श्री गणेशाय नम:
Devotional Thoughts
Devotional Thoughts Read Articles सर्वसामर्थ्यवान एंव सर्वशक्तिमान प्रभु के करीब ले जाने वाले आलेख, द्वै-मासिक ( हिन्दी एंव अंग्रेजी में )
Articles that will take you closer to OMNIPOTENT & ALMIGHTY GOD, bimonthly (in Hindi & English)
Precious Pearl of Life श्रीग्रंथ के श्लोको पर दो छोटे आलेख ( हिन्दी एंव अंग्रेजी में ), प्रत्येक रविवार
Two small write-ups on Holy text (in Hindi & English), every Sunday
Feelings & Expressions प्रभु के बारे में उत्कथन ( हिन्दी एंव अंग्रेजी में ), प्रत्येक बुधवार
Quotes on GOD (in Hindi & English), every Wednesday
Devotional Thoughts Read Preamble हमारे उद्देश्य एवं संकल्प - साथ ही प्रायः पूछे जाने वाले प्रश्नों के उत्तर भी
Our Objectives & Pledges - Also answers FAQ (Frequently Asked Questions)
Visualizing God's Kindness वर्तमान समय में प्रभु कृपा के दर्शन कराते, असल जीवन के प्रसंग
Real life memoirs, visualizing GOD’s kindness in present time
Words of Prayer प्रभु के लिए प्रार्थना, कविता
GOD prayers & poems
प्रभु प्रेरणा से लेखन द्वारा चन्द्रशेखर करवा
CLICK THE SERIAL NUMBER BOX TO REACH THE DESIRED POST
217 218 219 220
221 222 223 224
225 226 227 228
229 230 231 232
233 234 235 236
237 238 239 240
क्रम संख्या श्रीग्रंथ अध्याय -
श्लोक संख्या
भाव के दर्शन / प्रेरणापुंज
217 श्रीमद भागवतमहापुराण
(तीसरा स्‍कन्‍ध)
अ 16
श्लो 24
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
प्रभो ! आप सत्‍त्‍वगुण की खान हैं और सभी जीवों का कल्‍याण करने के लिये उत्‍सुक हैं ..... ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - प्रभु की दो विशेषताओं का उल्‍लेख यहाँ मिलता है ।

प्रभु सदगुणों की खान हैं यानि जितने भी सदगुण हैं उनका वास प्रभु में है । सभी सदगुण प्रभु में विद्यमान हैं । इसलिए प्रभु के सदगुणों का चिन्‍तन को नवधा भक्ति के नौ प्रकार में एक प्रकार की भक्ति मानी गई है । सभी शास्त्र प्रभु के गुणानुवाद करते हैं ।

दूसरी बात, प्रभु सभी जीवों के कल्याण के लिये उत्सुक रहते हैं । जैसे एक पिता अपने पुत्रों के कल्याण के लिए सदैव प्रयत्नशील रहता है वैसे ही परमपिता सभी जीवों का कल्या्ण करने के लिए सदैव आतुर रहते हैं । प्रभु सभी का कल्याण, सभी का मंगल चाहते हैं । इसलिए भक्ति द्वारा प्रभु से संबंध स्थापित करने पर हमारा कल्याण और मंगल स्वतः होने लगता है ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 17 अगस्‍त 2014
218 श्रीमद भागवतमहापुराण
(तीसरा स्‍कन्‍ध)
अ 19
श्लो 27
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... अहो ! ऐसी अलभ्‍य मृत्यु किसको मिल सकती है ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - जब प्रभु ने हिरण्याक्ष का वध किया तो देवतागण उसकी प्रशंसा करने लगे और उपरोक्त वाक्य कहें ।

योगीजन प्रभु के जिन श्रीचरणों का ध्यान करने में अपना सारा जीवन लगा देते हैं और फिर भी कठीनाई से जिनका ध्यान हो पाता है, उन श्रीचरणों के साक्षात प्रहार से हिरण्याक्ष को मृत्यु मिली, इसे देखकर देवतागण भी उसके भाग्य की प्रशंसा किये बिना नहीं रह पाये ।

जिन प्रभु की झांकी अपने अंतिम समय में देखने के लिए संतजन अपने पूरे जीवन प्रयास करते हैं उन प्रभु को साक्षात अपने नेत्रों से देखते देखते हिरण्यानक्ष ने प्राण त्यागे, इसे देखकर भी देवतागण उसके भाग्य की प्रशंसा करते हैं ।

