍ता है । इससे भी बड़ा जो धर्म का उपदेश है, जिससे हम प्रायः चुक जाते हैं - भक्ति द्वारा प्रभु से बंध जाना, फिर प्रभु के लिए ही कर्म करना । ऐसी अवस्‍था में पहुँचने के बाद हमारे द्वारा किया कर्म कभी हमें बाँध नहीं सकता । कर्म का बंधन छुटा तो आवागमन ( जन्‍म-मरण ) से उसी क्षण मुक्ति मिली ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 28 अक्‍टूबर 2012
46 श्रीमद भागवतमहापुराण
( प्रथम स्‍कन्‍ध )
अ 2
श्लो 22
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
इसी से बुद्धिमान लोग नित्‍य-निरंतर बड़े आनंद से भगवान श्रीकृष्ण के प्रति प्रेम-भक्ति करते हैं, जिससे आत्‍मप्रसाद की प्राप्ति होती है ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - श्‍लोक में ध्‍यान देने योग्‍य बात "बुद्धिमान लोग" की व्‍याख्‍या है । किसे बुद्धिमान माना गया है । जो समस्‍त संसारी ज्ञान अर्जित कर ले, दुर्लभ खोज / आविष्‍कार कर ले, किसी विषय का पंडित बन जायें - नहीं ।

बुद्धिमान उसे माना गया है जो नित्‍य निरंतर आनंद में डुबकर प्रभु की प्रेमाभक्ति करें जिससे उसे आत्‍म प्रसादी की प्राप्ति हो सके ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 28 अक्‍टूबर 2012
47 श्रीमद भागवतमहापुराण
( प्रथम स्‍कन्‍ध )
अ 2
श्लो 23
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
प्रकृति के तीन गुण हैं - सत्‍व, रज और तम । इनको स्‍वीकार करके इस संसार की स्थिति, उत्‍पत्ति और प्रलय के लिये एक अद्वितीय परमात्‍मा ही विष्‍णु, ब्रह्मा और रूद्र - ये तीन नाम ग्रहण करते हैं ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - अंग्रेजी के शब्‍द GOD की व्‍याख्‍या यहाँ मिलती है । G=Generator उत्‍पत्ति करने वाले ( श्री ब्रह्म रूप में ), O=Operator स्थिति रखने वाले ( श्री विष्‍णु रूप में ) एवं D=Destroyer प्रलय से विलय करने वाले ( श्री रूद्र रूप में ) । हम GOD शब्‍द तो रोज पढते, बोलते एवं सुनते हैं । पर इस शब्‍द की व्‍याख्‍या अगर हमारी बुद्धि में स्थित हो जाये कि बनाने वाले प्रभु, चलाने वाले प्रभु और मिटाने वाले प्रभु - तो हमें हमारी औकात पता चल जाती है कि हम कुछ भी नहीं । हमारा सामर्थ्‍य कुछ भी नहीं । सामर्थ्‍य का अभिमान ही तो जीव का पतन करवाता है । जब हम मन में दृढ कर लेगे की हमारा सामर्थ्‍य कुछ है ही नहीं तो अभिमान कभी पनप ही नहीं सकता । ऐसा मानने वाला जीवन में कितनी भी उँ‍चाई पर पहुँच जायेगा तो भी बुलंदी पर उसे प्रभु के शक्ति के ही दर्शन होगें ( खुद की शक्ति के नहीं ) ।

