श्रीगणेशाय नमः
Devotional Thoughts
Devotional Thoughts Read Articles सर्वसामर्थ्यवान एंव सर्वशक्तिमान प्रभु के करीब ले जाने वाले आलेख, द्वै-मासिक ( हिन्दी एंव अंग्रेजी में )
Articles that will take you closer to OMNIPOTENT & ALMIGHTY GOD, bimonthly (in Hindi & English)
Precious Pearl of Life श्रीग्रंथ के श्लोको पर दो छोटे आलेख ( हिन्दी एंव अंग्रेजी में ), प्रत्येक रविवार
Two small write-ups on Holy text (in Hindi & English), every Sunday
Feelings & Expressions प्रभु के बारे में उत्कथन ( हिन्दी एंव अंग्रेजी में ), प्रत्येक बुधवार
Quotes on GOD (in Hindi & English), every Wednesday
Devotional Thoughts Read Preamble हमारे उद्देश्य एवं संकल्प - साथ ही प्रायः पूछे जाने वाले प्रश्नों के उत्तर भी
Our Objectives & Pledges - Also answers FAQ (Frequently Asked Questions)
Visualizing God's Kindness वर्तमान समय में प्रभु कृपा के दर्शन कराते, असल जीवन के प्रसंग
Real life memoirs, visualizing GOD’s kindness in present time
Words of Prayer प्रभु के लिए प्रार्थना, कविता
GOD prayers & poems
प्रभु प्रेरणा से लेखन द्वारा चन्द्रशेखर करवा

लेख सार : धर्म और नीति के मार्ग से प्रभु तक पहुँचा जा सकता है । भक्ति ऐसा विवेक हमें देती है कि हम धर्म और नीति का अनुसरण करते हैं । पूरा लेख नीचे पढ़े -



अधर्म के बीच रहकर धर्म का पालन करना श्रेष्‍ठता की पहचान है । धर्म के बीच रहकर धर्म का पालन करना साधारण बात है । क्‍योंकि धर्म के बीच रहने पर हमसे अपेक्षा होती है कि हम धर्म का ही पालन करेंगें । पर अधर्म के बीच रहकर धर्म का पालन करना बहुत श्रेष्‍ठ बात है ।


सतयुग के लोग सत्‍यवादी, नीतिवान होते थे । उदाहरण के तौर पर उस युग के व्‍यापारी की सात्विक वृत्ति थी - माप तोल में कमी करना, मिलावट करना, झुठ बोलकर वस्‍तु बेचना इत्‍यादि वे नहीं करते थे । वे सिद्धांत, नैतिकता, नीति-नियम के पक्‍के होते थे जो उनके आचरण में स्‍पष्‍ट दिखता था । सतयुग में सबसे अपेक्षा होती थी कि वे ऐसा ही करें । पर युग परिवर्तन के उपरान्‍त कलियुग में प्रायः अनैतिकता, अनीति, झुठ का बोलबाला है । यहाँ तक की सात्विक वृत्ति के व्‍यापारी को "मूर्ख" माना जाता है । सिद्धांत को ताक पर रखकर व्‍यापार करना, अनीति, झुठ का सहारा लेना, अनैतिक कमाई करने वाला ही समझदार, चतुर एवं सफल व्‍यापारी माना जाता है ।


पर धर्म की दृष्टी इसके ठीक विपरित है । एक मार्मिक प्रसंग यहाँ दृष्टान्त के रूप में ठीक बैठता है । श्रीरामचरितमानस जी के सुन्‍दाकाण्‍ड में जब भक्‍त शिरोमणी श्री हनुमानजी जगजननी माता की खोज में लंका पहुंचे और विभीषणजी से मिले तो विभीषणजी ने कहा की मेरी अवस्‍था तो वैसी है जैसे दांतों के बीच जीभ की होती है । वे दुष्‍टों के बीच रहते थे और सात्विक प्रवति के थे । दुष्‍टों के बीच रहकर भी उन्‍होनें अपने सात्विक प्रवति को बचाये रखा था । प्रभु इससे ही रीझ गये । इस प्रसंग में हरिहर (हरि- प्रभु श्री विष्‍णुजी) और (हर- प्रभु श्री शिवजी) की महिमा भी स्‍पष्‍ट दिखती है । हरिहर एक ही हैं, प्रभु सभी रूप में एक ही हैं प्रभु ही एक रूप में प्रेरणा देते हैं और दुसरे रूप में हमारा उद्धार करते हैं - इस तथ्‍य का दर्शन यहाँ स्‍पष्‍ट रूप से होता है । श्री विभीषणजी ने अपना दुख दर्द "हर" (प्रभु श्रीशिवजी के रूद्रावतार श्री हनुमानजी) को बताया और श्री हनुमानजी ने प्रभु की शरणागति का रास्‍ता दिखाया और विश्‍वास दिलाया कि प्रभु शरण में आने वालो के गुण-दोष देखे बिना शरणागति और अभय प्रदान करते हैं । फिर जब विभीषणजी "हरि" (प्रभु श्रीविष्‍णुजी के रामावतार) के शरण में गये तो प्रभु ने तत्‍काल उन्‍हें अपनी शरण में ले लिया और अभयदान दिया । सुन्‍दरकाण्‍ड की एक बड़ी मार्मिक चौपाई है - "सकुचि दीन्हि रधुनाथ" यानी बड़े सकुचाते हुये (की कही मैं कम तो नहीं दे रहा हूँ) प्रभु ने लंका का अखण्‍ड (कभी खंडित न होने वाला) राज्‍य क्षणभर में दे दिया । जिसको प्राप्‍त करने के लिए रावण ने इतने लम्‍बे समय तक इतना कठीन तप किया था उसे इतने तत्‍काल और बिना तप कैसे प्रभु ने दे दिया । गहराई में जाने पर पता चलता हे कि प्रभु ने अनीति के बीच नीति पालन करने को ही तप मान लिया । और इस तप के फल के रूप में अभयदान एवं अखण्‍ड लंका का राज दे दिया ।