प्रभु इतने कृपावान और करूणावान हैं कि अपने से विरोध करने वाले को भी वह गति दे देते हें जो सदपुरूषों को भी अथक प्रयास से मिलती है ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 17 अगस्‍त 2014
219 श्रीमद भागवतमहापुराण
(तीसरा स्‍कन्‍ध)
अ 20
श्लो 05
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
उन दोनों में वार्तालाप होने पर श्रीहरि के चरणों से सम्‍बन्‍ध रखने वाली बड़ी पवित्र कथाएं हुई होंगी, जो उन्‍हीं चरणों से निकले हुए गंगाजल के समान सम्‍पूर्ण पापों का नाश करने वाली होगीं ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - श्री विदूरजी एवं श्री मैत्रेयजी के मध्‍य वार्तालाप के विषय में उपरोक्‍त श्‍लोक है ।

ध्‍यान देने योग्‍य बात यह है कि जब दो प्रभु भक्‍तों के बीच वार्तालाप होती है तो वार्तालाप का विषय प्रभु ही होते हैं । वे प्रभु कथा, प्रभु की श्रीलीला, प्रभु के गुणों की आपस में चर्चा करते हैं । दो संसारी के बीच चर्चा होगी तो विषय संसार होगा पर दो भक्‍तों के बीच चर्चा होगी तो चर्चा का विषय प्रभु ही होंगे । क्‍योंकि भक्‍तों को संसार की चर्चा में रस नहीं आता, उन्‍हें तो आनंद प्रभु की चर्चा में ही आता है ।

दूसरी बात जो कही गई है वह यह कि प्रभु की कथा गंगामाता के जल के समान सम्‍पूर्ण पापों का नाश करने वाली है । प्रभु की कथा का श्रवण, वाचन या पठन, इन तीनो में से कुछ भी किया जायेगा तो वह निश्‍चित हमारे पापों का नाश करती है । पापों के नाश का यह अचुक साधन है ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 24 अगस्‍त 2014
220 श्रीमद भागवतमहापुराण
(तीसरा स्‍कन्‍ध)
अ 20
श्लो 06
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... प्रभु के उदार चरित्र तो कीर्तन करने योग्‍य होते हैं । भला, ऐसा कौन रसिक होगा, जो श्रीहरि के लीलामृत का पान करते-करते तृप्‍त हो जाय ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - प्रभु के उदार चरित्र की कथा कीर्तनीय होती हैं इसलिए भक्‍तों ने, संतो ने उनके पदो की रचना की है । इन पदो का भजन और कीर्तन जीवन में नित्‍य हो ऐसा प्रयास करना चाहिए । प्रभु के उदार चरित्र एवं गुणों के गान से हम पवित्र होते हैं और हमारे पापों का क्षय होता है । प्रभु का नित्‍य अनुसंधान करने का यह एक सुलभ साधन है । गोपियां प्रभु का नित्‍य अनुसंधान करने के लिए प्रभु की श्रीलीलाओं का नित्‍य गान करती रहती थी ।

दूसरी बात जो कही गई है वह यह कि कौन ऐसा रसिक होगा जो प्रभु के लीलामृत के पान से तृप्‍त हुआ हो । प्रभु के श्रीलीलाओं का गान हमें तृप्ति और अतृप्ति दोनों एक साथ देती है । वे हमारे संसारिक तापों को शान्‍त कर हमें तृप्ति देती हैं पर साथ ही इतना आनंद देती हैं कि और अधिक श्रीलीलाओं के गान की इच्‍छा बन जाती है और इस तरह अतृप्ति भी देती है ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 24 अगस्‍त 2014
221 श्रीमद भागवतमहापुराण
(तीसरा स्‍कन्‍ध)
अ 21
श्लो 13
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
स्‍तुति करने योग्‍य परमेश्‍वर ! आप सम्‍पूर्ण सत्‍त्‍वगुण के आधार हैं । योगिजन उत्‍तरोत्‍तर शुभ योनियों में जन्‍म लेकर अन्‍त में योगस्‍थ होने पर आपके दर्शनों की इच्‍छा करते हैं; आज आपका वही दर्शन पाकर हमें नेत्रों का फल मिल गया ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - श्री कर्दम ऋषि ने प्रभु की स्‍तुति करते वक्‍त उपरोक्‍त वाक्‍य कहे । चार बातें ध्‍यान देने योग्‍य हैं ।

पहली बात, स्‍तुति करने योग्‍य जगत में केवल परमेश्‍वर ही हैं । इसलिए संत और भक्‍त कभी किसी संसारी की स्‍तुति नहीं करते अपितु सिर्फ प्रभु की ही स्‍तुति करते हैं ।