इसका एक अदभूत दृष्टान्त भक्‍तशिरोमणी, भक्तिमूरत श्री हनुमानजी श्रीरामचरितमानस के सुन्‍दरकाण्‍ड में प्रस्‍तुत करते हैं । जब समुद्रदेव को लाँघते समय सुरसा सामने आयी और उसने अपना मुंह 16 योजन का किया तो श्रीहनुमानजी ने अपना कर्म ( आकार ) 32 योजन का किया । जैसे जैसे सुरसा अपना मुंह बड़ा करती गई, श्री हनुमानजी भी अपना कर्म ( आकार ) उससे दुगुना करते गये । जब सुरसा ने सौ योजन का मुंह किया तो श्री हनुमानजी ने तुरंत लघु रूप धरण कर सुरसा के मुंह में प्रवेश कर बाहर आ गये । संतो ने बहुत सुन्‍दर व्‍याख्‍या की है कि जब जरूरत पडी तो श्री हनुमानजी अपना कर्म दुगुना करते गये और फिर लघु रूप होकर मानो सबको नसीहत देकर बता दिया कि यह आकार / कर्म को दुगुना चौगुना करने की शक्ति और सार्मथ मेरी नहीं, प्रभु की है - मेरी क्षमता तो मेरे लघु रूप जितनी लघु मात्र है ।

ऐसा मानने वाला एवं ऐसा करने वाला ही जीवन की सच्‍ची बुलंदी, सच्‍ची उँ‍चाई पा सकता है ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 04 नवम्‍बर 2012
48 श्रीमद भागवतमहापुराण
( प्रथम स्‍कन्‍ध )
अ 2
श्लो 26 - 27
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
जो लोग इस संसार सागर से पार जाना चाहते हैं, वे यद्पि किसी की निन्‍दा तो नहीं करते, न किसी के दोष को देखते हैं .......सत्‍वगुणी विष्‍णुभगवान और उनके अंश - कलास्‍वरूपों का ही भजन करते हैं । परंतु जिसका स्‍वभाव रजोगुणी अथवा तमोगुणी है, वे धन, ऐश्‍वर्य और संतान की कामना से भूत, पितर और प्रजापतियों की उपासना करते हैं, क्‍योंकि इन लोगों का स्‍वभाव उन से मिलता-जुलता होता है ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - तीन तरह के प्रधान गुण लिये मानव शरीरधारी जीव की व्‍याख्‍या यहाँ मिलती है ।

जिनमें प्रधान गुण सतगुण है, वे मानव संसार सागर से पार जाने हेतु मानव शरीर का उपयोग करते हैं । वे न तो अपना समय किसी की व्‍यर्थ निन्‍दा करके और न ही किसी में दोष देखने में गँवाते हैं । ( अधिक‍तर मानव ने संसार सागर पार उतरने का लक्ष्‍य मानव जीवन में नहीं रखा है इसलिए व्‍यर्थ के पचडे में पडे हुये हैं - निन्‍दा करना, दोष देखना, संसार के परपंच में पडे रहना । ) सतगुणी जीव अपना जीवन प्रभु एवं प्रभु के कलास्‍वरूपों का भजन करने में ही व्‍यतीत करते हैं क्‍योंकि यही संसार सागर से पार उतरने का सेतु है । यही आवागमन एवं 84 करोड योनियों के चक्रव्‍युह से मुक्‍त होने का सशक्‍त साधन है ।

जिनका प्रधान स्‍वभाव रजोगुणी अथवा तमोगुणी है, वे धन, ऐश्‍वर्य और संतान की कामना के लिए उपासना करते हैं और इसकी प्राप्ति में अपना सारा जीवन लगा देते हैं ।

सभी जीव में तीनों गुण कमोवेश मात्रा में स्थित होते हैं । हमें अपने भीतर के सतगुण को निखारने की जरूरत है क्‍योंकि यही हमें संसार सागर से मुक्ति दिलाने में, भवसागर से पार उतारने में एकमात्र सक्षम है । सतगुण को निखारने के लिए भी हमें प्रभु की तरफ बढने की जरूरत है । जैसे जैसे हम प्रभु की तरुफ बढेगें, सतगुण में वृद्धि होगी । वैसे ही जब हम धन, ऐश्‍वर्य और संसार की तरफ बढेगें तो हमारा रजोगुण और तमोगुण बढता जायेगा । बढा हुआ रजोगुण और तमोगुण ही हमें धन, ऐश्‍वर्य और संसार की तरफ ले जाता है ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 04 नवम्‍बर 2012