अनीति के बीच नीति का पालन करना बहुत बड़ा तप है और यह प्रभु को अत्‍यन्‍त प्रिय है । जैसे कहा गया है कि धैर्य की परीक्षा विपत्ति में होती है वैसे ही नीति की परीक्षा अनीति के बीच रहकर होती है । किसी के पास बेईमानी का अवसर नहीं है और वह कहे कि मैं ईमानदार हूँ तो उसका कोई खास महत्‍व नहीं । जैसे एक कर्मचारी को सीलबंद तेल का डब्‍बा दे दिया जायेगा कही पहुँचाने हेतु और उसने सही स्थिति में वह डब्‍बा पहुँचा दिया और आकर कहा कि मैनें बेईमानी नहीं की तो इसका कोई खास महत्‍व नहीं है क्‍योंकि उसको बेईमानी करने का अवसर नहीं था । पर एक खुल्‍ला डब्‍बा में वह रास्‍ते में बिना मिलावत करें, सही माल निकालकर नकली भरने का अवसर होने पर भी ऐसा नहीं करें तो वह प्रसंशनीय है ।


एक सुन्‍दर मर्म को मेरे प्रभु श्रीरामजी ने सुन्‍दरकाण्‍ड में विभीषणजी के समक्ष रखा और शरणागति के वक्‍त इसी गुण को बताकर प्रभु ने अपने श्रीवचन में कहा कि - "विभीषण, तुम अधर्म में रहकर भी धर्म का पालन करते हो इसलिए तुम मुझे अतिप्रिय हो " ।


आज के संर्दभ में देखें तो हम माया के बीच रहकर भी प्रभु भक्ति में रहें तो प्रभु को अतिप्रिय होते हैं । भक्ति जगते ही ऐसी प्रभु कृपा होती है कि अधर्म के बीच धर्म, अनीति के बीच नीति को हम स्‍वेच्‍छा से, सरलता से धारण कर लेते हैं ।


अधर्म के बीच धर्म, अनीति के बीच नीति निभाना जैसे दुष्‍टों को बड़ा कठीन जान पडता है वैसे ही भक्‍तों को बड़ा सरल जान पडता है । मेघनाथ में प्रभु भक्ति नहीं थी इसलिए उसके विवेक के नेत्र नहीं खुले पर उसी लंका में रहकर विभीषणजी में भक्ति थी, भक्ति के सभी लक्षण थे इसलिए उनके विवेक के नेत्र खुले थे । विवेक था की धर्म क्‍या है, अधर्म क्‍या है । विवेक था की नीति क्‍या है और अनीति क्‍या है ।


ये "विवेक के नेत्र" भक्ति की देन होती है जो हमें अधर्म करने से रोकती है और धर्म करने की प्रेरणा देती है । दूसरे शब्‍दों में जो हमें पाप कमाने से रोकता है और पूण्‍य अर्जन में सहायक बनती है ।


हम जीवन में पाप से बचते हुये पूण्‍य कर्म की तरफ बढते रहते हैं तो प्रभु के द्वार हमारे लिए खुल जाते हैं जैसे विभीषणजी के लिए खुले । प्रभु ने एक रूप में उन्‍हे प्रेरणा दी और दुसरे रूप में उनका उद्धार कर दिया ।


इसलिए प्रभु की भक्ति को जीवन में अविलम्‍ब लाना चाहिए । इससे हमारा जीवन जीने का दृष्टीकोण ही बदल जायेगा । दृष्टीकोण सात्विक हो जायेगा । मैं बुराई कर सकता हूँ, पाप कर सकता हूँ, अनैतिक कमाई कर सकता हूँ पर मुझे नहीं करना है - यह भाव जग जायेगा । और फिर हम गलत कार्य कभी नहीं करेगें । इस तरह प्रभु के पास पहुँचने का हमारा मार्ग प्रशस्त्र हो जायेगा ।


धन्यवाद ज्ञापन

इस वेबसाइट की कोशिश है कि प्रभु के करीब चले | इस कोशिश में जहाँ जहाँ से हमें सहयोग मिला है उसे अभिस्वीकार करते हुए यहाँ दर्ज “विचारों को फैलाने” में जिन्होंने हमें सहयोग दिया है उनका हम सादर आभार प्रकट करते हैं |

प्रकाशन हेतु :
इन्होने प्रभु के बारे में हमारे लेखन का समालोचन करने के बाद प्रकाशन किया | इनके प्रति हमारा हार्दिक आभार | वर्णक्रमानुसार :
SWARGVIBHA.
ब्लॉग हेतु:
लेख ब्लॉग के रूप में यहाँ उपलब्ध हैं | इन सभी ब्लॉग मंच का धन्यवाद | सभी का आभार | वर्णक्रमानुसार :
HINDIBLOGS, HINDIBLOGSPOT, JAGRANJUNCTION.