दूसरी बात, प्रभु सम्‍पूर्ण सदगुणों के आधार हैं । तीसरी बात, योगिजन मानव योनि में जन्‍म लेकर अन्‍त में क्‍या इच्‍छा रखते हैं - वे प्रभु के दर्शन की ही इच्‍छा रखते हैं । चौथी बात, नेत्रों का फल क्‍या है ? नेत्रों का फल प्रभु के दर्शन हैं । हम नेत्रों से बहुत कुछ संसारी चीजें देखतें हैं पर नेत्र पाकर नेत्रों का सच्‍चा फल प्रभु के दर्शन ही हैं ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 31 अगस्‍त 2014
222 श्रीमद भागवतमहापुराण
(तीसरा स्‍कन्‍ध)
अ 21
श्लो 14
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
आपके चरणकमल भवसागर से पार जाने के लिये जहाज हैं । जिनकी बुद्धि आपकी माया से मारी गयी है, वे ही उन तुच्‍छ क्षणिक विषय-सुखों के लिये, जो नरक में भी मिल सकते हैं, उन चरणों का आश्रय लेते हैं; किन्‍तु स्‍वामिन ! आप तो उन्‍हें वे विषय-भोग भी दे देते हैं ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - श्री कर्दम ऋषि ने प्रभु की स्‍तुति करते वक्‍त उपरोक्‍त वाक्‍य कहे । दो बातें ध्‍यान देने योग्‍य हैं ।

पहली बात, प्रभु के श्रीकमलचरण भवसागर पार उतरने के लिए जहाज समान हैं । जैसे हम जहाज में बैठकर सागर पार करते हैं वैसे ही प्रभु के श्रीकमलचरणों का आश्रय लेकर हम भवसागर पार कर सकते हैं ।

दूसरी बात, जिनकी बुद्धि माया से ग्रसित हो वे प्रभु के श्रीकलचरणों का आश्रय तुच्‍छ, क्षणिक और क्षणभंगुर विषय के सुखों के लिए लेते हैं । प्रभु उन पर भी कृपा करते हें और उन्‍हें विषयो के सुख प्रदान करते हैं । पर सच्‍चे संत और भक्‍त प्रभु के श्रीकमलचरणों का आश्रय किसी विषय सुख के लिए नहीं लेते अपितु भवसागर पार उतरने के लिए लेते हैं ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 31 अगस्‍त 2014
223 श्रीमद भागवतमहापुराण
(तीसरा स्‍कन्‍ध)
अ 21
श्लो 21
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
नाथ ! आप स्‍वरूप से निष्क्रिय हाने पर भी माया के द्वारा सारे संसार का व्‍यवहार चलाने वाले हैं तथा थोडी-सी उपासना करने वाले पर भी समस्‍त अभिलषित वस्‍तुओं की वर्षा करते रहते हैं । .....


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - प्रभु की माया संसार के सारे व्‍यवहारों को चलाने वाली है । प्रभु की प्रेरणा से प्रभु की माया सारे संसार का संचालन करती है । प्रभु निष्क्रिय हैं और प्रभु की माया सक्रिय है । सक्रिय रहकर प्रभु की माया संसार के सारे व्‍यवहारों को चलाती है ।

दूसरी बात जो कही गई है वह यह कि प्रभु इतने दयालु और कृपालु हैं की थोडी-सी उपासना करने वाले की समस्‍त कामना की पूर्ति करते हैं और इच्छित वस्‍तु की वर्षा करते हैं । प्रभु मनोरथ पूर्ण करने वाले हैं और थोडी-सी उपासना पर भक्‍तों के सभी मनोरथ को पूर्ण करते हैं । जिस भी इच्‍छा से जो प्रभु की उपासना करता है प्रभु उसे उसकी प्राप्ति करवाते हैं । प्रभु शीघ्र प्रसन्‍न होने वाले और मनवांछित फल देने वाले हैं ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 07 सितम्‍बर 2014
224 श्रीमद भागवतमहापुराण
(तीसरा स्‍कन्‍ध)
अ 21
श्लो 24
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
प्रजापते ! मेरी आराधना तो कभी भी निष्‍फल नहीं होती; फिर जिनका चित्‍त निरन्‍तर एकान्‍तरूप से मुझमें ही लगा रहता है, उन तुम-जैसे महात्‍माओं के द्वारा की हुई उपासना का तो और भी अधिक फल होता है ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - प्रभु ने उक्‍त वाक्‍य श्री कर्दम ऋषि की स्‍तुति के जवाब में कही । यह प्रभु वचन हैं एवं ध्‍यान देने योग्‍य दो बातें हैं ।

पहली बात, प्रभु कहते हैं कि प्रभु की आराधना कभी भी निष्‍फल नहीं जाती । यह एक शाश्‍वत सत्‍य है कि किसी भी निमित, किसी भी परिस्थिति में की गई प्रभु की आराधना कभी व्‍यर्थ नहीं जाती । प्रभु की आराधना सदैव फलदायी होती है ।

दूसरी बात, प्रभु कहते हैं कि जिन महात्‍मा और संतों का मन एकाग्र होकर प्रभु में लगा हुआ है उन महात्‍माओं और संतों द्वारा की गई आराधना अधिक फलदायी होती है । यहाँ एक सिद्धांत स्‍पष्‍ट होता है कि प्रभु आराधना में जितनी एकाग्रता होगी उसका लाभ अथवा फल उतना ही अधिक होगा ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 07 सितम्‍बर 2014
225 श्रीमद भागवतमहापुराण
(तीसरा स्‍कन्‍ध)
अ 21
श्लो 30
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
तुम भी मेरी आज्ञा का अच्‍छी तरह पालन करने से शुद्धचित्‍त हो, फिर अपने सब कर्मो का फल मुझे अर्पण कर मुझको ही प्राप्‍त होओगे ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - प्रभु ने उक्‍त वचन ऋषि कर्दमजी की स्‍तुति के जवाब में कहे । यह प्रभु वचन हैं एवं यहाँ ध्‍यान देने योग्‍य दो बाते हैं ।

पहली बात, प्रभु आज्ञा का पालन करने से हम शुद्धचित्‍त होते हैं । प्रभु आज्ञा का मतलब है वेदो की, धर्मशास्त्रों की आज्ञा ।

दूसरी बात, अपने सभी कर्म प्रभु को अर्पण करने से हम कर्मबंधन में नहीं फंसते और मुक्‍त होकर प्रभु को प्राप्‍त करते हैं । श्रीमद गीताजी में भी स्‍पष्‍ट उपदेश है कि अपने सभी कर्म प्रभु को अर्पित करते चलना चाहिए एवं कर्मफल की चाह नहीं करनी चाहिए ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 26 अक्‍टूबर 2014
226 श्रीमद भागवतमहापुराण
(तीसरा स्‍कन्‍ध)
अ 21
श्लो 31
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... फिर सबको अभयदान दे अपने सहित सम्‍पूर्ण जगत को मुझमें और मुझको अपने में स्थित देखोगे ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - प्रभु ने उक्‍त वचन ऋषि कर्दमजी की स्‍तुति के जवाब में कहे ।

आत्‍मज्ञान प्राप्‍त होने पर हम सम्‍पूर्ण जगत को प्रभु में देखते हैं और प्रभु को अपने अन्‍त:करण में स्थित देखते हैं ।

सभी आत्‍मज्ञान युक्‍त संतों ने ऐसा अनुभव किया है की सम्‍पूर्ण जगत प्रभु में स्थित है । श्रीमद गीताजी में विश्‍वरूप दर्शन के समय अर्जुनजी ने सम्‍पूर्ण ब्रह्माण्‍ड को प्रभु के रोमावली में स्थित देखा ।

ऐसे ही सभी आत्‍मज्ञान युक्‍त संतों ने प्रभु को अपने भीतर अनुभव किया है । तभी तो संत कबीरदासजी ने लिखा कि प्रभु को बाहर कहां खोजते हो, वे तो तुम्‍हारे भीतर ही स्थित हैं ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 26 अक्‍टूबर 2014
227 श्रीमद भागवतमहापुराण
(तीसरा स्‍कन्‍ध)
अ 22
श्लो 20
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
जिनसे इस विचित्र जगत की उत्‍पति हुई है, जिनमें यह लीन हो जाता है और जिनके आश्रय से यह स्थित है - मुझे तो वे प्रजापतियों के भी पति भगवान श्रीअनन्‍त ही सबसे अधिक मान्‍य हैं ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - जब प्रभु आज्ञा से महाराज स्‍वायम्‍भुवमनु ने अपनी कन्‍या का विवाह का प्रस्‍ताव ऋषि कर्दमजी के सामने रखा तो ऋषि कर्दमजी ने उक्‍त वचन कहें ।

ऋषि कर्दमजी ने कहा कि जब तक संतान न हो जाये तब तक वे गृहस्‍थ धर्मानुसार रहेगें, उसके बाद सन्‍यास ग्रहण करके प्रभु भजन में लग जायेगें क्‍योंकि उन्‍हें जीवन में प्रभु ही सबसे अधिक मान्‍य हैं ।

यहाँ ध्‍यान देने योग्‍य बात यह है कि जीवन में हमने किसे प्रधानता दी है । जीवन में प्रथम प्रधानता सिर्फ और सिर्फ प्रभु की ही होनी चाहिए । अपना यथोचित धर्म निर्वाह करने के बाद सिर्फ और सिर्फ प्रधानता प्रभु की ही होनी चाहिए । यथोचित धर्म निर्वाह करने के दौरान भी प्रधानता सिर्फ और सिर्फ प्रभु की ही होनी चाहिए ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 02 नवम्‍बर 2014
228 श्रीमद भागवतमहापुराण
(तीसरा स्‍कन्‍ध)
अ 22
श्लो 33
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
प्रात:काल होने पर गन्‍धर्वगण अपनी स्त्रीयों के सहित उनका गुणगान करते थे; किन्‍तु मनुजी उसमें आसक्‍त न होकर प्रेमपूर्ण हृदय से श्रीहरि की कथाएं ही सुना करते थे ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - महाराज मनु जब अपनी राजधानी ब्रह्मावर्त में रहते थे तो प्रात:काल गन्‍धर्वगण उनका गुणगान करने आते थे । परंतु महाराज मनु अपने गुणगान में आसक्‍त न होकर उस समय प्रेमपूर्वक प्रभु का गुणगान करने वाली प्रभु की कथाये सुनते थे ।

ध्‍यान देने योग्‍य बात यह है कि जब महाराज मनु की स्‍तुति गन्‍धर्वगण करते थे तो वे उस समय उसमें आसक्‍त न होकर प्रभु की स्‍तुति करते थे ।

जीव को अपनी स्‍तुति सुनने में बहुत रस आता है पर यह उसका पतन करवाती है । शास्त्र कहते हैं कि स्‍तुति योग्‍य तो सिर्फ और सिर्फ प्रभु ही हैं इसलिए हमें प्रभु की ही स्‍तुति करनी और सुननी चाहिए ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 02 नवम्‍बर 2014
229 श्रीमद भागवतमहापुराण
(तीसरा स्‍कन्‍ध)
अ 22
श्लो 34-35
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
वे इच्‍छानुसार भोगों का निर्माण करने में कुशल थे; किन्‍तु मननशील और भगवत्‍परायण होने के कारण भोग उन्‍हें किंचित भी विचलित नहीं कर पाते थे । भगवान विष्‍णु की कथाओं का श्रवण, ध्‍यान, रचना और निरूपण करते रहने के कारण उनके मन्‍वन्‍तर को व्‍यतीत करनेवाले क्षण कभी व्‍यर्थ नहीं जाते थे ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - महाराज मनु इच्छानुसार भोगों का निर्माण करने में सक्षम और कुशल थे । पर भक्त होने के कारण वे भोगों से दूर रहते थे । भोग उन्हें कभी विचलित नहीं कर पाते थे ।

वे अपना अधिकतर समय प्रभु की कथा श्रवण और निरूपण करने में एवं प्रभु का ध्यान करने में लगाते थे और इस तरह उनके जीवन का थोडा सा भी पल व्यर्थ नहीं जाता था ।

हम अपने जीवन के पलों को भोगों में लगाकर व्यर्थ ही बिता देते हैं । जीवन का वही पल सार्थक होता है जो प्रभु भजन, प्रभु सेवा और प्रभु चिन्‍तन में लगता है । इसलिए हमारे जीवन में भोगों की नहीं अपितु प्रभु की प्रधानता होनी चाहिए ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 09 नवम्‍बर 2014
230 श्रीमद भागवतमहापुराण
(तीसरा स्‍कन्‍ध)
अ 22
श्लो 37
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
जो पुरूष श्रीहरि के आश्रित रहता है, उसे शारीरिक, मानसिक, दैविक, मानुषिक अथवा भौतिक दुःख किस प्रकार कष्‍ट पहुँचा सकते हैं ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - मेरा एक प्रिय श्लोक क्योंकि यहाँ एक सिद्धांत का प्रतिपादन होता है ।

सिद्धांत यह है कि जो प्रभु के श्रीचरणों का आश्रय लेता है उसे शारीरिक, मानसिक, दैविक एवं भौतिक दुःख कभी कष्टं नहीं पहुँचा सकते ।

प्रभु का आश्रय लेने से हम शरीर के दुःख, मन के दुःख, देवो के प्रकोप के कारण उत्पन्न दुःख, वित्त के आभाव के कारण उत्पन्न दुःख एवं संसारिक दुःखों से मुक्त रह सकते हैं ।

सभी दुःखों से मुक्त रहने का कितना सरल मार्ग है कि हमें सिर्फ प्रभु का आश्रय लेना है और फिर हमें कोई भी दुःख दुःखी नहीं करेगा । पर हम जीवन में प्रभु का आश्रय नहीं लेते और दुःखों में डुबे रहते हैं ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 09 नवम्‍बर 2014
231 श्रीमद भागवतमहापुराण
(तीसरा स्‍कन्‍ध)
अ 23
श्लो 42
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
जिन्‍होंने भगवान के भवभयहारी पवित्र पाद पदमों का आश्रय लिया है, उन धीर पुरूषों के लिये कौन सी वस्‍तु या शक्ति दुर्लभ है ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - ऋषि मैत्रेय जी ने उपरोक्‍त बात विदुरजी को कही । यह बात ऋषि कर्दम जी के संदर्भ में कही गई थी जो प्रभु के भक्‍त और महायोगी थे और प्रभु कृपा से मिली योग शक्ति के द्वारा उन्‍होंने अपनी पत्‍नी देवहूति की समस्‍त इच्‍छाओं की पूर्ति की ।

जिन्‍होंने प्रभु के श्रीकमलचरणों का आश्रय लिया हो और प्रभु की भक्ति कर प्रभु को संतुष्‍ट कर लिया हो उनके लिए संसार की कोई भी वस्‍तु अथवा संसार की कोई भी शक्ति दुर्लभ नहीं है । प्रकृति प्रभु भक्‍त के आधीन हो जाती है । कोई भी इच्छित वस्‍तु प्रभु भक्‍त को स्‍वत: ही प्राप्‍त हो जाती है । प्रभु की शक्तियां भक्‍त की सेवा में लग जाती हैं ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 16 नवम्‍बर 2014
232 श्रीमद भागवतमहापुराण
(तीसरा स्‍कन्‍ध)
अ 23
श्लो 53
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
प्रभो ! अब तक परमात्‍मा से विमुख रहकर मेरा जो समय इन्द्रियसुख भोगने में बीता है, वह तो निरर्थक ही गया ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - उपरोक्‍त वचन भगवती देवहूति ने ऋषि कर्दम जी से कही ।

जो समय परमात्‍मा से विमुख रहकर इन्द्रिय सुख भोगने में बीतता है वह समय निरर्थक व्‍यतीत हुआ, ऐसा मानना चाहिए ।

हम अपना पूरा जीवन इन्द्रिय सुख भोगने में व्‍यतीत कर देते हैं और प्रभु प्राप्ति की तरफ कोई प्रयास नहीं करते । ऐसा करने पर मानव जीवन व्‍यर्थ चला जायेगा - यह भान हमें होना चाहिए । मानव जीवन इन्द्रिय सुख भोगने के लिए नहीं अपितु प्रभु प्राप्ति के लिए मिला है । हमें अपना प्रयास इसी दिशा में करना चाहिए तभी मानव जीवन सफल हो पायेगा ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 16 नवम्‍बर 2014
233 श्रीमद भागवतमहापुराण
(तीसरा स्‍कन्‍ध)
अ 23
श्लो 56
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
संसार में जिस पुरूष के कर्मो से न तो धर्म का सम्‍पादन होता है, न वैराग्‍य उत्‍पन्‍न होता है और न भगवान की सेवा ही सम्‍पन्‍न होती है, वह पुरूष जीते ही मुर्दे के समान है ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - जो धर्मयुक्‍त कर्म नहीं करता, जिसमें वैराग्‍य नहीं है और जो प्रभु की सेवा नहीं करता हो वह जीते जी मुर्दे के समान है - ऐसी व्याख्‍या यहाँ मिलती है ।

हमारा आचरण और कर्म धर्मयुक्‍त होने चाहिए । मायारूपी संसार मे रहकर भी हमारे भीतर वैराग्‍य होना चाहिए और सबसे जरूरी बात की किसी न किसी रूप में हमारे द्वारा प्रतिदिन प्रभु की सेवा होनी चाहिए । अगर ऐसा नहीं होता तो हमारा मानव जीवन व्‍यर्थ है ।

प्रभु की सेवा का दैनिक नियम हमारे जीवन में होना अति आवश्‍यक है । इससे प्रभु से हमारा जुडाव बना रहता है । प्रभु सेवा हमारे भीतर प्रभु प्रेम की जाग्रति करती है और हमारे जीवन को मंगलमय बनाती है ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 23 नवम्‍बर 2014
234 श्रीमद भागवतमहापुराण
(तीसरा स्‍कन्‍ध)
अ 24
श्लो 30
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
आप वास्‍तव में अपने भक्‍तों का मान बढाने वाले हैं । .....


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - यह एक शाश्‍वत सत्‍य है कि प्रभु भक्‍तों के मान को बढाते हैं ।

एक भजन की अमर पंक्ति है - " प्रभु अपना मान टले टल जाये पर भक्‍त का मान न टलते देखा " । प्रभु अपने मान की परवाह नहीं करते पर अपने लाडले भक्‍त के मान को कभी खंडित नहीं होने देते ।

जिन्‍होंने भी भक्ति की है उन्‍होंने विश्‍व में सर्वाधिक मान पाया है ।

प्रभु सदैव अपने भक्‍तों के मान को बढाने वाली लीलायें करते हैं । प्रभु नानी बाई का मायरा लेकर आये और अपने भक्‍त नरसी मेहता का मान बढाया । पूरे संसार में ऐसा मायरा न किसी न देखा था और न ही किसी ने सुना था ।

भक्‍तों के मान को सदैव बढाने की प्रभु की प्रतिज्ञा है और प्रभु सदैव भक्‍तों के मान को बढाने के लिए तत्‍पर रहते हैं ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 23 नवम्‍बर 2014
235 श्रीमद भागवतमहापुराण
(तीसरा स्‍कन्‍ध)
अ 24
श्लो 39
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
मैं स्‍वयंप्रकाश और सम्‍पूर्ण जीवों के अन्‍त:करणों में रहने वाला परमात्‍मा ही हूँ । .....


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - प्रभु ने उपरोक्‍त वचन अपने श्री कपिल अवतार में श्री कर्दम ऋषि से उपदेश में कहे ।

पहली बात, प्रभु स्‍वयंप्रकाश हैं अर्थात स्‍वयं को प्रकाशित करते हैं । प्रभु के अलावा कोई तेज या प्रकाश का स्त्रोत्र है ही नहीं ।

दूसरी बात, प्रभु सभी जीवों के अन्‍तकरण में रहते हैं । हम सभी प्रभु के अंश हैं और प्रभु के अंश होने के कारण प्रभु हमारे भीतर दृष्टा रूप में विराजते हैं । प्रभु की अंतिम खोज हमारे भीतर होनी चाहिए न की बाहर । जिन संतों को भी प्रभु साक्षात्‍कार हुआ है उन्‍हें वह अन्‍तकरण में ही हुआ है । इसलिए प्रभु की खोज में हमें अन्तर्मुखी होना जरूरी है ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 18 जनवरी 2015
236 श्रीमद भागवतमहापुराण
(तीसरा स्‍कन्‍ध)
अ 24
श्लो 45
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
परम भक्तिभाव के द्वारा सर्वान्‍तर्यामी सर्वज्ञ श्री वासुदेव में चित्‍त स्थिर हो जाने से वे सारे बन्‍धनों से मुक्‍त हो गये ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - श्री कर्दम ऋषि की सन्‍यास धर्म पालन करने की अवस्‍था का यहाँ वर्णन है ।

श्री कर्दम ऋषि भक्ति में लग गये और अपना मन प्रभु में लगा लिया । इसके कारण वे अहंकार, ममता, सुख-दुःख आदि से छूटकर उन्‍होंने अपनी बुद्धि को स्थिर और शान्‍त कर लिया ।

अन्‍तर्मुख होकर प्रभु में अपने चित्त को स्थित करने के कारण वे तत्‍काल सारे बंधनों से मुक्‍त हो गये । जीव के लौकिक बंधनों से मुक्‍त होने का सबसे सटिक उपाय यही है कि भक्ति करके अपने चित्त को प्रभु में केंद्रित कर लेवे । इससे वह सभी बंधनों से छूट जाता है अन्‍यथा लौकिक बंधनों से छूटने का अन्‍य कोई मार्ग या उपाय नहीं है ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 18 जनवरी 2015
237 श्रीमद भागवतमहापुराण
(तीसरा स्‍कन्‍ध)
अ 25
श्लो 15
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
इस जीव के बन्‍धन और मोक्ष का कारण मन ही माना गया है । विषयों में आसक्‍त होने पर वह बन्‍धन का हेतु होता है और परमात्‍मा में अनुरक्‍त होने पर वही मोक्ष का कारण बन जाता है ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - श्री कपिल भगवान ने माता देवहूति के समक्ष भगवत धर्म का उपदेश करते समय उपरोक्‍त बात कही ।

जीव के मन को बंधन और मोक्ष का कारण माना गया है । मन जब विषयों में आसक्‍त होता है तो वह बंधन में बांधता है । वही मन जब परमात्‍मा में लग जाता है तो वह मोक्ष का कारण बन जाता है ।

इसलिए यह नितांत जरूरी है कि मन को संसार के विषयों से हटाकर परमात्‍मा में लगाना चाहिए । मन इतना चंचल है कि वह विषयों के पीछे ही दौड़ता है और कभी तृप्‍त नहीं होता । परमात्‍मा में लगने पर ही मन तृप्‍त हो सकता है इसलिए भक्ति के द्वारा मन को परमात्‍मा में लगाने का प्रयास करना चाहिए ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 25 जनवरी 2015
238 श्रीमद भागवतमहापुराण
(तीसरा स्‍कन्‍ध)
अ 25
श्लो 19
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
योगियों के लिये भगवत्‍प्राप्ति के निमित्‍त सर्वात्‍मा श्रीहरि के प्रति की हुई भक्ति के समान और कोई मंगलमय मार्ग नहीं है ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - श्री कपिल भगवान ने माता देवहूति को उपदेश में उपरोक्‍त बात कही ।

भगवत प्राप्ति के लिए प्रभु की भक्ति के समान अन्‍य कोई मंगलमय मार्ग नहीं है । इस बात का स्‍पष्‍ट प्रतिपादन प्रभु स्‍वयं यहाँ पर करते हैं ।

भक्ति का मार्ग सर्वोच्च है और एक अंधा व्‍यक्ति भी इस पर चलकर प्रभु को प्राप्‍त कर सकता है । अन्‍य सभी साधन मार्ग कठिन और दुलर्भ हैं । इसलिए प्रभु स्‍वयं भक्ति का प्रतिपादन करते हुये इसे प्रभु प्राप्ति का सबसे मंगलमय मार्ग बताते हैं ।

इसलिए जीवन को प्रभु भक्ति में लगाना ही श्रेयस्कर है ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 25 जनवरी 2015
239 श्रीमद भागवतमहापुराण
(तीसरा स्‍कन्‍ध)
अ 25
श्लो 22-23
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... जो मुझमें अनन्‍य भाव से सुदृढ प्रेम करते हैं, मेरे लिये सम्‍पूर्ण कर्म तथा अपने सगे-सम्‍बन्धियों को भी त्‍याग देते हैं और मेरे परायण रहकर मेरी पवित्र कथाओं का श्रवण, कीर्तन करते हैं तथा मुझमें ही चित्‍त लगाये रहते हैं - उन भक्‍तों को सांसार के तरह-तरह के ताप कोई कष्‍ट नहीं पहुँचाते हैं ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - श्री कपिल भगवान ने माता देवहूति को उपदेश में उपरोक्‍त बात कही ।

जो प्रभु से अनन्‍य भाव से दृढ प्रेम करते हैं, जो अपने सभी कर्म प्रभु के लिए और प्रभु को अर्पित करके करते हैं, जो अपने सगे-सम्‍बन्धियों से भी बढकर प्रभु से संबंध रखते हैं, जो प्रभु की कथाओं का श्रवण करते हैं, जो प्रभु की लीलाओं का कीर्तन करते हैं और जो प्रभु में अपने चित्‍त को लगाते हैं - ऐसे भक्‍तों को संसार का कोई भी ताप कष्‍ट नहीं पहुँचा सकता ।

संसार के ताप हमें निरंतर कष्‍ट पहुँचाते रहते हैं । उनसे छूटने का सरल मार्ग प्रभु ने स्‍वयं यहाँ बताया है ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 01 फरवरी 2015
240 श्रीमद भागवतमहापुराण
(तीसरा स्‍कन्‍ध)
अ 25
श्लो 25
श्लोक का हिंदी अनुवाद -
..... उनका सेवन करने से शीध्र ही मोक्षमार्ग में श्रद्धा, प्रेम और भक्ति का क्रमश: विकाश होगा ।


श्लोक में व्यक्त भाव एवं श्लोक से प्रेरणा - प्रभु की कथाओं का महत्‍व बताते हुये उपरोक्‍त वाक्‍य श्री कपिल प्रभु ने कहें ।

प्रभु की कथा आत्‍मज्ञान का उदय हमारे भीतर कराती हैं और हमारे हृदय और कानों को पवित्र करती हैं ।

प्रभु कथा के श्रवण से मोक्ष का मार्ग खुल जाता है और हमारे अन्‍त:करण में प्रभु के लिए श्रद्धा, प्रेम और भक्ति का विकास होता है । प्रभु को पाने के लिए प्रभु के लिए श्रद्धा, प्रेम और भक्ति का विकास होना अत्‍यन्‍त आवश्‍यक है । इन तीनों का विकास प्रभु की कथा करवाती है क्‍योंकि प्रभु कथा हमें प्रभु के दिव्‍य चरित्र और लीलाओ से अवगत करवाती है । प्रभु के पराक्रम, ऐश्‍वर्य एवं प्रभु की कृपा, दया और करूणा से हम रूबरू होते हैं और इस कारण प्रभु के लिए श्रद्धा, प्रेम और भक्ति हमारे अन्‍त:करण में जाग्रत होती है ।

प्रकाशन तिथि : रविवार, 01 फरवरी 2015